नई किताब ‘धूप में नंगे पांव’ के जरिए अपने जीवन यात्रा के बारे में बता रहें हैं कथाकार स्वंय प्रकाश

स्वयं प्रकाश का जीवन एक साधारण व्यक्ति-संघर्ष का ही जीवन रहा है जिसने उन्हें एक शीर्ष कथाकार की पहचान दी है। उन्होंने इस पुस्तक की भूमिका में स्पष्ट भी किया है कि उनके जीवन की कुछ स्थायी स्मृतियां बेहद महत्वपूर्ण होकर भी किसी रचना में नहीं आ पाई हैं।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया

नवजीवन डेस्क

धूप में नंगे पांव’ प्रसिद्ध और बहुत ज्यादा पढ़े जाने वाले कथाकार स्वयं प्रकाश की ऐसी अनुपम कृति है जो साहित्य की प्रचलित विधा-सीमा से इतर होकर भी सभी विधाओं का सम्मिश्रण है। किसी प्रसिद्ध कथाकार को इस तरह पढ़ना वास्तव में उसे सम्पूर्णता में जानना है। स्वयं प्रकाश का जीवन एक साधारण व्यक्ति-संघर्ष का ही जीवन रहा है जिसने उन्हें एक शीर्ष कथाकार की पहचान दी है। उन्होंने इस पुस्तक की भूमिका में स्पष्ट भी किया है कि उनके जीवन की कुछ स्थायी स्मृतियां बेहद महत्वपूर्ण होकर भी किसी रचना में नहीं आ पाई हैं। किसी पात्र या कथानक के रूप में भी वे कहीं भी शब्दबद्ध नहीं हो सकीं हैं। वो कहते हैं, ‘‘एक कहानीकार के रूप में मुझे जरूरी लगा कि इन छुटी हुईं चीजों की लज़्जत से पाठकों को रुबरु किया जाए किया जाए।’’ लेखक का यही रचनात्मक ध्येय साधारण पाठक को इस कृति को पढ़ने के लिए बाध्य करता है। इस पुस्तक का महत्त्व इसी से बना भी है कि वास्तव में वे कौनसी बातें हैं, जो हम अब तक नहीं जान पाए, जबकि स्वयं प्रकाश की अधिकांश रचनाएं पढ़ी जा चुकी हैं। ऐसी उत्सुकता पाठक की जिज्ञासा भी जगाती है और लेखक के कुछ निजी राज जानने का कौतुहल भी। ...और इस कृति में सही मायने में जिज्ञासा और कौतुहल दोनों हैं भी। ये रचना का नहीं बल्कि रचनाकार का सत्य है, जिसे उन्होंने बहुत सलीके से अपने पाठक से साझा किया है।

ये किताब लगभग उन प्रसंगों का समावेश करती है जिन्हें लेखक ने भी अपने जीवन में चाहे-अनचाहे छुआ है। लेकिन उनके सुधि पाठकों के लिए वे नितांत अनछुए ही रहे हैं। पाठक की यही सीमा भी है कि वह लेखक के जीवन-प्रसंगों को लेखक के माध्यम से ही जान सकता है। अतः ख्याति प्राप्त रचनाकार स्वयं प्रकाश के जीवन के अप्रकाशित अंशों को करीब से पहचानने के लिए यह एक उत्तम पुस्तक है। क्योंकि ‘धूप में नंगे पांव’ चलना वास्तव में बहुत मुश्किल है। इस पुस्तक का शीर्षक कहीं भी यह इंगित नहीं करता है कि इसमें स्वयं प्रकाश की रचना-यात्रा की जानकारी होगी। इसमें उनकी जीवन-यात्रा का कठिन पथ ही आलोकित हुआ है। मैकेनिकल इंजीनियरिंग की पढ़ाई पूरी करने के बाद नौकरी के लिए संघर्षों का इतिहास जानकर यह अंदाज लगाना भी मुश्किल होता है कि कोई व्यक्ति अपने भीतर रचनात्मक ऊर्जा का इस तरह सदुपयोग कर सकेगा। लेकिन स्वयं प्रकाश इस मामले में अपवाद कहे जाएंगे। जिस किसी ने उनके विपुल कथा साहित्य को पढ़ा है, उसे शायद ही यह यकीन होगा कि उन्होंने अपने जीवन में नौकरी की शुरुआत से नौकरी के अंत तक कैसे-कैसे शुष्क और नीरस विभागों में भी अपनी ऊर्जा खपायी है। जहां-जहां वे अपनी नौकरी के सिलसिले में रहे, वहां-वहां उन्होंने अपना एक समूह अवश्य बनाया और उसे सक्रियता देते रहे। ऐसे समूह में वे घटना-परिघटना और साहित्य-चर्चा को प्रमुख आधार बनाते और वहीं कुछ-कुछ मात्रा में चुहल को भी स्थान देते रहते। ऐसा लगता है जैसे किसी व्यक्ति के लेखक होने के लिए आवश्यक प्रशिक्षण है ये सारी छोटी-मोटी घटनाएं। अपने पर बीती को भीतर तक संवेदित करना और फिर उसे शाब्दिक अभिव्यक्ति देना एक पुरा सामंजस्य है।

इसमें कोई संदेह नहीं कि स्वयं प्रकाश का जीवन व्यापक अनुभवों को जीवन है, जिसमें समय-समय पर नौकरी के स्थान-बदलाव के साथ ही स्थानीय संस्कृति का परिवर्तन उन्हें हमेशा कुछ और नया जानने के लिए तैयार करता है। क्योंकि साहित्य कभी भी समाज से अलग नहीं रह सकता है। स्वयं प्रकाश की रचनाओं में स्थानीयता अपना पूरा असर छोड़ती है। साहित्य का यही गुण उनकी रचनाओं के महत्त्व को बढ़ाता है, क्योंकि समाज और दिनचर्या का सच ही साहित्य का मूल होता है। रचनाओं में जो सार्थकता परिवेश के मूल से आती है वह केवल कला-विधान से नहीं आ पाती है, इसीलिए स्वयं प्रकाश अपने जीवन में मीठे झूठ को नहीं बल्कि कड़वे सच को प्रियता देते रहे हैं।

अपनी नौकरी के प्रवास में अनेक जगह रमे लेखक ने हमेशा वहां से कुछ प्राप्त करने के सार्थक प्रयास किए हैं और इन्हीं कोशिशों का फल यह रहा कि उन्हें बहुत अच्छे साहित्यिक चित्र डाॅ. सदाशिव श्रोत्रिय और डा. दुर्गाप्रसाद अग्रवाल मिल सके। लेखक की एक खास बात यह भी कि जब वे किसी प्रसंग में किसी मित्र की सहयोग-चर्चा या संबंध-चर्चा कर रहे होते हैं तो ऐसा लगता है जैसे अब हमें उन्हीं के बारे में सारी जानकारी देते जाएंगे, लेकिन प्रसंग होते ही एकदम नई बातों के साथ नए रूट पर आ जाते हैं। अपने सफर में मिले मित्रों से जितनी आत्मीयता लेखक ने अनुभव की उससे कहीं ज्यादा अपने सहकर्मियों और अपने अधीन कार्यरत कर्मियों को सहभाव और सम्मान दिया भी। पुस्तक के अनुक्रम ‘अजमेर से जोधपुर वाया मद्रास’ और ‘महाकवि माघ की जन्मस्थली में’ लेखक ने कुछ रोचक प्रसंगों का समावेश कर न केवल उन्हें रसपूर्ण बनाया बल्कि उनके सामाजिक संदेशों को पाठक तक पहुंचाया है।

कुछेक ऐसे प्रसंग भी इस पुस्तक में यकबयक लिए हैं। जिनसे हम भारतीय समाज की विसंगतियों को परोक्ष रूप से पहचान सकते हैं। जैसे किसी भोज-कार्यक्रम में फर को टोपी पहनने मात्र से मुसलमान होने के भ्रम में अन्य लोग पंगत में बैठने तक से कतरा रहे हों- वहां किस प्रगतिशीलता की बात संभव हो सकेगी। स्वयं प्रकाश के लिए ये केवल एक किस्सा नहीं है बल्कि बहुत चिंता का विषय है। क्योंकि वे मनुष्य-समाज के पक्षघर हैं, इसमें अलग से किसी ‘कंपार्टमेण्ट’ का पुरजोर विरोध करते हैं। जाति-भेद आज भी हमारे समाज में पसरा हुआ है जिससे न जाने कितनी संभावनाओं के द्वार खुलने से रह गए। आजादी के बाद हमारे संविधान की निगाह में सभी मनुष्य बराबर हैं, बावजूद इसके तल्ख सचाई कुछ और ही है। इस यथार्थ से हम आए दिन रूबरू होते हैं किंतु उसे सुधारने में सक्रियता कहीं नहीं है। इस पुस्तक में ऐसे प्रसंग गाहे-बगाहे ही आए लगते हैं किन्तु इनके निहितार्थ बहुत गहरे हैं। थोड़ा विचार करने पर ये छोटे-छोटे किस्से अपना प्रयोजन सिद्ध कर देते हैं। उनके जीवन की कुछ घटनाएँ हमारे तौर-तरीकों का बेहतर विवेचन है। वे हमें किसी दबाव से नहीं वरन स्वतः इस प्रकार की मानसिकता से मुक्ति के लिए तैयार करते हैं। स्वतंत्रता, समानता, विविधता आदि अवधारणाओं का प्रयोग केवल कहीं बहस के लिए नहीं बल्कि व्यावहारिक होना चाहिए तभी एक समतामूलक समाज की जो लेखक की भी परिकल्पना है, उसकी स्थापना संभव हो सके। आज जब ग्लोबलाईजेशन की हवा सब तरफ फैल चुकी है एवं स्थापित सामाजिक संबंधों, संस्थाओं, परंपराओं और रीति-रिवाज़ों की दुनिया टूट-बिखर रही है तब भी ऐसे पीछे धकेलू विचार हमसे चिपके रहते हैं तो बहुत दुःख होता है। स्वयं प्रकाश का स्पष्ट मानना है कि विभिन्न आयामों में द्वन्द्वात्मक खिंचाव बनाये रखने से समस्या और घनीभूत-जड़ीभूत होती है, उसका समाधान नहीं होता है।

स्वयं प्रकाश जी की यह पुस्तक कथेतर विधा की भी विविधता प्रस्तुत करती है। किस्सों में विचार हैं और विचारों में किस्से हैं- ये अन्तर्संबंध उनके लेखन को और विशेष बना देते हैं। उनका अपना रचनात्मक समर्पण है। वे अपनी उत्सुकता को कर्मतत्परता में बदलते कभी देर नहीं करते। ‘सपनों में आता है सोने का किला’ में व्यक्त प्रसंग उनकी जिज्ञासु-प्रवृत्ति को रेखांकित करते हैं। सत्यजित रे से हुई आकस्मिक भेंट कैसे उनकी उनसे स्थायी पहचान का हिस्सा बन जाती है- यह हम उनके जैसलमेर की प्रवास-कथा से जान सकते हैं। बतौर नौकरी लेखक का संबंध हमेशा ही साधारण एवं कभी-कभी खास लोगों से रहा है, इसलिये उनके लेखन में मानवीय उपस्थिति कभी कमजोर नहीं होती है। साथ ही जिस किसी स्थान-विशेष की वे जानकारी प्रसंगानुकूल भी देते हैं तो पूरे ऐतिहासिक महत्व को दर्शाते हुए। उस समय किसी भी पाठक को उन्हें इतिहास का सिद्ध जानकार ही मानना पड़ेगा, क्योंकि वे किन्हीं खाइयों में से उसकी प्रामाणिक पुष्टि भी कर देते हैं।

मूल रूप से यह पुस्तक उनके नौकरी-प्रवास की कथाओं के साथ उन अनुभवों का संग्रह भी है जो सीधे-सीधे उन प्रसंगों से संबंध नहीं रखते जो सेवा के दायरे में हों। स्वयं प्रकाश जी ने अपने हर क्षण को विशेष बनाया है। इसीलिये उनकी रचनाओं की जमीन हमेशा उपजाऊ बनी रही है। खाद-पानी की समुचित पूर्ति वे निरंतर करते रहे। फिर जिस विभाग को उन्होंने अपनी आजीविका के लिए चुना वह केवल क्षेत्रीय नहीं बल्कि देश के कोने-कोने में अपनी इकाइयों का संचालन कर रहा था। इस तरह से उन्हें विविध प्रांतों, विविध भाषियों, विविध संस्कृतियों, रीति-रिवाजों, लोगों, परिवेश से साक्षात होने के पूरे अवसर मिले। एक प्रतिबद्ध रचनाकार इस प्रकार की प्रतिकूल परिस्थितियों में भी अपने अनुकूल कुछ पाने की चेष्टा अवश्य करता है और स्वयं प्रकाश जी ने ठीक यही किया भी।