पहला टेस्ट : भारत की नजर बड़ी जीत पर, दक्षिण अफ्रीका को कप्तान और बारिश से उम्मीद

दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ पहले टेस्ट मैच में भारत की नजर अब एक बड़ी जीत पर है, जबकि दूसरी पारी में 305 रनों का पीछे करते हुए अपने 4 विकेट खो चुकी दक्षिण अफ्रीका को सिर्फ कप्तान और बारिश से ही इज्जत बचने की उम्मीदें हैं।

फोटो : @BCCI
फोटो : @BCCI
user

नवजीवन डेस्क

टेस्ट मैच के चौथे दिन जसप्रीत बुमराह की यॉर्कर ने ऐसा कमाल दिखाया कि दक्षिण अफ्रीका हक्का बक्का रह गया। उसके सामने अब भारत के हाथों पहले टेस्ट में हार से बचने के लिए या तो कप्तान डीन एल्गर की जांबाजी या फिर बारिश का ही सहारा है। वहीं भारत इस टेस्ट में एक बड़ी जीत पर नजर गड़ाए हुए है।

दक्षिण अफ्रीका ने एक लगभग असंभव से 305 रनों के स्कोर का पीछा करते हुए दूसरी पारी में चौथे दिन का खेल खत्म होने तक 94 रन बना लिए हैं, लेकिन उसके 4 विकेट गिर चुके हैं। कप्तान डीन एल्गर 52 रन बनाकर क्रीज पर जूझ रहे हैं, जबकि भारतीय गेंदबाज़ों ने ऊबड़-खाबड़ हो चुकी पिच पर लगभग आधिपत्य जमा लिया है। इसी ट्रैक पर दूसरी पारी में भारत की पूरी टीम सिर्फ 50.3 ओवर खेलकर 174 रन बनाकर पवेलिन लौट गई थी।

इस मौच में भी कप्तान विराट कोहली, चेतेश्वर पुजारा और अजिंक्य रहाने का बल्ला नहीं चला और तीनों ही नाकाम रहे। लेकिन भारतीय तेज गेंदबाजों ने मैच को भारत की तरफ मोड़ दिया है।

अब दक्षिण अफ्रीका को पांचवें दिन 211 रन जीत के लिए बनाने हैं और उसके हाथ में 6 विकेट हैं, लेकिन भारतीय उम्मीद कर रही है कि गुरुवार को पांचवे दिन के खेल के दौरान इंद्र देवता न परेशान और बारिश न हो।

चौथे दिन का खेल खत्म ही होने वाला था कि जसप्रीत बुमराह की तेज गेंद ने नाइट वॉचमैन केशव महाराज को 8 रन के निजी स्कोर पर पवेलियन रवाना कर दिया। हालांकि भारतीय गेंदबाजों को यह याद है कि कई बार वह मैच के आखिरी दिन टेल एंडर्स को आउट करने में नाकाम रहे हैं, कानपुर टेस्ट इसका ताजा उदाहरण है। लेकिन उन्हें उम्मीद है कि पांचवां दिन उनका ही होगा।


दरअसल चौथे दिन जब दक्षिण अफ्रीका ने कगिसो रबाडा (4/42) और मार्को जेनसेन (4/55) की शानदार गेंदबाजी की बदौलत दूसरी पारी में भारत को 174 रनों ऑलआउट कर दियातो उसके सामने 305 रनों का लक्ष्य था। लेकिन उसकी शुरुआत अच्छी नहीं रही, क्योंकि स्टार गेंदबाज मोहम्मद शमी ने मेजबान टीम को शुरुआती झटके के रूप में मार्करम को आउट कर दिया।

इसके बाद, बल्लेबाजी के लिए आए कीगन पीटरसन ने कप्तान डीन एल्गर के साथ मिलकर शमी और जसप्रीत बुमराह की नई गेंद का दूसरे सत्र के अंत तक सामना किया, जिसके बाद चाय की घोषणा तक दक्षिण अफ्रीका ने 22/1 रन बना लिए। भारत को 300 से ज्यादा बढ़त दिलाने के लिए ऋषभ पंत ने ताबड़तोड़ बल्लेबाजी की और 34 रन बनाकर आउट हो गए। इससे पहले लंच के बाद, पहली गेंद पर विराट कोहली ही दूसरी बार ड्राइव खेलते हुए आउट हो गए।

इसके बाद, चेतेश्वर पुजारा भी लुंगी एनगिडी की गेंद पर डी कॉक को कैच थमा बैठे। हालांकि अजिंक्य रहाणे ने मार्को जेनसेन को तीन चौके लगाए और तेजी से रन जोड़ने की कोशिश की। लेकिन जेनसन के अगले ओवर में तेज रन बनाने के चक्कर में आउट होकर वापस पवेलियन लौट गए। इस बीच, पंत और रविचंद्रन अश्विन ने सातवें विकेट के लिए 35 रनों की साझेदारी करते हुए अच्छे शॉट लगाए, लेकिन थोड़ी देर बाद रबाडा ने अश्विन को आउट कर दिया। इसके बाद रबाडा ने शमी को आउट करते पारी का अपना चौथा विकेट लिया। इस तरह से भारत की दूसरी पारी 174 पर समाप्त हो गई, जिससे दक्षिण अफ्रीका को 305 रनों का लक्ष्य मिला।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia