बिक गया कपूर खानदान का ऐतिहासिक आरके स्टूडियो, अब इस जमीन पर गोदरेज बनाएगा अमीरों के लिए फ्लैट्स

कपूर खानदान का ऐतिहासिक आरके स्टूडियो आखिरकार बिक गया है। गोदरेज समूह की गोदरेज प्रॉपर्टीज ने इसे खरीद लिया है। 1948 में बने आरके स्टूडियो में 2 साल पहले आग लगने की वजह से कपूर खानदान ने इसे बेचने की घोषणा की थी।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया

नवजीवन डेस्क

इंडियन फिल्म इंडस्ट्री के इतिहास में कपूर खानदान और आरके स्टुडियो का एक अहम योगदान रहा है। शुक्रवार को कपूर खानदान का ये ऐतिहासिक आरके फिल्म स्टूडियो बिक गया है। पिछले 2 साल से कपूर खानदान स्टूडियो की अच्छी कीमत देने वाले खरीदार की तलाश कर रहा था और आखिरकार गोदरेज समूह की गोदरेज प्रॉपर्टीज फर्म ने इसे खरीद लिया है। यह भी कहा जा रहा है कि गोदरेज प्रोपर्टीज इसे तोड़कर यहां आलिशान फ्लैट्स बनाएगी।

दरअसल आरके फिल्म स्टुडियो में करीब 2 साल पहले अचानक आग लग गयी थी। आग लगने की वजह से स्टुडियो में जो नुक्सान हुआ था उसकी मरम्मत करवाना काफी मुश्किल था। इसके बाद से ही कपूर खानदान ने यह तय कर लिया था कि वे इस ऐतिहासिक धरोहर को बेच देंगे।

गोदरेज समूह के तरफ से इस बात की आधिकारिक पुष्टि की गयी है। हालांकि कपूर खानदान और गोदरेज के बीच हुई डील के बारे में अभी कोई खुलासा नहीं किया गया है। गोदरेज प्रॉपर्टीज ने यह भी कहा है कि वे आरके स्टुडियो का इस्तेमाल लग्जरी फ्लैट बनाने और रिटेल स्पेस के लिए करेंगे।

बता दें कि आरके स्टुडियो 33000 स्क्वेवर फीट जमीन पर बना हुआ है। गोदरेज के कार्यकारी चेयरमैन फिरोजशाह गोदरेज ने बताया कि चेंबूर के इस ऐतिसाहिक धरोहर को कंपनी ने अपने पोर्टफोलियो मे शामिल किया है। वहीं इस डील पर रणधीर कपूर ने कहा, 'चेंबूर में यह हमारे परिवार के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण धरोहर रही है। अब इस प्रॉपर्टी पर नई कहानी गढ़ने के लिए हमने गोदरेज को चुना है।'

बता दें कि दिग्गज अभिनेता राज कपूर ने साल 1948 में आरके स्टुडियो की नींव रखी थी। इस स्टुडियो का नाम राज कपूर के नाम पर ही रखा गया है। साल 2017 में स्टुडियो में अचानक आग लगने की वजह से इसका एक बड़ा हिस्सा जल गया था। इसके बाद कपूर परिवार ने इसे बेचने की घोषणा कर दी थी। इस स्टुडियो से आम लोगों का भी काफी भावनात्मक लगाव रहा है।

लोकप्रिय