'अगर मुझे कुछ होता है तो इसके जिम्मेदार मेरे माता-पिता होंगे', कर्नाटक ऑनर किलिंग मामले में पुलिस को सौंपी गई ऑडियो क्लीप

दिल-दहला देने वाली घटना कर्नाटक के मैसूर जिले के पेरियापटना थाना क्षेत्र की है। कागगुंडी गांव निवासी सुरेश ने सोमवार को अपनी 17 वर्षीय बेटी शालिनी की एक दलित लड़के से प्रेम करने पर हत्या कर दी। मृतक लड़की ने लड़के से बातचीत के दौरान अपनी मौत के लिए अपने माता-पिता और रिश्तेदारों को जिम्मेदार ठहराया।

फोटो:  सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

आईएएनएस

दलित लड़के के साथ संबंध होने के कारण नाबालिग लड़की की उसके पिता द्वारा कथित तौर पर हत्या की ऑडियो क्लिप गुरुवार को पुलिस को सौंपी गई। ऑडियो में शालिनी ने अपनी मौत के मामले में अपने माता-पिता को जिम्मेदार ठहराया है। इस बीच पुलिस ने उसकी मां को हिरासत में ले लिया है।

दिल-दहला देने वाली घटना कर्नाटक के मैसूर जिले के पेरियापटना थाना क्षेत्र की है। कागगुंडी गांव निवासी सुरेश ने सोमवार को अपनी 17 वर्षीय बेटी शालिनी की एक दलित लड़के से प्रेम करने पर हत्या कर दी। मृतक लड़की ने लड़के से बातचीत के दौरान अपनी मौत के लिए अपने माता-पिता और रिश्तेदारों को जिम्मेदार ठहराया। उसने लड़के से अपनी कॉल रिकॉर्ड करने और अगर उसे कुछ हुआ, तो पुलिस को सौंपने के लिए भी कहा।

हत्या से पहले लड़की ने लड़के से कहा, "मेरे माता-पिता ने ऑब्जर्वेशन होम के अधिकारियों को लिखित में दिया था कि मैं अपना जीवन जी सकती हूं और जिसे मैं चाहती हूं, उससे शादी कर सकती हूं और वे मुझे परेशान नहीं करेंगे। उन्होंने मुझे हमारे एक रिश्तेदार के घर में रखा है। कृपया मेरी कॉल रिकॉर्ड करें। मैं अच्छा नहीं लग रहा। लगता है कोई षडयंत्र चल रहा है।"

उन्होंने आगे कहा, "मेरे अपहरण, हत्या के मामले में, यह ऑडियो क्लिप अधिकार क्षेत्र की पेरियापटना पुलिस और डीजी और आईजीपी को दें। अगर कुछ होता है, तो मेरे माता-पिता और रिश्तेदारों को जिम्मेदार होना चाहिए।"

पुलिस उसके माता-पिता सुरेश और मां बेबी से पूछताछ कर रही है। दलित लड़के मंजूनाथ ने पुलिस को सूचित किया कि लड़की के माता-पिता ने उसे मारने के लिए 2 लाख रुपये सुपारी दी और उसके खिलाफ थाने में तीन झूठी शिकायतें दर्ज कराई थीं।

पुलिस सूत्रों के अनुसार, उन्हें शालिनी द्वारा लिखा गया एक पत्र मिला है, जिसमें कहा गया है कि उसकी मृत्यु के मामले में लड़के को जिम्मेदार नहीं ठहराया जाए। उसके लिखे पत्र में कहा गया है, "मैं जातिगत भेदभाव का शिकार हो गई हूं। मुझे एक दलित लड़के से प्यार हो गया, मेरे पिता ने मुझे गालियां दीं और मेरे साथ मारपीट की। मेरे माता-पिता अपनी बेटी से ज्यादा जाति से प्यार करते हैं।"

बेटी की हत्या करने के बाद सुरेश ने थाने आकर अपना जुर्म कबूल कर लिया। पुलिस ने बताया कि आरोपी ने अपनी बेटी की गला दबाकर हत्या की है।

कर्नाटक में उच्च जाति के रूप में माने जाने वाले वोक्कालिगा समुदाय से संबंधित शालिनी द्वितीय पीयूसी की पढ़ाई कर रही थी और पड़ोस के मेलहल्ली गांव के एक दलित लड़के से प्यार करती थी। पुलिस ने कहा कि वे पिछले तीन साल से प्यार में थे।

उनके अफेयर की जानकारी होने पर माता-पिता ने लड़के के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई थी, क्योंकि लड़की नाबालिग थी। लड़की ने थाने में अपने माता-पिता के खिलाफ बयान दिया था।

उसने पुलिस को यह भी बताया था कि वह लड़के से प्यार करती है और उसने अपने माता-पिता के साथ जाने से इनकार कर दिया था।्

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia