सिनेजीवन: ‘वॉर’ के प्रमोशन के दौरान साथ नहीं आएंगे ऋतिक-टाइगर और तापसी पन्नू की फिल्म ‘सांड की आंख’ का ट्रेलर रिलीज

ऋतिक रोशन और टाईगर श्रॉफ की आने वाली फिल्म ‘वॉर’ के प्रोमोशनल इवेंट्स में दोनों अभिनेता साथ में दिखाई नहीं देंगे, क्योंकि निर्माता उनकी ऑन स्क्रीन दुश्मनी को ऑफ स्क्रीन भी रखना चाहते हैं और तापसी पन्नू-भूमि की ‘सांड की आंख’ का ट्रेलर रिलीज हो चुका है।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

अभिनेता ऋतिक रोशन और टाइगर श्रॉफ अपनी आगामी एक्शन फिल्म 'वॉर' का प्रोमोशन एक साथ नहीं करेंगे, क्योंकि निर्माता उनकी ऑन-स्क्रीन दुश्मनी को ऑफ-स्क्रीन भी दर्शाना चाहते हैं। निर्देशन सिद्धार्थ आनंद ने कहा, "'वॉर' जैसी बड़ी फिल्म में दो सबसे बड़े एक्शन सुपरस्टार हैं और हम चाहते हैं कि दर्शक पहली बार ऋतिक और टाइगर को एक साथ बड़े पर्दे पर ही देखें। उन्हें एक-दूसरे को टक्कर देते देखने के जादू को हम खराब नहीं करना चाहते हैं, हम चाहते हैं कि फिल्म देखने तक दर्शकों की जिज्ञासा बनी रहे। ऋतिक और टाइगर ने एक-दूसरे से बेरहमी से लड़ाई की है और हम इस ऑन-स्क्रीन दुश्मनी को ऑफ-स्क्रीन चर्चा का विषय बनाना चाहते हैं।" उन्होंने आगे कहा, "वे फिल्म के प्रमोशन के दौरान एक साथ मंच साझा नहीं करेंगे।"

एक सूत्र ने बताया, "निर्माताओं ने फैसला किया है कि ऋतिक और टाइगर प्रमोशन के दौरान नहीं मिलेंगे! वे सब कुछ अलग-अलग कर रहे होंगे और लगातार दोनों के बीच 'वॉर' वाली स्थिति बनी रहेगी। निर्माता चाहते हैं कि दर्शक पहली बार बड़े पर्दे पर ऋतिक और टाइगर को साथ देखें!"

यशराज फिल्म्स द्वारा निर्मित यह फिल्म 2 अक्टूबर को हिंदी, तमिल और तेलुगू भाषा में रिलीज होगी।

तापसी पन्नू की फिल्म ‘सांड की आंख’ का ट्रेलर रिलीज

तापसी पन्नू और भूमि पेडनेकर की फिल्म ‘सांड की आंख’ का ट्रेलर आखिरकार सोशल मीडिया पर रिलीज हो चुका है। अनुराग कश्यप की इस फिल्म की कहानी उत्तर प्रदेश के एक गांव की दो शूटर दादियों के जीवन पर आधारित है। तुषार हीरानंदानी के निर्देशन में बन रही इस फिल्म को दिवाली के आसपास रिलीज किया जाएगा। फिल्म में तापसी और भूमि के अलावा प्रकाश झा, विनीत कुमार सिंह और शाद रंधावा भी अहम् भूमिका में दिखेंगे।

कौन हैं असल जिंदगी की शूटर दादी

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया

दरअसल यह फिल्म यूपी के जौहरी गांव की चंद्रो तोमर और प्रकाशी तोमर की कहानी है। इन दोनों ने ही 50 वर्ष की उम्र में अपनी बेटियों को प्रेरित करने के लिए निशानेबजी शुरू की थी। लेकिन बेटियों को प्रेरित करते करते ये दोनों दादियां अपने आप में ही प्रेफशनल शूटर बन गईं। दोनों ने शूटिंग की कई प्रतियोगिताओं में 300 से ज्यादा मेडल्स जीते हैं।

(आईएएनएस इनपुट के साथ)

लोकप्रिय
next