मैं अपनी सभी कविताओं की मां हूं : गुलजार

गुलजार ने अलबम ‘दिल पीर है’ के लिए आठ गीत लिखे हैं, जिसे मशहूर गायक और संगीतकार भूपिंदर सिंह ने अपनी धुनों से सजाया है। अतीत में दोनों ने ‘दो दीवाने शहर में’, ‘बीते ना बिताए रैना’ जैसे गीत दिए हैं।

फोटो: Getty Images
फोटो: Getty Images
user

IANS

चाहे चांद का उदाहरण देते हुए अपना विचार जाहिर करना हो या कंक्रीट के जंगल में एक खिड़की को लेकर कहानियां गढ़नी हो, मशहूर गीतकार और कवि गुलजार उन सबको एक काव्यात्मक स्वरूप में ले आते हैं। उनका कहना है कि कविता को रचनात्मक विचार के तौर पर उभार देने के लिए कवि के दिमाग को वास्तविकता से भली-भांति परिचित होना चाहिए।

पाकिस्तान के झेलम में जन्मे गुलजार का 1947 में देश विभाजन के बाद मुंबई के कंक्रीट के जंगल से परिचय हुआ।

शहर के जीवन के अपने अनुभव को उन्होंने फिल्म 'घरौंदा' (1977) के गीत 'दो दीवाने शहर में' उतारा।

उन्होंने लिखा, "इन भूलभुलैया गलियों में, अपना भी घर होगा, अंबर पे खुलेगी खिड़की या, खिड़की पे खुला अंबर होगा।"

उन्होंने बताया, "इस तरह की कल्पनाएं मुंबई शहर में मौजूदा दौर में भी काफी प्रासंगिक हैं, हैं न? दरअसल, आपको कविता लिखने के लिए कल्पना की तलाश करने को लेकर कहीं बाहर जाने की जरूरत नहीं है। कल्पनाएं हमारे आसपास तैर रही हैं, बस इन पर नजर डालने की जरूरत है।

जहां तक गुलजार के हालिया काम की बात है, तो उन्होंने अलबम 'दिल पीर है' के लिए आठ गीत लिखे हैं, जिसे मशहूर गायक और संगीतकार भूपिंदर सिंह ने अपनी धुनों से सजाया है। उनके मुताबिक, सिंह के साथ लंबे समय से उनके जुड़ाव की परिणति एक अच्छी साझेदारी के रूप में हुई।

दोनों ने साथ मिलकर 'दो दीवाने शहर में', 'बीते ना बिताए रैना' जैसे लोकप्रिय गीत दिए हैं।

गुलजार ने कहा कि अक्सर वे सबसे पहले वह गाना लिखते हैं और फिर भूपिंदर उसे धुनों से सजाते हैं, लेकिन इस अलबम के शीर्षक गीत को उन्होंने खुद रचा और फिर गायक ने उन्हें धुन में सुनाया और इस तरह गीत के बोल पांच मिनट में तैयार हो गए।" उन्होंने आगे कहा, "कभी-कभी ऐसा तुक्का काम कर जाता है।"

'दिल पीर है' भूपिंदर और मिताली के संगीत लेबल भूमिताल म्यूजिक का पहला अलबम है।

गुलजार अपनी आकर्षक आवाज में कविता सुनाने के लिए भी जाने जाते हैं। उन्होंने अपने दो ऑडियो बुक 'रंगीला गीदड़' और 'परवाज' भी प्रकाशित किए हैं।

साहित्य अकादमी पुरस्कर से सम्मानित गुलजार ने अपनी कविता का पाठ खुद करने के अनुभव को साझा करते हुए बताया, "मैं अपनी सभी कविताओं की मां हूं। वे मेरी कल्पनाओं से जन्मी हैं।"

उन्होंने कहा कि कविताओं को सुनाते समय उससे जुड़ी भावना स्वभाविक रूप से आती है, यह सभी रचनात्मक लोगों के साथ होता है।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;