अर्शदीप ने खोला राज, बोले- सोच रहा था कि मैंने बहुत ज्यादा रन दे दिए...

अर्शदीप ने यह भी बताया कि जीत के बावजूद, भारतीय तेज गेंदबाजी इकाई अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन नहीं कर पाई और आने वाले खेलों में बेहतर प्रदर्शन करने की कोशिश करेगी।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

बेंगलुरु के चिन्नास्वामी स्टेडियम में आप कभी भी 160 रन के स्कोर को सुरक्षित नहीं कह सकते हैं। लेकिन भारतीय तेज गेंदबाज अर्शदीप सिंह के मुताबिक यह एक सुरक्षित स्कोर था। 2023 के आईपीएल में इस मैदान पर सात मैचों का औसत स्कोर 196 रन था।

 टी-20 सीरीज के आखिरी मैच में ऑस्ट्रेलिया को अंतिम दो ओवरों में जीत के लिए 17 रनों की जरूरत थी और मैथ्यू वेड क्रीज़ पर थे। 19वें ओवर में मुकेश कुमार ने सिर्फ सात रन दिए और अंतिम ओवर में अब ऑस्ट्रेलिया को 10 रन बनाने थे। अर्शदीप ने पहले तीन ओवरों में 37 रन दिए थे। लेकिन उन्होंने आखिरी ओवर में जबरदस्त गेंदबाजी करते हुए सिर्फ तीन रन दिए और वेड का विकेट निकाला। इससे पहले इस मैदान पर 2017 में 160 से कम का स्कोर डिफेंड हो पाया था।

अर्शदीप के लिए अंतिम ओवर आसान नहीं था। बाएं हाथ के तेज गेंदबाज अर्शदीप सिंह ने कहा कि वह सोच रहे थे कि उन्होंने बहुत ज्यादा रन दिए हैं। खेल के अंतिम ओवर में केवल तीन रन देने से पहले उनके दिमाग में यह बात आई। रविवार रात एम चिन्नास्वामी स्टेडियम में पिच स्ट्रोक-प्ले के लिए आसान नहीं थी। भारत ने 160/8 का स्कोर बनाया। जवाब में ऑस्ट्रेलिया ने जोरदार शुरुआत की, लेकिन 18 ओवर में 144/7 पर ही सिमट गई।

12 गेंदों में 17 रनों की जरूरत थी। मुकेश कुमार ने 19वें ओवर में केवल नौ रन दिए। इससे पहले अर्शदीप ने अपने पहले तीन ओवरों में 37 रन दिए थे। लेकिन फिर उन्होंने मैथ्यू वेड को आउट कर खेल को भारत की झोली में डाल दिया।


अर्शदीप ने मैच खत्म होने के बाद कहा, "मुझे लगता है कि खेल के बड़े हिस्से में, लगभग पहले 19 ओवरों के लिए, मैं सोच रहा था कि मैंने बहुत अधिक रन दिए और मैं खेल का दोषी होऊंगा। लेकिन भगवान ने मुझे एक और मौका दिया और मुझे खुद पर विश्वास था। धन्यवाद भगवान का शुक्र है कि मैंने इसका बचाव किया और टीम को भी धन्यवाद जिसने मुझ पर विश्वास किया।''

"ईमानदारी से कहूं तो, मेरे दिमाग में कुछ भी नहीं चल रहा था। सूर्या (सूर्यकुमार यादव) भाई ने मुझसे कहा कि जो होता है, होता है। इसका श्रेय हमारे बल्लेबाजों को भी जाता है। उन्होंने यहां एक मुश्किल विकेट पर हमें वास्तव में अच्छा स्कोर दिया और हमने अतिरिक्त 15 से 20 रन बचाने के लिए मिले।"

अर्शदीप ने यह भी बताया कि जीत के बावजूद, भारतीय तेज गेंदबाजी इकाई अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन नहीं कर पाई और आने वाले खेलों में बेहतर प्रदर्शन करने की कोशिश करेगी।

दाएं हाथ के बल्लेबाज श्रेयस अय्यर, जिनकी 37 गेंदों में 53 रन की पारी ने भारत को विजयी स्कोर तक पहुंचाया, ने भी अर्शदीप के अंतिम ओवर की प्रशंसा की और माना कि पिच बल्लेबाजी के लिए चुनौतीपूर्ण थी। "ईमानदारी से कहूं तो मैं हर किसी को टीम के लिए योगदान करते देखकर बहुत खुश हूं। जब अर्शदीप आखिरी ओवर फेंक रहा था तो मैं उसे ही देख रहा था।"

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;