शार्दुल को 'मैन ऑफ द मैच' और भुवी को 'मैन ऑफ द सीरीज' न मिलने से हैरान हैं कप्तान कोहली

भारतीय कप्तान विराट कोहली इस बात से हैरान हैं कि पुणे वनडे में शार्दुल ठाकुर को मैन ऑफ द मैच और भुवनेश्वर कुमार को मैन ऑफ द सीरीज का पुरस्कार क्यों नहीं दिया गया। उन्होंने कहा कि इन दोनों खिलाड़ियों ने शानदार प्रदर्शन किया था।

फोटो : @BCCI
फोटो : @BCCI
user

नवजीवन डेस्क

इंग्लैंड के खिलाफ तीसरे और निर्णायक वनडे में मिली रोमांचक जीत के बाद भारतीय कप्तान विराटा कोहली ने कहा है कि उनके गेंदबाजों ने नियमित अंतराल पर विकेट चटकाए, जिससे उन्हें विपक्षी टीम पर दबाव बनाने में कामयाबी मिली।

कप्तान ने हालांकि टीम की खराब फील्डिंग पर निराशा जताते हुए कहा, "खिलाड़ियों द्वारा कैच छोड़ा जाना बेहद निराशाजनक है। मैदान पर हर कोई अपनी टीम के लिए बेस्ट देना चाहता है। लेकिन कैच छोड़ने के कारण ऐसा नहीं हो पाता। मैं हैरान हूं कि शार्दुल ठाकुर को मैन ऑफ मैच का पुरस्कार नहीं मिला। भुवनेश्वर भी मैन ऑफ सीरीज के दावेदार थे। इन खिलाड़ियों ने बीच के ओवरों में काफी शानदार गेंदबाजी की। प्रसिद्ध कृष्णा और क्रुणाल ने भी काफी प्रभावित किया।"

तीसरे वनडे के लिए इंग्लैंड के सैम कुरैन को मैन ऑफ द मैच सैम घोषित किया गया। सैम कुरैन की नाबाद 95 रनों की शानदार पारी के बावजूद इंग्लैंड जीत दर्ज नहीं कर सकी और भारत ने रविवार को पुणे के महाराष्ट्र क्रिकेट संघ स्टेडियम में खेले गए तीसरे और निर्णायक वनडे मुकाबले को सात रन से जीतकर तीन मैचों की वनडे सीरीज 2-1 से जीत ली।

कोहली ने मैच के बाद कहा, "जैसा कि मैंने पहले ही कहा कि यह टॉप दो टीमों के बीच एक कड़ा मुकाबला था। इंग्लैंड के लिए किसी भी समय कोई भी लक्ष्य बड़ा नहीं होगा। सैम कुरैन ने शानदार बल्लेबाजी की। लेकिन लगातार अंतराल पर विकेट लेने के कारण हमने उन पर दबाव बनाए रखा। अंतिम ओवरों में हार्दिक पांडया और नटराजन ने बेहतरीन गेंदबाजी की।"

मेजबान भारत ने तीसरे और निर्णायक वनडे में टॉस हारकर पहले बल्लेबाजी करते हुए 48.2 ओवर में 329 रन का स्कोर बनाया और फिर इंग्लैंड को निर्धारित 50 ओवर में नौ विकेट पर 322 रन पर रोक दिया।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia