अग्निपथ योजना का विरोध: सिकंदराबाद हिंसा के मुख्य आरोपियों की पहचान हुई

रेलवे पुलिस ने यहां सिकंदराबाद रेलवे स्टेशन पर 17 जून को हुई हिंसा के मुख्य आरोपियों की पहचान कर ली है। 20 वर्षीय मधुसूदन को मामले में आरोपी नंबर एक के रूप में नामित किया गया है।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

आईएएनएस

रेलवे पुलिस ने यहां सिकंदराबाद रेलवे स्टेशन पर 17 जून को हुई हिंसा के मुख्य आरोपियों की पहचान कर ली है। 20 वर्षीय मधुसूदन को मामले में आरोपी नंबर एक के रूप में नामित किया गया है। वह कामारेड्डी जिले के येल्लारेड्डी का रहने वाला है।

पुलिस ने कोर्ट में पेश रिमांड रिपोर्ट में इसका खुलासा किया और निष्कर्ष निकाला कि सेना भर्ती के लिए अग्निपथ योजना के विरोध में हिंसा पूर्व नियोजित थी।

पुलिस ने कहा कि कुछ निजी कोचिंग संस्थानों ने सेना में नौकरी के इच्छुक उम्मीदवारों को हिंसा के लिए उकसाया। इसी मुद्दे पर बिहार के रेलवे स्टेशनों पर हुई हिंसा से प्रेरणा लेकर युवाओं को भड़काने और उन्हें जुटाने के लिए व्हाट्सएप ग्रुप बनाए गए थे।

पुलिस ने हिंसा के संबंध में दर्ज मामलों में 56 को आरोपी बनाया है। जबकि 46 आरोपी पहले ही गिरफ्तार किए जा चुके हैं, बाकी आरोपियों की तलाश की जा रही है।

पुलिस के मुताबिक, करीब दो हजार प्रदर्शनकारी गेट नंबर तीन से राज्य में दाखिल हुए थे। उनमें से कुछ लाठी और पेट्रोल की बोतलों से लैस थे। वे सभी प्लेटफार्मो पर पहुंच गए और पथराव किया। उन्होंने कुछ ट्रेनों के डिब्बों को क्षतिग्रस्त कर दिया।

प्रदर्शनकारियों ने तीन ट्रेनों के चार डिब्बों में आग लगा दी। उन्होंने दो इंजनों को आग लगाने की कोशिश की, जिसमें भारी मात्रा में ईंधन था। जब उन्होंने तितर-बितर होने की चेतावनियों पर ध्यान नहीं दिया, तब रेलवे सुरक्षा बल (आरपीएफ) ने गोलियां चला दीं। फायरिंग में एक व्यक्ति की मौत हो गई और 12 घायल हो गए थे।

इस बीच, पुलिस ने कथित तौर पर पांच लोगों को हिरासत में लिया है, जो व्हाट्सएप ग्रुपों से जुड़े थे। इन ग्रुपों के माध्यम से युवाओं को निर्देश दिए गए कि विरोध प्रदर्शन के लिए कहां और कब पहुंचना है।

एक संबंधित घटनाक्रम में, खुफिया एजेंसियों ने सोमवार को पड़ोसी राज्य आंध्र प्रदेश स्थित साई रक्षा अकादमी में तलाशी ली।

सेंट्रल इंटेलिजेंस के अधिकारियों ने प्लेनाडु जिले के नरसरावपेट में अकादमी की शाखा में तलाशी ली। उन्होंने पूर्व सैनिक निदेशक ए. सुब्बा राव से पूछताछ की, जिन्हें सिकंदराबाद हिंसा में उनकी कथित भूमिका के लिए पूछताछ के लिए पुलिस पहले ही हिरासत में ले चुकी है।

इस बीच, रेलवे पुलिस द्वारा गिरफ्तार किए गए युवकों के माता-पिता उनसे मिलने के लिए हैदराबाद के चंचलगुडा केंद्रीय कारागार गए। उनमें से कुछ अपने बच्चों से मिलकर रोते देखे गए। उन्होंने दावा किया कि उनके बच्चे निर्दोष हैं। उन्हें इस बात की कोई जानकारी नहीं थी कि वे विरोध के लिए सिकंदराबाद स्टेशन जा रहे हैं।

गिरफ्तार युवकों के माता-पिता ने कहा कि असली दोषियों का पता लगाने के लिए गहन जांच होनी चाहिए।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia