कांग्रेस ने 'आप' को बताया 'अरविंद एडवरटाइजमेंट पार्टी', विज्ञापन और रोजगार को लेकर आंकड़ों के साथ साधा निशाना

कांग्रेस पार्टी ने आम आदमी पार्टी (आप) पर करारा हमला बोला है। कांग्रेस नेता अजॉय कुमार ने प्रेस-कॉन्फ्रेंस कर दिल्ली और पंजाब की सरकार पर आंकड़ों के जरिए निशाना साधा।

दिल्ली में प्रेस कॉन्फ्रेंस करते कांग्रेस नेता अजॉय कुमार।
दिल्ली में प्रेस कॉन्फ्रेंस करते कांग्रेस नेता अजॉय कुमार।
user

रवि प्रकाश

कांग्रेस पार्टी ने आम आदमी पार्टी (आप) पर करारा हमला बोला है। कांग्रेस नेता अजॉय कुमार ने मंगलवार को प्रेस-कॉन्फ्रेंस कर दिल्ली और पंजाब की सरकार पर आंकड़ों के जरिए निशाना साधा। कांग्रेस नेता ने आप पर तंज कसते हुए कहा कि आज प्रेसवार्ता में अरविंद एडवरटाइजमेंट पार्टी, अरविंद एक्टर्स पार्टी या अरविंद ऐश पार्टी में से किसी एक नाम को ले सकते हो।

अजॉय कुमार ने दिल्ली सरकार द्वारा 2015 से अब तक विज्ञापन पर किए गए खर्च के आंकड़े बताए। उन्होंने बतया कि, 2015 में AAP ने विज्ञापन के माध्यम से ₹81 करोड़ अलग-अलग अखबारों और टीवी चैनलों को दिए थे, फिर 2017-18 में ₹117 करोड़, 2019 में ₹200 करोड़, 2021-22 में ₹490 करोड़ के आस-पास विज्ञापन दिए गए।


विज्ञापन पर 19 करोड़ और योजना पर मात्र 20 लाख रुपए हुए खर्च

कांग्रेस ने कहा कि दिल्ली AAP सरकार ने छात्र ऋण योजना के विज्ञापन पर 19 करोड़ रुपए खर्च किए थे, लेकिन इस योजना के अंतर्गत सिर्फ 2 छात्रों को ऋण दिया। केजरीवाल सरकार के एक और योजना का भी यही हाल रहा। अजॉय कुमार ने बताया कि दिल्ली की AAP सरकार ने स्टबल डी-कम्पोजर के विज्ञापन पर 23 करोड़ रुपए खर्च किए; लेकिन स्टबल डी-कम्पोजर पर मात्र 5 लाख रुपए का काम हुआ है।

अरविंद एक्टर्स पार्टी (AAP) का पॉलिटिकल मॉडल

दिल्ली सरकार पूरे देश में अपनी शिक्षा मॉडल को सबसे बेहतर बताती है। कांग्रेस ने इस पर भी सवाल उठाए हैं। कांग्रेस ने पूछा कि दिल्ली की AAP सरकार का अगर शिक्षा मॉडल बढ़िया है, तो फिर सरकारी स्कूल को बच्चे छोड़कर प्राइवेट स्कूलों में क्यों जा रहे हैं।

कांग्रेस नेता ने कहा कि कोरोना काल में जरूर दिल्ली के सरकारी स्कूलों में बच्चे बढ़े थे, लेकिन उसके बाद से वो सभी प्राइवेट स्कूलों में चले गए। वहीं पासिंग प्रतिशत के मुद्दे पर उन्होंने कहा कि शिक्षा दीक्षित सरकार में 12वीं के 90 प्रतिशत छात्रा परिक्षा पास होने में सफल होते थे, लेकिन अब यह आंकड़ा गिरकर 81 फीसद पर आ चुका है। कांग्रेस ने पूछा कि क्या यही है सबसे बढ़िया शिक्षा मॉडल।


नौकरी को लेकर केजरीवाल ने बोला झूठ?

कांग्रेस नेता ने कहा कि अरविंद केजरीवाल बोलते रहते हैं कि उन्होंने 10 लाख नौकरी दी हैं। लेकिन सच्चाई कुछ और है। अजय कुमार ने कहा कि 2018 में 1, 2019 में 260 और 2020 में 23 लोगों की ही नौकरी मिली।

पंजाब सरकार ने भी विज्ञापन पर करोड़ों खर्च किए

पंजाब सरकार पर हमला बोलते हुए कांग्रेस नेता ने कहा कि पंजाब में आप की सरकार कर्मचारियों को तनख्वाह नहीं दे पा रही है, लेकिन टीवी चैनल वालों को खुश करने में कोई कोर कसर नहीं छोड़ रही आप सरकार। इनसे टीवी चैनलों के मालिक बहुत खुश हैं। उन्होंने कहा कि पिछले 2 महीने में भगवंत मान सरकार ने गुजरात में टीवी चैलनों और अखबरों के विज्ञापन में 36 करोड़ रुपए खर्च कर दिए, लेकिन उनके पास वेतन देने के पैसे नहीं हैं।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia