अर्थजगत की खबरें: एयर इंडिया पर लगा 10 लाख रुपये का जुर्माना और महंगी EMI के लिए रहिए तैयार, लगातार दरें बढ़ाएगा RBI!

वैध टिकट होने पर भी यात्रियों को बोर्डिंग से मना करने पर विमानन निदेशालय डीजीसीए ने एयर इंडिया पर 10 लाख रुपये जुर्माना भी लगाया है और फिच रेटिंग्स ने वैश्विक आर्थिक परिदृश्य के अपने ताजा अपडेट में कहा कि RBI दिसंबर अंत तक ब्याज दरों को 5.9 फीसदी तक बढ़ाएगा।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

भारी उतार-चढ़ाव के बीच सेंसेक्स 153 अंक गिरकर बंद, निफ्टी 15,800 के नीचे

आज मंगलवार को भारतीय शेयर बाजारों में भारी उतार-चढ़ाव देखने को मिला। सुबह गिरावट के साथ खुले बाजार दिन में हरे निशान में ट्रेड करने लगे। इंट्रा डे में निफ्टी ने 150 अंकों से ज्यादा की रिकवरी दिखाई लेकिन ऊपरी स्तरों पर टिकने में नाकामयाब रहा। ऊपरी स्तरों से बिकवाली देखने को मिली और निफ्टी फिर से 15700 के नीचे चला गया। कारोबार के अंत में सेंसेक्स 153.13 अंक गिरकर 52693.57 पर बंद हुए। वहीं निफ्टी 42.30 अंक लुढ़क कर 15732.10 पर क्लोज हुआ। आज भी निफ्टी 15,800 के नीचे ही क्लोज हुआ. वहीं, बैंक निफ्टी में 94.50 अकों की गिरावट दिखी और यह बैंकिंग इंडेक्स 33311.35 के लेवल पर क्लोज हुआ। भारतीय रुपया सोमवार के 78.03 के मुकाबले 77.99 प्रति डॉलर पर मामूली रूप से ऊपर बंद हुआ।

फोटोः IANS
फोटोः IANS

एयर इंडिया पर लगा 10 लाख रुपये का जुर्माना, जानें क्यो?

वैध टिकट होने पर भी यात्रियों को बोर्डिंग से मना करने पर विमानन निदेशालय डीजीसीए ने एयर इंडिया पर 10 लाख रुपये जुर्माना भी लगाया है। साथ ही कंपनी को बोर्डिंग के संबंध में स्‍पष्‍ट नीति बनाने का भी आदेश दिया है। लगातार मिल रही शिकायतों के बाद नागर विमानन महानिदेशालय ने अब एयरलाइन्‍स के लिए बोर्डिंग से संबंधित नई गाइडलाइन्‍स जारी कर दी है। 14 जून को जारी एक प्रेस रिलीज में डीजीसीए ने कहा कि नई गाइडलाइन का पालन करना प्रत्‍येक एयरलाइन के लिए जरूरी है। डीजीसीए की नई गाडइलाइन्‍स के अनुसार, अगर किसी यात्री के पास वैध टिकट है और वो बोर्डिंग के वक्‍त मौजूद है, फिर भी अगर एयरलाइन उसे बोर्डिंग से मना करती है तो एयरलाइन को 10 हजार रुपये हर्जाना देना होगा। यह हर्जाना यात्री के लिए 24 घंटे में वैकल्पिक व्‍यवस्‍था करने पर देना होगा। अगर एयरलाइन 24 घंटे में कोई वैकल्पिक व्‍यवस्‍था यात्री के लिए नहीं कर पाती है तो उसे 20 हजार रुपये तक हर्जाना देना होगा।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया

महंगी EMI के लिए रहिए तैयार, RBI दिसंबर अंत तक ब्याज दरों को 5.9 फीसदी तक बढ़ाएगा!

फिच रेटिंग्स ने वैश्विक आर्थिक परिदृश्य के अपने ताजा अपडेट में कहा कि भारत की अर्थव्यवस्था बिगड़ते बाहरी माहौल, कमोडिटी कीमतों में बढ़ोतरी और सख्त ग्लोबल मॉनिटरी पॉलिसी का सामना कर रही है। इसके असर से भारतीय इकोनॉमी के ऊपर काफी दबाव आ सकता है। फिच रेटिंग्स ने आज कहा कि भारतीय रिजर्व बैंक दिसंबर 2022 तक ब्याज दरों को 5.9 फीसदी तक बढ़ा सकता है। रेटिंग एजेंसी ने कहा, "महंगाई दर के लिए बिगड़ते परिदृश्य को देखते हुए, अब हमें उम्मीद है कि आरबीआई ब्याज दर को बढ़ाकर दिसंबर 2022 तक 5.9 फीसदी और 2023 के अंत तक 6.15 फीसदी (जबकि पिछला पूर्वानुमान पांच फीसदी था) कर सकता है और 2024 में इसके बिना किसी बदलाव के रहने की उम्मीद है।" पिछले महीने यानी मई में तय कार्यक्रम के बिना एक नीति घोषणा में भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने दरों को 0.40 फीसदी बढ़ाकर 4.4 फीसदी कर दिया था, और बाद में पिछले हफ्ते इसे और बढ़ाकर 4.9 फीसदी कर दिया।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया

मई में भारत की ईंधन मांग में सालाना आधार पर 22 फीसदी की वृद्धि

एसएंडपी ग्लोबल कमोडिटी इनसाइट्स ने एक नोट में कहा कि मई में भारत के तेल उत्पाद की मांग 2021 में कम आधार से 860,000 बैरल प्रति दिन या 22 प्रतिशत सालाना आधार पर थी। मई की मांग इसके विकास पूर्वानुमान से लगभग 80,000 बैरल अधिक थी, आंशिक रूप से परिवहन की अपेक्षा से अधिक मजबूत मांग और सरकार द्वारा गश्त पर उत्पाद शुल्क में 8 रुपये प्रति लीटर और डीजल पर 6 रुपये प्रति लीटर की कटौती की घोषणा के कारण, जिसने मांग के लिए कुछ समर्थन प्रदान किया।

साल-दर-साल आधार पर, मांग में वृद्धि डीजल, पेट्रोल और अन्य छोटे उत्पादों से प्रेरित थी, जो क्रमश: 416,000 बैरल प्रति दिन, 282,000 बैरल प्रति दिन और 161,000 बैरल प्रति दिन थी।मिट्टी के तेल/जेट ईंधन और ईंधन तेल ने भी सकारात्मक वृद्धि दर्ज की, क्रमश: 67,000 बैरल और 25,000 बैरल की वृद्धि हुई। लेकिन नेफ्था द्वारा विकास को आंशिक रूप से ऑफसेट किया गया था, जो एलपीजी की मांग स्थिर रहने के साथ प्रति दिन 95,000 बैरल गिर गया था।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया

लीक ईमेल में मस्क ने कहा- टेस्ला के लिए बहुत कठिन रही तिमाही

टेक अरबपति एलन मस्क ने कहा है कि उनकी इलेक्ट्रिक वाहन कंपनी टेस्ला के लिए 'बहुत कठिन तिमाही' थी और उसे समागमन करने की जरूरत है। ऑटो-टेक वेबसाइट इलेक्ट्रेक के अनुसार, सप्ताहांत में, टेस्ला के सीईओ ने कर्मचारियों को ईमेल भेजे और पहले ईमेल में मस्क ने श्रमिकों को टेस्ला प्रोडक्ट्स के निर्माण के बारे में अर्थ बताने की कोशिश की।

मस्क के हवाले से कहा गया, "हम वास्तव में महान, वास्तविक उत्पादों का निर्माण करते हैं जिन्हें लोग पसंद करते हैं और अपने जीवन और दुनिया को बेहतर बनाते हैं। यह एक ईमानदारी से किया गया दिन का काम है जिसे आप अपने दिल में महसूस कर सकते हैं।" उन्होंने कहा, "इस अस्त-व्यस्त दुनिया में और जो कुछ भी चल रहा है, उसे जान लें कि कम से कम आप जो कर रहे हैं वह अच्छाई है और वॉल सेंट के सबसे अमीर व्यक्ति की तुलना में मेरे मन में आपके लिए असीम रूप से अधिक सम्मान और प्रशंसा है।" अगला ईमेल अधिक परिचित था। मस्क अक्सर डिलीवरी को बढ़ाने के लिए तिमाही के अंत में सैनिकों को समागमन करने के लिए ईमेल भेजते हैं और यह उन ईमेलों में से एक है। सीईओ ने लिखा कि यह एक 'बहुत कठिन तिमाही' थी और कर्मचारियों को 'ठीक होने के लिए कठिन रैली' की आवश्यकता थी।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia