बिहार: रामविलास पासवान के बयान पर नीतीश कुमार की मुहर, लोकसभा चुनाव से पहले बीजेपी से दूरी बढ़ने के संकेत 

रामविलास पासवान ने कहा था की बीजेपी को अपनी अल्पसंख्यक विरोधी समझ को तोड़ना होगा और साथ ही सोशल इंजीनियरिंग को मजबूत करना होगा, नहीं तो 2019 के लोकसभा चुनाव में भारी दिक्कत हो सकती है।

फोटो: सोशल मीडिया 
फोटो: सोशल मीडिया

नियाज़ आलम

ऐसा लगता है कि एनडीए के घटक दल अब बीजेपी के हिंदुत्व और अल्पसंख्यक विरोधी नीति से परेशान होने लगे हैं। 18 मार्च को अल्पसंख्यकों को लेकर केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान के दिए बयान पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने साफ तौर पर कहा है कि रामविलास पासवान बड़े नेता हैं। उन्होंने जो कुछ भी बोला है वह सोच समझ कर बोला है। उनसे हमारी भी बात हुई है। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि बीजेपी क्या सोचती है, यह वही जाने।

उन्होंने कहा है कि राजनीति में हर कोई स्वतंत्र है। हर किसी के काम करने का तरीका और रास्ता अलग है। मैं बीजेपी का सदस्य तो नहीं हूं, जो उसकी तरफ से कुछ कहूं। हां, अगर एनडीए की बात करते हैं तो हमारी सरकार में आपको किसी भी तरह से अल्पसंख्यकों की अनदेखी नजर नहीं आएगी।

उन्होंने आगे कहा कि हमारा तो स्पष्ट कहना है कि समाज में सबको साथ लेकर चलना है। उन्होंने कहा कि हमारी सरकार ने अल्पसंख्यकों के कल्याण के लिए कितनी योजनाएं बनाई हैं। कितना काम किया है। ये कभी बैठिएगा तो एक-एक कर बताएंगे। नीतीश के इस बयान से यह अंदाजा लगाया जा रहा है कि लोकसभा चुनाव से पहले बिहार और केंद्र की राजनीति में कुछ बड़ा तो जरूर होने वाला है। जिस तरह से नीतीश कुमार ने रामविलास पासवान के बयान का समर्थन करते हुए कहा है की उनसे बात हुई है। इसका स्पष्ट संकेत ये समझ जा सकता है कि नीतीश कुमार अपनी सरकार में बीजेपी के साथ हुए गठबंधन को लेकर सतर्क जरूर हैं और कभी भी अपनी छवि अल्पसंख्यक विरोधी नहीं बनने देने के मूड में हैं।

दरअसल, केंद्रीय खाद्य और उपभोक्ता मंत्री रामविलास पासवान ने पटना में आयोजित एक संवाददाता सम्मेलन के दौरान बीजेपी को नसीहत दे डाली थी। उन्होंने कहा था की बीजेपी को अपनी अल्पसंख्यक विरोधी समझ को तोड़ना होगा और साथ ही सोशल इंजीनियरिंग को मजबूत करना होगा, नहीं तो 2019 के लोकसभा चुनाव में भारी दिक्कत हो सकती है।

इससे पहले जमुई से लोक जनशक्ति पार्टी के सांसद और रामविलास पासवान के बेटे चिराग पासवान ने भी उत्तर प्रदेश उपचुनाव में हार पर बीजेपी को नसीहत दी थी।

Published: 19 Mar 2018, 7:15 PM
लोकप्रिय