तालिबान का कश्मीर पर बड़ा बयान, कहा- हमें वहां के मुसलमानों के लिए आवाज उठाने का अधिकार

दोहा में तालिबान के राजनीतिक कार्यालय के प्रवक्ता सुहैल शाहीन ने कहा है कि समूह को कश्मीर सहित कहीं भी मुसलमानों के लिए आवाज उठाने का अधिकार है। जियो न्यूज की रिपोर्ट में यह कहा गया।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

अफगानिस्तान पर कब्जा करने के बाद तालिबान ने कश्मीर को लेकर बड़ा बयान दिया है। दोहा में तालिबान के राजनीतिक कार्यालय के प्रवक्ता सुहैल शाहीन ने कहा है कि समूह को कश्मीर सहित कहीं भी मुसलमानों के लिए आवाज उठाने का अधिकार है। जियो न्यूज की रिपोर्ट में यह कहा गया। बीबीसी उर्दू के साथ जूम इंटरव्यू में शाहीन ने यह भी कहा कि तालिबान की किसी देश के खिलाफ हथियार उठाने की नीति नहीं है।

जियो न्यूज के अनुसार, उन्होंने कहा, मुसलमान होने के नाते, हमें कश्मीर या किसी अन्य देश में मुसलमानों के लिए अपनी आवाज उठाने का अधिकार है। शाहीन के अनुसार, हम अपनी आवाज उठाएंगे और कहेंगे कि मुसलमान आपके अपने लोग हैं, आपके अपने नागरिक हैं। वे आपके कानूनों के तहत समान अधिकारों के हकदार हैं।

हक्कानी नेटवर्क पर एक सवाल के जवाब में, प्रवक्ता ने कहा कि ऐसा कोई समूह नहीं है और वे फगानिस्तान के इस्लामी अमीरात का हिस्सा हैं। रविवार को, जियो न्यूज के साथ एक साक्षात्कार में, शाहीन ने कहा था कि 31 अगस्त के बाद वाशिंगटन को अफगानिस्तान पर हमला करने का कोई अधिकार नहीं होगा, जब उसके सैनिकों की वापसी पूरी हो जाएगी।

एक समाचार तार के अनुसार, काबुल हवाई अड्डे पर एक आत्मघाती बम विस्फोट के एक दिन बाद अमेरिका ने पूर्वी अफगानिस्तान में दाएश हमले के योजनाकार के खिलाफ एक ड्रोन हमला शुरू किया था।

जियो न्यूज ने कहा कि एक सवाल के जवाब में कि क्या अमेरिका ने तालिबान की सहमति से ड्रोन हमला किया था, शाहीन ने कहा था कि तालिबान के नेतृत्व वाली सरकार 31 अगस्त के बाद अफगानिस्तान में इस तरह के किसी भी हमले को रोक देगी।

इससे पहले 19 अगस्त को शाहीन ने चीन के सीजीटीएन टेलीविजन को दिए इंटरव्यू में कहा था कि चीन भविष्य में अफगानिस्तान के विकास में योगदान दे सकता है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia