राहुल गांधी ने पीएम मोदी को ‘कंटेंट’ के साथ दिया जवाब, लोकसभा में एक-एक कर गिनाईं कृषि कानूनों की खामियां

पीएम मोदी के ‘कंटेंट-इंटेंट वाले बयान का जवाब देते हुए कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने आज लोकसभा में कृषि कानूनों पर अपनी बात रखी। उन्होंने सिलसिलेवार कृषि कानूनों की खामियां गिनाईं और बताया कि किस तरह तीनों कानून कॉर्पोरेट के फायदे और किसानों के खिलाफ हैं।

फोटोः ANI
फोटोः ANI
user

आसिफ एस खान

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने कृषि कानूनों पर पीएम मोदी के ‘कंटेंट-इंटेंट वाले बयान पर आज लोकसभा में जवाब दिया। उन्होंने कृषि कानूनों पर अपनी बात रखते हुए सिलसिलेवार तरीके से कृषि कानूनों की खामियां गिनाईं और बताया कि किस तरह तीनों कानून कॉर्पोरेट के फायदे के लिए और किसानों के खिलाफ हैं।

राहुल गांधी ने लोकसभा में अपनी बात रखते हुए कहा, “कल सदन को संबोधित करते हुए पीएम ने कहा कि विपक्ष आंदोलन की बात कर रहा है, लेकिन कृषि कानूनों के कंटेंट और इंटेंट के बारे में बात नहीं कर रहा हैं। मुझे लगा कि मुझे आज उन्हें खुश करना चाहिए और विवादित कानूनों के कंटेंट और इंटेंट पर बात करनी चाहिए।”

इसके बाद राहुल गांधी ने एक-एक कर खामियां गिनाते हुए कहा, “पहले कानून का कंटेंट यह है कि कोई भी देश में कहीं भी खाद्यान्न, फल और सब्जियों की असीमित खरीद कर सकता है। अगर देश में कहीं भी खरीद असीमित हो, तो फिर मंडियों में कौन जाएगा? पहले कानून का कंटेंट मंडियों को खत्म करना है।”

इसके बाद राहुल गांधी ने कहा, “दूसरे कानून का कंटेंट यह है कि बड़े व्यापारी जितना चाहें उतना अनाज, फल और सब्जियों को स्टोर कर सकते हैं। वे जितना चाहें उतनी जमाखोरी कर सकते हैं। दूसरे कानून का कंटेंट आवश्यक वस्तु अधिनियम को समाप्त करना है। यह भारत में असीमित जमाखोरी शुरू करना है। इसी तरह तीसरे कानून का कंटेंट यह है कि जब कोई किसान अपनी फसलों का सही दाम मांगने के लिए भारत के सबसे बड़े व्यापारी के सामने जाता है, तो उसे न्यायालय में जाने की अनुमति भी नहीं होगी।”

इसके बाद विवादित कानूनों के इंटेंट पर बात करते हुए राहुल गांधी ने कहा, “पहले कानून का इंटेंट भारत की सभी फसलों का अधिकार एक दोस्त को देना है। इससे किसको नुकसान होगा? ठेलेवालों, छोटे व्यापारी और मंडियों में काम करने वालों को होगा। दूसरे कानून का इंटेंट दूसरे मित्र की मदद करना है। वह भारत की 40% फसलों को अपने भंडारण में रखता है।”

राहुल गांधी ने पीएम मोदी पर हमला करते हुए कहा कि “परिवार नियोजन का एक नारा था 'हम दो, हमारे दो'। जैसे कोरोना एक अलग रूप में वापस आया है, उसी तरह यह नारा भी एक अलग रूप में वापस आ गया है। आज देश हम दो, हमारे दो के तहत 4 लोगों द्वारा चलाया जा रहा है। हर कोई उनके नाम जानता है। पीएम कहते हैं कि उन्होंने विकल्प दिए हैं। हां, आपने 3 विकल्प दिए - भूख, बेरोजगारी और आत्महत्या।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia