खेल की खबरें: IND VS SA सीरीज से पहले BCCI का बड़ा फैसला और पूरे इंग्लिश समर से बाहर हुए आर्चर

साउथ अफ्रीका के खिलाफ 5 टी20 इंटरनेशनल मैचों की सीरीज पहले बीसीसीआई ने दर्शकों की संख्या पर बड़ा फैसला ले लिया है और इंग्लैंड के तेज गेंदबाज जोफ्रा आर्चर पिछले एक साल से लगातार चोटों से जूझ रहे हैं और वह एक बार फिर चोटिल गए हैं।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

जोफ्रा आर्चर पूरे इंग्लिश समर से हुए बाहर, जानें क्या है कारण?

इंग्लैंड के तेज गेंदबाज जोफ्रा आर्चर पिछले एक साल से लगातार चोटों से जूझ रहे हैं और वह एक बार फिर चोटिल गए हैं। आर्चर को पीठ के निचले हिस्से में स्ट्रेस फ्रैक्चर हुआ है और इसी वजह से वह अब आगामी इंग्लिश समर सत्र से बाहर हो गए हैं। वह जुलाई 2021 से ही प्रतिस्पर्धी क्रिकेट से दूर हैं। उन्होंने आखिरी बार ससेक्स के लिए टी20 ब्लास्ट खेला था। हालांकि, नौ महीने से अधिक समय तक बाहर रहने के बाद, आर्चर को इस महीने के अंत में आगामी टी20 ब्लास्ट सीज़न में वापसी करने की उम्मीद थी। हालांकि अब एक बार फिर उन्हें चोट ने एक्शन से बाहर कर दिया है।

ईसीबी ने एक प्रेस रिलीज के माध्यम से आर्चर के बाहर होने की पुष्टि की है। हालाँकि उन्होंने तेज गेंदबाज की वापसी के समय के बारे में कोई जानकारी नहीं दी है और आगामी दिनों में वह इस बारे में स्पेशलिस्ट की भी मदद लेंगे। ईसीबी ने अपने बयान में कहा, पीठ के निचले हिस्से में स्ट्रेस फ्रैक्चर का पता चलने के बाद इंग्लैंड और ससेक्स के तेज गेंदबाज जोफ्रा आर्चर शेष सीजन से बाहर हो गए हैं। उनकी वापसी के लिए कोई समय सीमा निर्धारित नहीं की गई है। आने वाले दिनों में स्पेशलिस्ट की राय के बाद एक प्रबंधन योजना निर्धारित की जाएगी।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया

भारत-साउथ अफ्रीका सीरीज में दर्शकों से खचाखच भरे होंगे स्टेडियम, BCCI का बड़ा फैसला

आईपीएल के बाद भारत अपने घर में साउथ अफ्रीका के खिलाफ 5 टी20 इंटरनेशनल मैचों की सीरीज खेलेगा। यह सीरीज 9 जून से शुरू होगी। इस सीरीच से पहले बीसीसीआई ने दर्शकों की संख्या पर बड़ा फैसला ले लिया है। बोर्ड ने तय किया है, अब जब देश में कोरोना वायरस के हालात पूरी तरह नियंत्रित हैं तो फिर दर्शकों को स्टेडियम की 100 फीसदी क्षमता में आने की छूट रहेगी। इससे पहले कोरोना वायरस के चलते या तो मैदानों को दर्शकों से पूरी तरह खाली रखा जा रहा था या फिर 50 फीसदी तक ही दर्शकों को आने की छूट थी लेकिन अब बीसीसीआई ने यह फैसला लिया है।

भारत और साउथ अफ्रीका की सीरीज की बात करें तो इस सीरीज के 5 मैच दिल्ली, कटक, विशाखापट्टनम, राजकोट और बेंगलुरू में खेले जाएंगे। साउथ अफ्रीका ने इस दौरे के लिए अपनी टीम का ऐलान कर दिया है, जबकि भारतीय टीम के सीनियर चयनकर्ता आईपीएल के बाद ही भारतीय टीम का ऐलान करेंगे। साउथ अफ्रीका ने अपने सफेद बॉल फॉर्मेट के कप्तान टेंबा बवूमा के नेतृत्व में अपनी 16 सदस्यीय टीम चुनी है।

हॉकी इंडिया ने बेल्जियम और नीदरलैंड में होने वाले मैचों के लिए टीम की घोषणा की

हॉकी इंडिया ने गुरुवार को 20 सदस्यीय भारतीय हॉकी टीम का ऐलान किया, जो एफआईएच हॉकी प्रो लीग 2021-22 सीजन के अंतिम चरण में मेजबान बेल्जियम और नीदरलैंड से भिड़ेगी। मौजूदा अंक तालिका में शीर्ष पर विराजमान भारत 11 और 12 जून को एंटवर्प में बेल्जियम से खेलेगा। इसके बाद, 18 और 19 जून को रॉटरडैम में नीदरलैंड के खिलाफ मैच होगा। टीम की कप्तानी अमित रोहिदास करेंगे और उपकप्तान हरमनप्रीत सिंह होंगे। 20 सदस्यीय टीम में गोलकीपर सूरज करकेरा, श्रीजेश परट्ट रवींद्रन, डिफेंडर सुरेंद्र कुमार, हरमनप्रीत सिंह, वरुण कुमार, अमित रोहिदास, जुगराज सिंह और जरमनप्रीत सिंह शामिल हैं। मिडफील्ड में अनुभवी मनप्रीत सिंह, हार्दिक सिंह, शमशेर सिंह, विवेक सागर प्रसाद, आकाशदीप सिंह और नीलकांत शर्मा हैं, जबकि फॉरवर्ड लाइन में गुरजंत सिंह, मनदीप सिंह, शिलानंद लाकड़ा, सुखजीत सिंह, ललित कुमार उपाध्याय और अभिषेक शामिल हैं।

टीम के बारे में बोलते हुए मुख्य कोच ग्राहम रीड ने कहा, "यह एफआईएच हॉकी प्रो लीग का सबसे महत्वपूर्ण चरण है, जिसमें दुनिया की शीर्ष टीमों के खिलाफ उनके घरेलू मैदान पर मैच होते हैं। भारत में योजना घरेलू मैचों से हमारी गति को आगे बढ़ाने की है।" उन्होंने आगे कहा, "साई बेंगलुरु में हमारे राष्ट्रीय शिविर के दौरान हमारे पास लीग के लिए तैयारी करने का समय था और हम यूरोप में बेहतर प्रदर्शन करने पर ध्यान केंद्रित कर रहे हैं। टीम कमोबेश वैसी ही बनी हुई है कोई बड़ा बदलाव नहीं। उनमें से प्रत्येक को प्रो लीग खेलने का पूर्व अनुभव है और बेल्जियम और नीदरलैंड के खिलाफ मैचों में आगे बढ़ने के लिए उत्साहित हैं।"

भारतीय हॉकी टीम: गोलकीपर: सूरज करकेरा और श्रीजेश परट्ट रवींद्रन। डिफेंडर: सुरेंद्र कुमार, हरमनप्रीत सिंह (उपकप्तान), वरुण कुमार, अमित रोहिदास (कप्तान), जुगराज सिंह और जरमनप्रीत सिंह। मिडफील्डर: मनप्रीत सिंह, हार्दिक सिंह, शमशेर सिंह, विवेक सागर प्रसाद, आकाशदीप सिंह और नीलकांत शर्मा। फॉरवर्ड : गुरजंत सिंह, मनदीप सिंह, शिलानंद लकड़ा, सुखजीत सिंह, ललित कुमार उपाध्याय और अभिषेक।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया

यूरोपा लीग फाइनल में रेंजर्स को हराकर जीती फ्रैंकफर्ट

जर्मनी के फुटबॉल क्लब आइनट्राक्ट फ्रैंकफर्ट ने UEFA यूरोपा लीग का टाइटल जीत लिया है। स्पेन के सेविला में खेले गए फाइनल मुकाबले में फ्रैंकफर्ट ने स्कॉटलैंड के क्लब रेंजर्स को पेनेल्टी शूटआउट में हराते हुए दूसरी बार इस खिताब को जीतने में कामयाबी हासिल की। मैच के दौरान सेविला में स्टेडियम पूरी तरह हजारों दर्शकों से भरा रहा, लेकिन मैच के शुरु होने के पहले ही मैदान के बाहर कई जगहों पर दोनों टीमों के फैंस आपस में भिड़ गए और नौबत हाथापाई तक आ गई। साल 1980 में विजेता बनी फ्रैंकफर्ट और साल 2008 में खिताब जीतने वाली रेंजर्स के बीच फाइनल मुकाबले में फुल टाइम तक दोनों टीमों का स्कोर 1-1 रहा।

पहले हाफ में कोई गोल नहीं होने के बाद दूसरे हाफ में 57वें मिनट में रेंजर्स के लिए अरीबो ने गोल कर खाता खोला। 69वें मिनट में फ्रैंकफर्ट के लिए राफेल बोरे ने गोल दाग मैच बराबरी पर ला दिया। इसके बाद एक्स्ट्रा टाइम में भी कोई गोल नहीं हुआ और शूटआउट करना पड़ा। फ्रैंकफर्ट और रेंजर्स ने शुरुआती तीनों शॉट्स गोल में मारे। लेकिन चौथे शॉट पर जहां फ्रैंकफर्ट की टीम कामयाब रही तो वहीं रेंजर्स के लिए खेल रहे ऐरन रेमसे गोल नहीं कर पाए। इसके बाद रेंजर्स के लिए केमर रूफ ने गोल सफलता से किया लेकिन फ्रैंकफर्ट के लिए बोरे ने गोल कर टीम को 5-4 से जीत दिला दी।

तीरंदाजी विश्व कप: भारतीय महिला टीम ने जीता कांस्य पदक

रिद्धि, कोमलिका बारी और अंकिता भकत की भारतीय महिला रिकर्व टीम ने गुरुवार को यहां चल रहे तीरंदाजी विश्व कप 2022 चरण 2 में चीनी ताइपे टीम को हराकर कांस्य पदक अपने नाम किया। रिद्धि, कोमलिका और अंकिता की युवा भारतीय तिकड़ी चीनी ताइपे से 6-2 (56-52, 54-51, 54-55, 55-54) से अपने प्रतिद्वंद्वी पर हावी रही और समान 6-2 स्कोर के साथ सेमीफाइनल में घरेलू प्रबल दावेदार दक्षिण कोरिया से हार गई। जबकि, भारत की महिलाएं दक्षिण कोरिया के खिलाफ अनियंत्रित थीं, उन्होंने चीनी ताइपे के खिलाफ पहले दो सेटों में 4-0 की बढ़त बना ली। भारतीय टीम तीसरा सेट हार गई, लेकिन उन्होंने जोरदार वापसी की और चौथे सेट में एक 10 और पांच 9 के स्कोर से मैच जीत लिया।

ग्वांगजू में तीरंदाजी विश्व कप में भारत के लिए यह दूसरा कांस्य पदक था। इससे पहले बुधवार को अवनीत कौर, मुस्कान किरार और प्रिया गुर्जर की महिला कंपाउंड टीम ने कांस्य पदक जीता था। हालांकि, ओलंपियन तरुणदीप राय और जयंत तालुकदार की भारतीय पुरुष रिकर्व टीम और युवा नीरज चौहान क्वार्टर फाइनल में निचली रैंकिंग के फ्रांस से 2-6 से हारकर बाहर हो गए। इस बीच, एशियाई खेलों के स्वर्ण पदक विजेता अभिषेक वर्मा की भारतीय पुरुष कंपाउंड टीम ने अमन सैनी और रजत चौहान के साथ शनिवार को फाइनल में पहुंचने के लिए घरेलू पसंदीदा दक्षिण कोरिया को हराकर भारत के लिए कम से कम एक रजत पदक पक्का किया है। विशेष रूप से भारतीय पुरुष कंपाउंड टीम ने पिछले महीने तुर्की में आयोजित तीरंदाजी विश्व कप स्टेज 1 इवेंट में भी स्वर्ण पदक जीता था।

(आईएएनएस के इनपुट के साथ)

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia