कोहली को लेकर बहुत बड़ा खुलासा, विराट को कारण बताओ नोटिस भेजना चाहते थे सौरव गांगुली, वजह जानकर रह जाएंगे हैरान!

सौरव गांगुली और विराट कोहली मामले में एक बड़े खुलासे में बताया गया है कि बीसीसीआई अध्यक्ष दिसंबर 2021 में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ सीरीज शुरू होने से पहले तत्कालीन भारतीय टेस्ट कप्तान को कारण बताओ नोटिस जारी करना चाहते थे।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

सौरव गांगुली और विराट कोहली मामले में एक बड़े खुलासे में बताया गया है कि बीसीसीआई अध्यक्ष दिसंबर 2021 में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ सीरीज शुरू होने से पहले तत्कालीन भारतीय टेस्ट कप्तान को कारण बताओ नोटिस जारी करना चाहते थे। भारतीय टीम के दक्षिण अफ्रीका के लिए रवाना होने से पहले कोहली ने प्रेस कांफ्रेंस को संबोधित किया था और कई बातों पर अपना रुख स्पष्ट किया था। उन्होंने दावा किया कि बोर्ड या चयन समिति में से किसी ने भी उन्हें टी20 क्रिकेट में कप्तानी छोड़ने के अपने फैसले पर पुनर्विचार करने के लिए नहीं कहा था।

लेकिन गांगुली ने कहा था कि उन्होंने व्यक्तिगत रूप से स्टार बल्लेबाज से अनुरोध किया था कि वे टी20 की कप्तानी की भूमिका को न छोड़ें। 33 वर्षीय खिलाड़ी ने उन्हें एकदिवसीय कप्तान के रूप में हटाने से पहले उनके और बोर्ड के बीच संचार की कमी के बारे में भी शिकायत की थी।


मीडिया के सामने कोहली द्वारा की गई ये टिप्पणियां बीसीसीआई को अच्छी नहीं लगीं, क्योंकि इसने अंतत: बोर्ड और गांगुली दोनों के बीच विवाद को जन्म दिया था और यह बताया गया था कि गांगुली उन्हें कारण बताओ नोटिस जारी करने वाले थे। गांगुली ने इस मामले पर बीसीसीआई के सदस्यों से भी चर्चा की थी। हालांकि, बोर्ड ने साउथ अफ्रीका में टेस्ट श्रृंखला से कुछ दिन पहले टेस्ट कप्तान को नोटिस जारी करना उचित नहीं समझा था।

इंडिया अहेड न्यूज ने इस घटनाक्रम से जुड़े एक सूत्र के हवाले से कहा, "बोर्ड अध्यक्ष कोहली को कारण बताओ नोटिस जारी करने के पक्ष में थे।" विशेष रूप से, कोहली ने 2021 टी20 विश्व कप के बाद टी20 कप्तानी छोड़ दी थी, लेकिन बीसीसीआई ने उन्हें भारत के वनडे कप्तान के रूप में बदलने के फैसले के बावजूद वह इस पद पर बने रहना चाहते थे, जिससे विवाद हुआ और बोर्ड के अध्यक्ष गांगुली के साथ बल्लेबाज के संबंध तनावपूर्ण हो गए और चीजें दोनों के बीच अभी भी ठीक नहीं हुई हैं।


दक्षिण अफ्रीका टेस्ट श्रृंखला हारने के बाद, कोहली ने टेस्ट कप्तानी भी छोड़ दी थी और इसकी घोषणा करने से पहले, उन्होंने बीसीसीआई सचिव जय शाह को इस बारे में बताया था। लेकिन रिपोर्ट्स के मुताबिक, उन्होंने गांगुली को फोन करने की जहमत नहीं उठाई थी।

हालांकि, गांगुली ने भारत के कप्तान के रूप में अपने कार्यकाल के दौरान क्रिकेट के सभी प्रारूपों में टीम को नई ऊंचाइयों पर ले जाने के लिए विराट की सराहना की थी और कहा था कि टेस्ट कप्तानी छोड़ने का स्टार बल्लेबाज का निर्णय व्यक्तिगत था और बोर्ड इसका बहुत सम्मान करता है।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


Published: 20 Jan 2022, 7:08 PM