निजता के अधिकार पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला फासीवादी ताकतों को झटका: राहुल गांधी

निजता के अधिकार पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले का कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि निगरानी द्वारा जनता को दबाने की बीजेपी की विचारधारा को सुप्रीम कोर्ट ने अस्वीकार कर दिया है।



राहुल गांधी/ फोटो: Getty Images
राहुल गांधी/ फोटो: Getty Images
user

पीटीआई

निजता के अधिकार पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले का कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने स्वागत करते हुए कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने फासीवाद ताकतों को झटका दिया है। उन्होंने यह भी जोड़ा कि निगरानी द्वारा जनता को दबाने की बीजेपी की विचारधारा को भी अस्वीकार कर दिया गया है।

कांग्रेस उपाध्यक्ष ने कहा, ’इस फैसले से भारत के सभी लोगों की जीत हुई है। सुप्रीम कोर्ट का फैसला लोगों की स्वतंत्रता और गरिमा बनाए रखनी की जीत है।’

इस मामले में कांग्रेस शासित प्रदेशों कनार्टक, पुडुच्चेरी और पंजाब की ओर से कांग्रेस नेता और वरिष्ठ वकील कपिल सिब्बल पैरवी कर रहे थे और उनकी दलील थी कि निजता का अधिकार मौलिक अधिकार का हिस्सा है।

सर्वसम्मति से सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने के बाद दुनिया के सबसे बड़े बायोमेट्रिक आईडी कार्ड कार्यक्रम आधार के भविष्य को लेकर केन्द्र सरकार के मंत्रियों के बीच गहमागहमी शुरू हो गई है।

कानून और सूचना प्रसारण मंत्री रविशंकर प्रसाद और प्रधानमंत्री के प्रधान सचिव नृपेंद्र मिश्र ने वित्तमंत्री अरुण जेटली से मुलाकात की और फैसले से पड़ने वाले प्रभावों पर चर्चा की। हालांकि किसी ने भी इस मुद्दे पर कोई टिप्पणी नहीं की।

सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने के तुरंत बाद यूआईडी के सीईओ अजय भूषण पांडे और बायोमेट्रिक कार्ड जारी करने वाली एजेंसी के अधिकारी केन्द्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद से मिले।

रविशंकर प्रसाद ने बाद में प्रेस को संबोधित करते हुए कहा कि यह फैसला सरकार की सोच के अनुरूप है और सरकार शुरू से ही आधार के संदर्भ में निजता के अधिकार को मौलिक अधिकार बनाने की पक्षधर थी।

Published: 24 Aug 2017, 5:55 PM
लोकप्रिय