वीडियो: चिंतन शिविर को लेकर कांग्रेस नेताओं ने रखी अपनी बात, बताया देश और पार्टी के प्रति कर्तव्यों का कैसे करें निर्वहन

यूथ कांग्रेस के अध्यक्ष बीपी श्रीनिवास, कांग्रेस नेता लालजी देसाई और यूथ कांग्रेस महासचिव सीताराम लांबा ने कांग्रेस के इस चिंतन शिविर को लेकर अपनी बात रखी है और बताया कि इस चिंतन शिविर में लिए गए सकारात्मक निर्णयों को लेकर कैसे आगे बढ़ा जाए।

फोटो: INC
फोटो: INC
user

नवजीवन डेस्क

कांग्रेस के तीन दिवसीय नवसंकल्प चिंतन शिविर (Congress Navsankalp Chintan Shivir) का आज दूसरा दिन है। चिंतन शिविर के दूसरे दिन आंतरिक चर्चाओं का दौर जारी रहेगा। इससे पहले शुक्रवार को चिंतन शिविर की शुरुआत करते हुए पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) ने दो टूक कहा कि संगठन के सामने अभूतपूर्व स्थिति है। हमें सुधारों और रणनीति में बदलाव की सख्त जरूरत है। उन्होंने कहा कि असाधारण परिस्थितियों का सामना असाधारण तरीके से ही किया जा सकता है।

वहीं इस चिंतन शिविर को लेकर कांग्रेस नेताओं की राय भी सामने आई है। यूथ कांग्रेस के अध्यक्ष बीपी श्रीनिवास, कांग्रेस नेता लालजी देसाई और यूथ कांग्रेस महासचिव सीताराम लांबा ने इस चिंतन शिविर को लेकर अपनी प्रतिक्रिया दी है।

यूथ कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्रीनिवास का कहना है कि इस चिंतन शिविर में लिए गए सकारात्मक निर्णयों को लेकर हम आगे बढ़ेंगे और यह ऊर्जा व संकल्प, पंक्ति के अंतिम व्यक्ति तक पहुंचाकर, देश और पार्टी के प्रति अपने कर्तव्यों का निर्वहन करेंगे।

कांग्रेस नेता लालजी देसाई का कहना है कि हर संगठन को कुछ समय के बाद अपना मूल्यांकन और समीक्षा करनी ही चाहिए। ऐसी समीक्षा से हमारी चुनौतियों, शक्तियों और कमियों का आंकलन संभव हो पाता है।

वहीं यूथ कांग्रेस के महासचिव सीताराम लांबा ने कहा कि इस देश के युवाओं के लिए हमारी क्या नीतियां होनी चाहिए, इस चिंतन शिविर में हम इसपर सकारात्मक विचार कर रहे हैं। बेरोजगारी से लड़ रहे युवाओं के लिए कैसे हम एक बड़ी लड़ाई लड़ेंगे, उसपर परिचर्चा हो रही है।

वहीं गुजरात कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष अर्जुन मोधवाडिया ने कहा कि आज हम एक ऐसे मोड़ पर खड़े हैं, जहां देश की अर्थव्यवस्था गिर चुकी है और महंगाई आसमान छू रही है। ऐसे हालातों में कांग्रेस को आम जनता की मदद करने के लिए खुद में क्या बदलाव लाने होंगे, इस चिंतन शिविर में हम उसी पर मंथन कर रहे हैं।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia