दिल्ली में बुल्डोजर के खिलाफ मार्च, 12 से अधिक संगठनों ने उपराज्यपाल आवास की ओर किया कूच

ऑल इंडिया किसान महासभा के सेक्रेटरी पुरुषोत्तम मिश्रा ने बताया, यह प्रदर्शन देशभर में गरीबों के ऊपर चल रहे बुल्डोजर के खिलाफ है। अतिक्रमण हटाओ के नाम पर लगातार हमले हो रहे हैं। इस हमले के खिलाफ यह विरोध है

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

देश की राजधानी में चल रहे बुल्डोजर के खिलाफ सियासत के बीच सीपीआई और अन्य दलों ने इसके खिलाफ प्रदर्शन करना शुरू कर दिया है। बुधवार को दर्जन भर से अधिक संगठनों ने दिल्ली के उपराज्यपाल आवास तक नागरिक मार्च निकाला। हालांकि भारी पुलिस बल के बीच सभी प्रदर्शनकारियों को पहले ही रोक दिया गया। तमाम लोगों ने बुल्डोजर के खिलाफ सरकार को घेरा और नारेबाजी भी की। वहीं हाथों में तख्ती लेकर साम्प्रदायिक महौल के खिलाफ भी नारेबाजी की।

इस प्रदर्शन में सीपीआई, सीपीआई (एम), सीपीआई (एमएल), एआईएफबी, आरएसपी आदि सगठनों ने यह नागरिक मार्च निकाला। ऑल इंडिया किसान महासभा के सेक्रेटरी पुरुषोत्तम मिश्रा ने बताया, यह प्रदर्शन देशभर में गरीबों के ऊपर चल रहे बुल्डोजर के खिलाफ है। अतिक्रमण हटाओ के नाम पर लगातार हमले हो रहे हैं। इस हमले के खिलाफ यह विरोध है क्योंकि यह अतिक्रमण हटाओ अभियान नहीं बल्कि देश के अंदर हिंदु मुस्लिम राजनीति को तेज करने और कॉरपोरेट को देश के सभी संसाधनों को लुटाने का अभियान है।

सरकार साम्प्रदयिक राजनीति कर देश को बांटने में लगी हुई है, जनता का ध्यान भटकाया जा रहा है। इस अभियान के खिलाफ हम देश भर में प्रदर्शन करेंगे। इसी तर्ज पर पूरे मई माह में हमारा यह प्रदर्शन होगा।

इस प्रदर्शन में शामिल हुए एक अन्य प्रदर्शनकारी ने बताया, सरकार की एक जिम्मेदारी होती है की वह शांति बनाए रखे। साम्प्रदयिक वारदातें लगातार बढ़ती जा रही हैं। लोग बीमारी, गरीबी से मर रहे हैं जो कि 21वीं सदी का यह भारत ऐसा नहीं होना चाहिए था। लगातार बुल्डोजर चलाया जा रहा है, हनुमान जयंती या अन्य जयन्तियों पर दूसरे धार्मिक स्थलों पर जाकर प्रदर्शन करने में लगे हुए हैं।

दरअसल दिल्ली में जहांगीरपुरी हिंसा के बाद चले निगम के बुल्डोजर के बाद, लगातार दिल्ली के विभिन्न जगहों पर अतिक्रमण हटाओ अभियान चलाया जा रहा है, जिसपर लगातार सियासत भी हो रही है। तमाम पार्टी इसका विरोध कर रही हैं वहीं बीजेपी लागतार इस अभियान को अपना समर्थन दिए हुए है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


Published: 11 May 2022, 2:13 PM