टीम इंडिया के शेड्यूल पर रवि शास्त्री ने उठाए सवाल, निशाने पर सौरव गांगुली और जय शाह की जोड़ी?

भारत के निवर्तमान कोच रवि शास्त्री ने स्पष्ट रूप से कहा है कि टी20 विश्व कप से पहले खिलाड़ियों के लिए किसी तरह का ब्रेक को लेकर भारतीय क्रिकेट प्रशासकों से संपर्क करना उनका काम नहीं था।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

भारत के निवर्तमान कोच रवि शास्त्री ने स्पष्ट रूप से कहा है कि टी20 विश्व कप से पहले खिलाड़ियों के लिए किसी तरह का ब्रेक को लेकर भारतीय क्रिकेट प्रशासकों से संपर्क करना उनका काम नहीं था, क्योंकि उनमें से कई को शायद पिछले छह महीनों में बायो-बबल के कारण अत्यधिक थकान से पीड़ित थे।

भारत के कई शीर्ष क्रिकेटर, जो संयुक्त अरब अमीरात में विश्व कप अभियान का हिस्सा थे, उन्होंने बायो-बबल वातावरण में कई महीने बिताए हैं। इसके तहत वो एक सैनिटाइज वातावरण से दूसरे स्थान पर जा रहे हैं और शायद ही कभी वापस घर जाकर अपने परिवार के साथ बेहतर समय बिताया हो।


शीर्ष भारतीय क्रिकेटर भारत में आईपीएल के पहले चरण के सुरक्षित बायो-बबल वातावरण से इंग्लैंड चले गए जहां उन्होंने न्यूजीलैंड के खिलाफ विश्व टेस्ट चैंपियनशिप का फाइनल खेला। उसके बाद वो इंग्लैंड के खिलाफ एक टेस्ट श्रृंखला में शामिल हुए। इसके बाद वे यूएई में दूसरे चरण के लिए आईपीएल बायो-बबल में चले गए और, शानदार लीग के पूरा होने के बाद, उन्होंने आईसीसी टी20 विश्व कप में प्रवेश किया।

मैच के बाद प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान यह पूछे जाने पर कि क्या उन्होंने विश्व कप से पहले कुछ खिलाड़ियों को किसी तरह का ब्रेक दिलाने के लिए क्रिकेट प्रशासन से संपर्क करने की कोशिश की, शास्त्री ने कहा कि यह कुछ ऐसा निर्णय है, जो प्रशासकों को करना है।


शास्त्री ने कहा, सबसे पहले, यह मेरा काम नहीं है। यह कुछ ऐसा है जो प्रशासक है, न केवल भारत से, बल्कि दुनिया भर के तमाम लोग जो बड़े टूनार्मेंटों से पहले इसकी देखरेख करते हैं, ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि खिलाड़ियों को खेल के बीच में थोड़ा समय मिल सके, और वो हमेशा तरोताजा रह सकें।

निवर्तमान कोच ने कहा कि जहां तक मुख्य कोच के रूप में उनके पांच साल के कार्यकाल का सवाल है, उन्होंने खिलाड़ियों के साथ हमेशा लचीला रूख रखा, अगर वे वास्तव में एक ब्रेक चाहते हैं, तो उन्हें आश्वासन दिया कि वे वापस आकर अपनी जगह वापस ले सकते हैं।

शास्त्री ने कहा, हमारे बीच संवाद हमेशा फ्री था, हर कोई बोलने के लिए स्वतंत्र था। किसी को भी जूनियर के रूप में नहीं माना जाता था। कोई जूनियर या सीनियर नहीं था और सभी को अपनी बात कहने की पूरी आजादी थी। उन्होंने कहा, मुझे लगता है कि यह मेरे लिए व्यक्तिगत रूप से एक यात्रा है। मुझे पता है कि यह ड्रेसिंग रूम में मेरा आखिरी दिन है। मैंने अभी लड़कों से बात की है। लेकिन मैं मुझे यह मौका देने के लिए बीसीसीआई को धन्यवाद देना चाहता हूं, यह विश्वास करते हुए कि मैं काम कर सकता था।


शास्त्री ने कहा, मुझे इसमें उन सभी समितियों को भी धन्यवाद देना चाहिए जो मुझे कोच के रूप में चुनने में थीं। हम सभी ने इस टीम पर कुछ समय के लिए श्रृंखला में कोशिश की है। मैं उन सभी को धन्यवाद देना चाहता हूं क्योंकि वे यात्रा में सभी का हिस्सा थे। लेकिन एक व्यक्ति का मैं विशेष उल्लेख करना चाहूंगा, उसका नाम एन श्रीनिवासन है। उन्होंने 2014 में मुझे यह काम करने के लिए प्रेरित किया था। वास्तव में, मुझे विश्वास नहीं था कि मैं यह काम कर सकता हूं। ऐसा लग रहा था कि उन्हें मेरी क्षमता पर मेरी तुलना में अधिक विश्वास था। मुझे आशा है कि मैंने उन्हें निराश नहीं किया है। यदि आप सुन रहे हैं, तो मुझे अवसर मिला, और मैंने अपना काम बिना किसी एजेंडे के किया।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


Published: 09 Nov 2021, 2:21 PM