कप्तान कोहली पर भड़के कई पूर्व क्रिकेटर, गंभीर ने भी साधा निशाना, कह दी बहुत बड़ी बात

दक्षिण अफ्रीका के पूर्व महान क्रिकेटर डेरिल कलिनन और भारत के संजय मांजरेकर ने गुरुवार को विराट कोहली की मैदान पर उनके व्यवहार के लिए आलोचना की है

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

दक्षिण अफ्रीका के पूर्व महान क्रिकेटर डेरिल कलिनन और भारत के संजय मांजरेकर ने गुरुवार को विराट कोहली की मैदान पर उनके व्यवहार के लिए आलोचना की है, क्योंकि डीन एल्गर के डीआरएस की समीक्षा में बच जाने के बाद टेस्ट कप्तान ने स्टंप माइक के ऊपर नाराजगी व्यक्त की थी। डीआरएस की समीक्षा के बाद एल्गर को एलबीडब्ल्यू से राहत मिलने के बाद कोहली और कुछ अन्य भारतीय खिलाड़ियों ने दक्षिण अफ्रीकी ब्रॉडकास्टर और सुपरस्पोर्ट को भला बुरा कहा था।

अंपायर इरास्मस ने पहले एल्गर को आउट कर दिया था, लेकिन बॉल-ट्रैकिंग तकनीक से पता चला कि गेंद स्टंप्स के ऊपर से जा रही थी, जिसके बाद निर्णय को पलट दिया गया। 54 वर्षीय कलिनन ने ईएसपीएन क्रिकइन्फो से बताया कि कोहली का ऐसा व्यवहार क्रिकेट के मैदान पर अस्वीकार्य था, लेकिन विराट कोहली होने के कारण इससे बच गए हैं।

कुलिनन ने कहा, "मैं विराट कोहली से प्यार करता हूं, मुझे उनका क्रिकेट पसंद है। लेकिन आपको गलती नहीं करनी चाहिए। कुछ मर्यादा रखनी चाहिए और उनको ऐसा कुछ करने से बचना चाहिए था। कोहली का ऐसा व्यवहार क्रिकेट के मैदान पर अस्वीकार्य था, लेकिन विराट कोहली होने के कारण इससे दूर हो गए। वरना मुझे यह बिल्कुल पसंद नहीं है।"


भारत के पूर्व क्रिकेटर से कमेंटेटर बने संजय मांजरेकर ने कहा, "एल्गर को डीआरएस से राहत मिलने के बाद, जो भी हुआ वह मेरे लिए काफी अलग था, क्योंकि भारतीय खेमे की ओर से यह कहा गया था कि मेजबान प्रसारक यह सुनिश्चित करने के लिए कुछ शरारत कर रहे थे कि वे अपनी घरेलू टीम को लाभ पहुंचाए। यह एक बहुत ही गंभीर प्रकार का आक्षेप है। मुझे भी यह अच्छा नहीं लगा।"

भारत के पूर्व क्रिकेटर गौतम गंभीर ने कोहली की प्रतिक्रिया पर आलोचना करते हुए इसे अपरिपक्व करार दिया। पूर्व खिलाड़ी ने कहा कि इस तरह की प्रतिक्रिया युवा क्रिकेटरों के लिए एक खराब उदाहरण पेश करती है। गंभीर ने स्टार स्पोर्ट्स से कहा, "कोहली बहुत अपरिपक्व हैं। किसी भारतीय कप्तान के लिए स्टंप्स में ऐसा कहना सबसे बुरा है। ऐसा करने से आप कभी भी युवाओं के आदर्श नहीं बनेंगे।"

उन्होंने आगे कहा, "कोहली ने जो किया वह वास्तव में बुरा है। स्टंप माइक के पास जाकर उस तरह से प्रतिक्रिया करना, वह वास्तव में अपरिपक्व है। आप एक भारतीय कप्तान से ऐसी उम्मीदें नहीं करते हैं, क्योंकि तकनीक आपके हाथ में नहीं है।"

गंभीर ने एल्गर को लेकर कहा कि सेंचुरियन में शुरुआती टेस्ट के दौरान भारत के बल्लेबाज मयंक अग्रवाल के आउट न होने पर उन्होंने कितनी शांति से प्रतिक्रिया दी। गंभीर ने कहा, "जब मयंक की लेग-साइड पर कैच-बैक की अपील थी, तब डीन एल्गर ने उस तरह से प्रतिक्रिया नहीं दी थी, जैसे कोहली ने दी है। उन्होंने कहा कि मुख्य कोच राहुल द्रविड़ इस तरह के व्यवहार को रोकने के लिए कोहली से बात करें।"


मुझे उम्मीद है कि राहुल द्रविड़ उनसे बात करेंगे, क्योंकि द्रविड़ जिस तरह के कप्तान थे, उन्होंने कभी इस तरह की प्रतिक्रिया नहीं दी होती। तीसरे दिन का खेल खत्म होने तक साउथ अफ्रीका 101/2 है, श्रृंखला जीतने के लिए 111 रनों की आवश्यकता है। वहीं, भारत को सीरीज जीतने के लिए 8 विकेट लेने होंगे।

तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह के विकेट लेने से पहले एल्गर ने 96 गेंदों में 30 रन बनाए। दक्षिण अफ्रीका के पूर्व तेज गेंदबाज महान शॉन पोलक ने कहा, "भारत विकेट लेने के लिए बेताब था और उसके बाद उन्होंने ऐसी प्रतिक्रियाएं दी, जिसके बाद एल्गर भी नॉट आउट करार दिए।"

आईएएनएस के इनपुट के साथ

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia