वीडियो: सरकार की लापरवाही की कीमत चुका रहा जोशीमठ? भूवैज्ञानिक ने उठाए गंभीर सवाल

जोशीमठ में हालात बेहद खराब हो चुके हैं। 800 से ज्यादा लोग अपना घर छोड़कर जा चुके हैं और ये सिलसिला अभी भी जारी है। सवाल ये है कि क्या जोशीमठ को बचाया जा सकता है?

user

पवन नौटियाल @pawanautiyal

उत्तराखंड के जोशीमठ में भू धंसाव को लेकर डर का माहौल है। लगातार जमीन फट रही है जिससे अभी तक करीब 800 घरों में दरारें आ चुकी हैं। इन सबके बीच लोग जोशीमठ की मौजूदा स्थिती को लेकर एनटीपीसी और केंद्र सरकार के तमाम प्रोजेक्ट्स को जिम्मेदार बता रहे हैं। क्या वाकई में जोशीमठ भू धंसाव मानव निर्मित आपदा है या फिर एक प्राकृतिक आपदा है?

इस मामले को लेकर नवजीवन ने हिमालयन-भू विज्ञान पर करीब 25 सालों से ज्यादा समय से रिसर्च कर रहे DBS कॉलेज देहरादून के भूविज्ञान विभाग के HOD प्रोफेसर डॉ. दीपक भट्ट से बात की। डॉ. दीपक भट्ट ने इस दौरान हमें कई अमह बातें बताई, साथ ही इस बारे में भी जानकारी दी कि जोशीमठ में जो हो रहा है उसका मुख्य कारण क्या है। इसके अलावा दीपक भट्ट ने बताया कि आगे कभी जोशीमठ जैसे हालात पैदा ना हो उसके लिए सरकार को क्या करना चाहिए।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia