खेल: T20 World Cup से पहले BCCI का बड़ा फैसला और इस भारतीय बल्लेबाज का कमाल, 404 रन की पारी खेल रचा इतिहास

भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) ने सीनियर पुरुष राष्ट्रीय चयन समिति में एक पद के लिए आवेदन आमंत्रित किए हैं और भारतीय बल्लेबाज ने फर्स्ट क्लास क्रिकेट में 400 रनों का आंकड़ा पार किया और इतिहास रच दिया।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

बीसीसीआई ने पुरुष चयन समिति में इस पद के लिए मांगे आवेदन

भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) ने सीनियर पुरुष राष्ट्रीय चयन समिति में एक पद के लिए आवेदन आमंत्रित किए हैं। दिलचस्प बात यह है कि वर्तमान में अजीत अगरकर की अध्यक्षता वाली पांच सदस्यीय चयन समिति में चयनित उम्मीदवार किसकी जगह लेगा, इसका कोई विशेष उल्लेख नहीं है। ऐसी अटकलें हैं कि भारत के पूर्व तेज गेंदबाज और वर्तमान चयन समिति के सदस्य सलील अंकोला को मौका मिल सकता है, क्योंकि वह और अगरकर पश्चिम क्षेत्र से हैं। इसके अलावा, वर्तमान चयन समिति में उत्तरी क्षेत्र से कोई सदस्य नहीं हैं, इस छोटी भूमिका के लिए कौन आवेदन करेगा इस पर चीजें दिलचस्प हो गई हैं। अंकोला, एस शरथ, सुब्रतो बनर्जी और एसएस दास को 7 जनवरी, 2023 को चयन समिति में नियुक्त किया गया था, जिसमें चेतन शर्मा मुख्य चयनकर्ता थे।

एक समाचार चैनल के स्टिंग ऑपरेशन के बाद 17 फरवरी, 2023 को शर्मा के अपने पद से हटने के बाद भारत के पूर्व तेज गेंदबाजी ऑलराउंडर अजीत अगरकर को उसी वर्ष 4 जुलाई को मुख्य चयनकर्ता नियुक्त किया गया था। बीसीसीआई द्वारा पोस्ट किए गए नौकरी विवरण के अनुसार आदर्श उम्मीदवार को कम से कम सात टेस्ट मैच या 30 प्रथम श्रेणी मैच या 10 वनडे और 20 प्रथम श्रेणी मैच खेलने का अनुभन होना चाहिए। उम्मीदवार को कम से कम 5 साल पहले क्रिकेट से संन्यास लिया होना चाहिए। दिलचस्प बात यह है कि नोटिस में किसी आयु सीमा का जिक्र नहीं है। कोई भी व्यक्ति जो कुल पांच वर्षों तक किसी भी क्रिकेट समिति (जैसा कि बीसीसीआई के मेमोरेंडम ऑफ एसोसिएशन और नियमों और विनियमों में परिभाषित है) का सदस्य रहा है, वह पुरुष चयन समिति का सदस्य बनने के लिए पात्र नहीं होगा। नोटिस में किसी भी आदर्श आयु मानदंड का उल्लेख नहीं है। आवेदन 25 जनवरी को शाम 6 बजे तक जमा किए जाने चाहिए। बीसीसीआई ने कहा कि आवेदनों की स्क्रीनिंग/शॉर्ट लिस्टिंग के बाद, शॉर्टलिस्ट किए गए उम्मीदवारों को आगे के मूल्यांकन के लिए पर्सनल इंटरव्यू के लिए बुलाया जाएगा।

मुझमें सर्वश्रेष्ठ लाने का श्रेय सीएसके और धोनी को जाता है : दुबे

शिवम दुबे ने 32 गेंदों में नाबाद 63 रनों की पारी खेलकर भारत को अफगानिस्तान के खिलाफ तीन मैचों की टी20 सीरीज में 2-0 की अजेय बढ़त दिलाई। अपने शानदार प्रदर्शन का श्रेय इस खिलाड़ी ने अपनी आईपीएल टीम सीएसके और कप्तान एमएस धोनी को दिया। शिवम दुबे को आईपीएल 2022 से पहले सीएसके ने चार करोड़ रुपये में खरीदा था, लेकिन यह 2023 सीज़न था, जहां उन्होंने टीम को चैंपियन बनाने के अभियान में अपनी चमक बिखेरी। दुबे ने 16 मैचों में 158.33 की स्ट्राइक-रेट से 418 रन बनाए। उन्होंने टूर्नामेंट में 35 छक्के लगाने से लेकर बीच के ओवरों में एक स्पिन-हिटर की भूमिका में दमदार प्रदर्शन किया। उस प्रदर्शन ने उन्हें पिछले साल आयरलैंड दौरे में भारत की टी20 टीम में वापसी कराई। अब आईपीएल 2024 से पहले यह खिलाड़ी एक बार फिर शानदार लय में नजर आ रहा है।

अफगानिस्तान के खिलाफ चल रही श्रृंखला में दुबे ने लगातार अर्द्धशतक जड़ा। पिछले दोनों मैंचों में उन्होंने नाबाद 60 और नाबाद 63 रन बनाए हैं। साथ ही दोनों मैचों में एक-एक विकेट भी अपने नाम किए। दुबे ने कहा, "जैसे-जैसे मैं आगे बढ़ रहा हूं, अपने प्रदर्शन में सुधार करते रहना खुशी की बात है। मेरे पास जो रेंज है वह भगवान की देन है। मैंने इस मुकाम तक पहुंचने के लिए काफी मेहनत भी की है।" दुबे ने जियोसिनेमा से बातचीत में कहा, "इसका श्रेय चेन्नई सुपर किंग्स (सीएसके) और माही भाई (एमएस धोनी) को जाता है क्योंकि मेरे अंदर क्षमता थी, लेकिन उन्होंने मेरे अंदर से सर्वश्रेष्ठ को बाहर निकाला है।" पुरुष टी20 विश्व कप छह महीने से भी कम दूर होने के कारण दुबे ने भविष्य में क्या हो सकता है। इसके बारे में सोचने के बजाय वर्तमान पर ध्यान देने के बारे में सोचने पर जोर दिया।


भारत के सीम आक्रमण का सामना करना कठिन : बेन डकेट

इंग्लैंड और भारत के बीच आगामी पांच मैचों की टेस्ट सीरीज के लिए इंग्लिश बल्लेबाजों और भारत के प्रसिद्ध स्पिन आक्रमण के बीच लड़ाई पर काफी चर्चा हैं। इंग्लैंड के सलामी बल्लेबाज बेन डकेट ने कहा कि मेजबान टीम के तेज गेंदबाजों से भी उन्हें काफी चुनौती मिलेगी। पिछली बार जब इंग्लैंड ने 2021 में भारत का दौरा किया था, तो उन्होंने चेन्नई में शुरुआती मैच जीता था। लेकिन, इसके बाद रविचंद्रन अश्विन और अक्षर पटेल की स्पिन जोड़ी ने इंग्लिश बल्लेबाजों को रन बनाने का कोई मौका नहीं दिया। भारतीय स्पिन जोड़ी ने मिलकर 60 विकेट लिए और भारत को 3-1 से जीत दिलाई। आगामी श्रृंखला के लिए अश्विन और पटेल के साथ स्पिन विभाग में रवींद्र जडेजा और कुलदीप यादव शामिल होंगे।

तेज गेंदबाजी इकाई में चोटिल मोहम्मद शमी की कमी खल रही है, लेकिन, भारत के पास जसप्रीत बुमराह, मोहम्मद सिराज, मुकेश कुमार और आवेश खान जैसे खतरनाक गेंदबाज अब भी मौजूद हैं। बेन डकेट ने कहा, "लोग इस बारे में बात करते हैं कि भारत की स्पिन गेंदबाजी कितनी अच्छी है, लेकिन, उनके सीम आक्रमण के खिलाफ विरोधी टॉप क्रम को भी काफी चुनौतियों का सामना करना पड़ेगा। चाहे पिचें कितनी भी सपाट क्यों न हों, लेकिन, भारतीय तेज गेंदबाज का प्रदर्शन अच्छा रहता है। डकेट ने 2016 में बांग्लादेश दौरे पर टेस्ट क्रिकेट में पदार्पण किया और भारत दौरे पर राजकोट और विशाखापत्तनम में भी मैच खेले। उसके बाद उन्हें टीम से बाहर कर दिया गया, लेकिन, 2022 से वह टीम के नियमित खिलाड़ी हैं। बाएं हाथ के बल्लेबाज ने स्पिनरों का मुकाबला करने के लिए कई तरह के स्वीप भी अपनाए हैं। उनका मानना है कि भारत की पिचों पर खेलना अब उनके लिए कोई चौंकाने वाली बात नहीं होगी। खासकर अश्विन का सामना करने में जो 500 टेस्ट विकेट के ऐतिहासिक रिकॉर्ड से 10 विकेट दूर हैं।

कूच बिहार ट्रॉफी : प्रखर चतुर्वेदी ने फाइनल में ठोके 400 रन, युवी का 25 साल पुराना रिकॉर्ड तोड़ा

प्रखर चतुर्वेदी ने अंडर-19 पुरुषों के लिए भारत के प्रमुख मल्टी-डे टूर्नामेंट कूच बिहार ट्रॉफी के फाइनल में मुंबई के खिलाफ 400 रन बनाकर भारतीय क्रिकेट इतिहास में अपना नाम दर्ज करा लिया।

कूच बिहार ट्रॉफी के फाइनल में युवराज सिंह के सर्वोच्च व्यक्तिगत स्कोर के रिकॉर्ड को तोड़ते हुए, प्रखर चतुर्वेदी ने न केवल पहली पारी की बढ़त के आधार पर कर्नाटक के लिए जीत हासिल की, बल्कि क्रिकेट की दुनिया में भी अपना नाम दर्ज कराया।

उनका नाबाद 404 रन अब टूर्नामेंट के इतिहास में दूसरा सबसे बड़ा व्यक्तिगत स्कोर बन गया। यह एक ऐसी उपलब्धि है, जिसने क्रिकेट एक्सपर्ट और फैंस का ध्यान अपनी ओर खींचा।

कूच बिहार ट्रॉफी के फाइनल मैच में पिछला सर्वोच्च स्कोर युवराज का था, जो दिसंबर 1999 में बना था। जब उन्होंने बिहार की टीम पर पंजाब की जीत (पहली पारी की बढ़त पर) में 358 रन बनाए थे, जिसमें एमएस धोनी भी शामिल थे।

2011-12 सीज़न में असम के खिलाफ महाराष्ट्र के लिए विजय ज़ोल 451 रन बनाकर टूर्नामेंट में सर्वोच्च व्यक्तिगत स्कोर दर्ज है।


ऑस्ट्रेलिया दौरे के लिए लॉरा वोल्वार्ट की अगुवाई वाली द. अफ्रीका की टीम का ऐलान

क्रिकेट दक्षिण अफ्रीका (सीएसए) ने 27 जनवरी से 18 फरवरी तक होने वाले ऑस्ट्रेलिया के बहु-प्रारूप दौरे के लिए सफेद गेंद चरण के कप्तान लॉरा वोल्वार्ट के नेतृत्व में 15 खिलाड़ियों की महिला टीम की घोषणा की है। दक्षिण अफ्रीका टीम में अनुभवी ऑलराउंडर मारिजैन कैप और क्लो ट्रायॉन भी हैं, जो लॉरा के साथ महिला बिग बैश लीग (डब्ल्यूबीबीएल) की नियमित खिलाड़ी रही हैं। क्लो ट्रायॉन कमर की चोट के कारण हाल ही में डब्ल्यूबीबीए सीज़न के बाद से एक्शन से बाहर थी।

इस टीम में दक्षिण अफ्रीका के लिए अपना पहला वनडे चयन अर्जित करने वाली तेज गेंदबाज अयंदा ह्लुबी हैं, जिन्होंने पिछले साल किम्बरली में बांग्लादेश के खिलाफ तीसरे टी20 में प्रभावशाली डेब्यू किया था। मुख्य कोच हिल्टन मोरेंग ने कहा, "हमने सफेद गेंद के संबंध में अपने कौशल पर भी चर्चा की। हम कहां जा रहे हैं और क्या आवश्यक है, इसलिए चयनित टीम बहुत संतुलित और प्रतिस्पर्धी है। हम ऑस्ट्रेलिया में जाने के लिए बहुत आश्वस्त हैं।"

ऑस्ट्रेलिया दौरे के लिए दक्षिण अफ्रीका की सफेद गेंद वाली टीम :-

लॉरा वोल्वार्ट (कप्तान), ऐनी बॉश, ताज़मिन ब्रिट्स, नादिन डी क्लार्क, मिके डी रिडर, अयांदा ह्लुबी, सिनालो जाफ्ता, मारिजैन कैप, अयाबोंगा खाका, मसाबाता क्लास, सुने लुस, एलिज़- मारी मार्क्स, नॉनकुलुलेको म्लाबा, क्लो ट्रायॉन और डेल्मी टकर।

शेड्यूल

24 जनवरी : टी20 वार्म-अप मैच, गवर्नर-जनरल इलेवन बनाम दक्षिण अफ्रीका (उत्तरी सिडनी ओवल, सिडनी)

टी20 सीरीज

27 जनवरी : पहला टी20 मैच, मनुका ओवल, कैनबरा

28 जनवरी : दूसरा टी20 मैच, मनुका ओवल, कैनबरा

30 जनवरी: तीसरा टी20 मैच, बेलेरिव ओवल, होबार्ट

वनडे सीरीज

3 फरवरी : पहला वनडे, एडिलेड

7 फरवरी : दूसरा वनडे, सिडनी

10 फरवरी : तीसरा वनडे, सिडनी

टेस्ट मैच : 15-18 फरवरी, वाका ग्राउंड, पर्थ

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;