सिनेमा

गार्ड की नौकरी करने को मजबूर हुआ ये अभिनेता, अक्षय कुमार समेत कई बड़े नामों के साथ किया है काम

कभी अक्षय कुमार के साथ एक फिल्म समेत कई चर्चित फिल्मों में काम कर चुके अभिनेता सवि सिद्धु आज अपने दो वक्त की रोटी का इंतेजाम करने के लिए मुंबई की एक बिल्डिंग में सिक्योरिटी गार्ड की नौकरी करने के लिए मजबूर हैं।

फोटोः सोशल मीडिया

नवजीवन डेस्क

फिल्मी दुनिया की चमक-दमक के पीछे एक तल्ख सच्चाई छिपी होती है। जिंदगी की हकीकत हिंदी सिनेमा की कहानी से बिल्कुल अलग और उलट होती है। ये बातें कई बड़े नामों के साथ काम कर चुके अभिनेता सवि सिद्धु की जंदगी पर लागू होती है। एक समय में गुलाल, ब्लैक फ्राइडे और पटियाला हाउस जैसी बड़ी और चर्चित फिल्मों में अहम किरदार निभा चुके सवि सिद्धु की जिंदगी आज इसी तल्ख सच्चाई तो बयान करती है।

दरअसल कई चर्चित फिल्मों और बड़े नामों के साथ काम कर चुके सवि आज अपने लिए दो वक्त की रोटी का इंतेजाम करने के लिए मुंबई की एक बिल्डिंग में सिक्योरिटी गार्ड की नौकरी कर रहे हैं। सवि के अनुसार हालात ने उन्हें इस हालत में पहुंचा दिया है कि वह सुबह 8 बजे से रात 8 बजे तक 12 घंटे बतौर गार्ड नौकरी कर रहे हैं। सवि ने बताया कि जिंदगी मशीन की तरह हो गई है। 5-6 घंटे सोने का वक्त मिलता है।

कभी अक्षय कुमार के साथ फिल्म में काम कर चुके सवि बताते हैं कि उन्होंने चंडीगढ़ में मॉडलिंग से करियर की शुरुआत की थी। लेकिन फिर वह लखनऊ वापस लौट गए और कानून की पढ़ाई करने लगे। इसी दौरान उन्होंने थियेटर में काम किया। इसी दौरान उन्हें निर्देशक अनुराग कश्यप ने अपनी फिल्म 'पांच' के लिए साइन किया। हालांकि वह फिल्म रिलीज नहीं हो सकी थी।

सवि सिद्धु ने बताया कि इसके बाद उन्होंने अनुराग कश्यप निर्देशित फिल्म ब्लैक फ्राइडे में कमीश्नर सामरा का अहम किरदार निभाया। फिर अनुराग की ही चर्चित फिल्म गुलाल में भी उन्होंने काम किया। सवि ने बताया कि इस दौरान उन्होंने यशराज फिल्म्स के लिए भी काम किया है।

अनिश्चतितताओं से भरी फिल्मी दुनिया की कड़वी हकीकत से रूबरू हो चुके सवि ने बताया कि उनकी तबियत क्या बिगड़ी, उनकी जिंदगी में बुरे समय की शुरुआत हो गई। सवि के अनुसार इसी दौरान उनकी पत्नी की मौत हो गई, जो उनके लिए सबसे ज्यादा बुरा समय था। फिर इसी दौरान उनके माता-पिता, साढू़ समेत परिवार के तमाम लोग दुनिया छोड़ गए।

सवि कहते हैं, “धीरे-धीरे मैं अकेला हो गया। मेरे पास काम नहीं था। ऐसे में अपनी रोजमर्रा की जिंदगी चलाने के लिए मैंने सिक्योरिटी गार्ड की नौकरी कर ली। मेरी हालत ये थी कि फिल्मों में काम मांगने जाने के लिए मेरे पास बस के पैसे तक नहीं थे।” हालांकि सवि को अब भी उम्मीद है कि फिल्म इंडस्ट्री उन्हें याद करेगी और उनके पुराने दिन जरूर लौट आएंगे।

लोकप्रिय