IND Vs SA: 'रोहित सेना' ने रचा इतिहास, केपटाउन में 31 साल बाद दर्ज की जीत, सीरीज 1-1 से बराबर

भारतीय टीम ने केपटाउन टेस्ट में जीत के साथ 31 साल का इंतजार खत्म किया और न्यूलैंड्स में पहली जीत दर्ज की।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच दूसरा और अंतिम टेस्ट दो दिनों के अंदर समाप्त हो गया और भारत ने यह मैच गुरूवार को सात विकेट से जीतकर दो मैचों की सीरीज 1-1 से बराबर कर ली।

तेज गेंदबाज जसप्रीत बमुराह ने 61 रन पर 6 विकेट लेकर दक्षिण अफ्रीका को दूसरी पारी में 176 रन पर समेटा। भारत को जीत के लिए 79 रन का लक्ष्य मिला, जो उसने 12 ओवर में तीन विकेट पर 80 रन बनाकर हासिल कर लिया। भारत ने पहला टेस्ट पारी और 32 रन से गंवाने के बाद इस मुकाबले में शानदार वापसी की और दो दिन के अंदर मुकाबला जीत लिया।

यह टेस्ट इतिहास का सबसे छोटा मुक़ाबला था। यह मैच सिर्फ़ 642 गेंदों में ख़त्म हो गया है। इसके अलावा केपटाउन में भारत पहली एशियाई टीम है, जिसने दक्षिण अफ़्रीका को टेस्ट में हराया है।

लक्ष्य का पीछा करते हुए भारत के युवा ओपनर यशस्वी जायसवाल ने टीम को तेज तर्रार शुरुआत दी। जायसवाल ने मात्र 23 गेंदों पर 6 चौके उड़ाते हुए 28 रन ठोके। दूसरे आउट हुए बल्लेबाज शुभमन गिल ने 11 गेंदों पर दो चौके की मदद से 10 रन बनाए और कैगिसो रबाडा की गेंद पर बोल्ड हुए। फिर, विराट कोहली 11 गेंदों पर 2 चौके की मदद से 12 रन बनाकर मार्को यानसन का शिकार बने। कप्तान रोहित शर्मा 17 रन बनाकर नाबाद रहे, जबकि अय्यर ने मैच का विजयी चौका मारा।


दक्षिण अफ्रीका की दूसरी पारी में सलामी बल्लेबाज एडम मार्करम (106) ने शानदार शतक बनाया लेकिन बाकी बल्लेबाजों से कोई सहयोग न मिलने के कारण दक्षिण अफ्रीका लंच तक 176 रन पर सिमट गया। हालांकि मारक्रम को बुमराह की गेंद पर शतक से पहले विकेटकीपर केएल राहुल के हाथों जीवनदान मिला लेकिन उन्होंने बुमराह पर लगातार दो चौके मारकर अपना शतक पूरा किया। तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह ने 61रन पर छह विकेट लेकर मेजबान टीम को समेटने में अहम भूमिका निभाई। बुमराह के छह विकेट के अलावा मुकेश कुमार ने 2 और मोहम्मद सिराज तथा प्रसिद्ध कृष्णा ने 1-1 विकेट लिया।

दक्षिण अफ्रीका की पहली पारी 55 रन पर सिमटी थी, जबकि भारत ने 153 रन बनाकर 98 रन की बढ़त हासिल की थी। दक्षिण अफ्रीका ने कल के अपने तीन विकेट पर 66 रन के स्कोर से आगे खेलना शुरू किया। बुमराह ने दिन के पहले ही ओवर में डेविड बेडिंघम को विकेटकीपर के हाथों कैच कराकर दक्षिण अफ्रीका पर दबाव डालने की शुरुआत की और एक के बाद एक चार विकेट लेकर मेजबान का स्कोर सात विकेट पर 111 रन कर दिया।

एक छोर पर धैर्य के साथ खेल रहे एडम मार्करम को कैगिसो रबाडा का अच्छा साथ मिला और उन्होंने अपने शॉट खेलते हुए शतक पूरा किया। मार्करम ने बुमराह की गेंद पर लगातार 2 चौके लगाकर शतक पूरा किया। लेकिन शतक पूरा करने के बाद मार्करम मोहम्मद सिराज की गेंद पर रोहित शर्मा को कैच दे बैठे।

मार्करम ने 103 गेंदों की पारी में 17 चौके और 2 छक्के लगाए। रबाडा भी टीम के 162 स्कोर पर कृष्णा का शिकार बन गए। बुमराह ने फिर आक्रमण पर आते हुए लुंगी एनगिडी को तीसरे स्लिप पर यशस्वी जायसवाल के हाथों कैच कराकर दक्षिण अफ्रीका की पारी 176 रन पर समेट दी।

भारत की तरफ से बुमराह ने 13.5 ओवर में 61 रन देकर 6 विकेट हासिल किए। बुमराह के करियर में पारी में 5 विकेट लेने का यह नौंवां मौका है।


केपटाउन में भारत-साउथ अफ्रीका टेस्ट का रिकॉर्ड

  1. साल 1993 – टेस्ट मैच ड्रॉ

  2. साल 1997 – भारत को 282 रन से मिली हार

  3. साल 2007 – भारत 5 विकेट से हारा

  4. साल 2011 – मैच ड्रॉ पर हुआ समाप्त

  5. साल 2018- भारत 72 रन से हारा

  6. साल 2022- भारत को 7 विकेट से मिली हार

  7. साल 2024- भारत को 7 विकेट से मिली जीत

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


    ;