लखीमपुर हिंसा में मारे गए लोगों के परिवार की मदद के लिए आगे आई पंजाब-छत्तीसगढ़ सरकार, 50-50 लाख रुपये देने का किया ऐलान

लखीमपुर हिंसा में मारे गए किसानों और पत्रकार के परिजनों की मदद के लिए कांग्रेस सरकार आगे आई है। छत्तीसगढ़ के सीएम भूपेश बघेल और पंजाब के सीएम चरणजीत सिंह चन्नी ने सभी मृतकों के परिजनों को 50-50 लाख रुपये देने का ऐलान किया है।

फोटो: विपिन
फोटो: विपिन
user

नवजीवन डेस्क

लखीमपुर हिंसा में मारे गए किसानों और पत्रकार के परिजनों की मदद के लिए कांग्रेस सरकार आगे आई है। छत्तीसगढ़ के सीएम भूपेश बघेल और पंजाब के सीएम चरणजीत सिंह चन्नी ने सभी मृतकों के परिजनों को 50-50 लाख रुपये देने का ऐलान किया है। लखनऊ पहुंचे भूपेश बघेल और चन्नी ने ऐलान किया है।

लखनऊ में पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी ने कहा कि जिन किसानों की मौत हुई है पत्रकार समेत प्रत्येक के परिवार को हम पंजाब सरकार की तरफ से 50 लाख रुपये देंगे। चन्नी ने आगे कहा कि मैं आज राहुल गांधी के नेतृत्व में लखनऊ पहुंचा हूं। घटनास्थल पर जाना है। किसानों और पत्रकारों को मार गिराया गया है। मुझे दुख है कि किस तरह योजना बनाकर हमला हुआ। किसानों को मारा जाएगा तो हम चुप नहीं बैठ सकते।

वहीं लखीमपुर खीरी घटना को लेकर छत्तीसगढ़ के सीएम ने कहा कि पीड़ित परिवारों के साथ पूरा हिंदुस्तान खड़ा हुआ है। छत्तीसगढ़ सरकार की ओर से प्रत्येक पीड़ित किसानों के परिवार को 50 लाख रुपए और पीड़ित पत्रकार के परिवार को भी 50 लाख रुपये दिए जाएंगे।

आपको बता दें, राहुल गांधी को प्रियंका गांधी से मिलने के लिए सीतापुर और वहां से लखीमपुर जाने की इजाजत दे दी गई है। राहुल के साथ पंजाब के सीएम चन्नी और छत्तीसगढ़ के सीएम भूपेश बघेल भी लखनऊ पहुंच गए हैं। राहुल गांधी पहले सीतापुर जाएंगे और प्रियंका गांधी से मिलेंगे फिर वहां से दोनों लखीमपुर के लिए निकलेंगे।

राहुल गांधी के लखनऊ पहुंचते ही प्रियंका गांधी को भी सीतापुर की अस्थाई जेल से रिहा कर दिया गया है। उन्हें रविवार देर रात लखीमपुर जाते हुए हिरासत में लिया गया था। उन्हें 36 घंटे हिरासत में रखने के बाद मंगलवार को शांति भंग और धारा-144 के उल्लंघन के आरोपों में गिरफ्तार कर लिया गया था।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia