दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ दूसरा टेस्ट आज से, हैरान करने वाला है वांडर्स में टीम इंडिया का रिकॉर्ड

बॉक्सिंग डे टेस्ट जीतकर आत्मविश्वास से भरे भारत के पास दक्षिण अफ्रीका में सोमवार से शुरू हो रहे दूसरे टेस्ट मैच में मेजबान टीम को हराकर पहली बार सीरीज जीतने का मौका है।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

आईएएनएस

बॉक्सिंग डे टेस्ट जीतकर आत्मविश्वास से भरे भारत के पास दक्षिण अफ्रीका में सोमवार से शुरू हो रहे दूसरे टेस्ट मैच में मेजबान टीम को हराकर पहली बार सीरीज जीतने का मौका है। एक यादगार साल (2021) के अंत के बाद भारत 2022 में भी शानदार शुरुआत करने पर ध्यान दे रहा होगा। सेंचुरियन में जीतकर भारतीय टीम ने तीन मैचों की श्रृंखला में अजेय बढ़त बना ली है। वहीं, जोहान्सबर्ग में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ अब तक बेहतर प्रदर्शन रहा है। यहां पांच टेस्ट मैचों में भारत ने दो में जीत हासिल की है और तीन बार ड्रा किया है, जबकि भारत यहां दक्षिण अफ्रीका से कभी नहीं हारा है।

इस स्थान पर ही भारत ने टी20 विश्व कप का पहला सीजन जीता था, जिसमें पाकिस्तान को पांच रनों से फाइनल में हराया था। संयोग से वांडर्स एक ऐसी जगह है, जहां से भारत ने विदेशी धरती पर जीतना शुरू किया था।

2018 में यहां भारत ने दक्षिण अफ्रीका को 63 रनों से हराने के लिए कड़ी मेहनत की थी, जिससे टीम को विदेशी परिस्थितियों में अच्छा प्रदर्शन करने का विश्वास और बढ़ा और फिर घर के बाहर यादगार जीत का सिलसिला शुरू हुआ था।


सुपरस्पोर्ट पार्क में पहले टेस्ट में भारत ने सभी विभागों में अच्छा प्रदर्शन किया, हालांकि दक्षिण अफ्रीका के तेज गेंदबाजों ने पहले दिन की कमी के बाद जोरदार वापसी की। टॉस भारत के पक्ष में रहा, जिसके बाद केएल राहुल और मयंक अग्रवाल ने 117 रन की साझेदारी की थी।

अग्रवाल (60) और राहुल (123) रन बनाए थे, जिससे भारत को पहली पारी में 130 रनों की बढ़त मिली थी, इसके बाद दक्षिण अफ्रीका टीम पर काफी दबाव पड़ा था।

पहली पारी में अग्रवाल और राहुल की पारी के अलावा, कोई भी भारतीय बल्लेबाज ज्यादा देर तक नहीं टिक पाए थे, हालांकि अजिंक्य रहाणे ने कुछ अच्छे शॉट खेले, जबकि दूसरी पारी में ऋषभ पंत ने 34 रनों की तेज पारी खेली थी।

विराट कोहली 2013 में हाई स्कोरिंग ड्रॉ में अपने 119 और 96 रनों की पारी से कुछ प्रेरणा ले सकते हैं। उन्होंने 2018 में यहां 54 और 41 रनों की पारी खेली थी।

चेतेश्वर पुजारा भी 2013 में दूसरी पारी में बनाए गए 153 रनों की यादों को ताजा करने पर जोर देंगे, जबकि 2018 में रहाणे के 48 रनों की पारी लोगों को अभी भी याद होंगे। टीम के सीनियर तिकड़ी को अतीत में खेले शानदार पारी को याद करके वर्तमान में बेहतर प्रदर्शन करने की जरूरत होगी।


दक्षिण अफ्रीका के पास भारत को चुनौती देने के लिए गेंदबाजी आक्रमण है, लेकिन उसके बल्लेबाजों को भारतीय गेंदबाजी के खिलाफ खड़े होने की जरूरत है। क्विंटन डी कॉक के टेस्ट क्रिकेट से आश्चर्यजनक रूप से संन्यास लेने के बाद मेजबान टीम के बल्लेबाजी क्रम और कमजोर हो गई है।

काइल वेरेन के विकेटकीपर-बल्लेबाज के रूप में डी कॉक की जगह लेने की उम्मीद है, लेकिन दक्षिण अफ्रीका ऑलराउंडर वियान मुल्डर की जगह किसी बल्लेबाज को मौका दे सकता है।

कुल मिलाकर, भारत पहली बार दक्षिण अफ्रीका में एक श्रृंखला जीत हासिल करने के लिए अपना सर्वश्रेष्ठ देने के लिए आगे बढ़ेगा, जहां उन्होंने कभी कोई टेस्ट मैच नहीं हारा है।

दूसरी ओर, दक्षिण अफ्रीका को केपटाउन में होने वाले फाइनल मैच से एक हफ्ते पहले सीरीज हारने से खुद को बचाना होगा।

दोनों टीमें इस प्रकार हैं-

भारतीय टीम : विराट कोहली (कप्तान), केएल राहुल (उपकप्तान), मयंक अग्रवाल, चेतेश्वर पुजारा, अजिंक्य रहाणे, ऋषभ पंत (विकेटकीपर), रविचंद्रन अश्विन, मोहम्मद शमी, जसप्रीत बुमराह, शार्दुल ठाकुर, मोहम्मद सिराज, श्रेयस अय्यर हनुमा विहारी, रिद्धिमान साहा (विकेटकीपर), जयंत यादव, इशांत शर्मा, उमेश यादव और प्रियांक पांचाल।

दक्षिण अफ्रीका टीम : डीन एल्गर (कप्तान), एडेन मार्करम, सरेल इरवी, कीगन पीटरसन, रस्सी वैन डेर डूसन, टेम्बा बावुमा, काइल वेरेन (विकेटकीपर), रयान रिकेल्टन, वियान मुलडर, मार्को जेन्सन, केशव महाराज, कैगिसो रबाडा, डुआने ओलिवियर, लुंगी एनगिडी और ग्लेनटन स्टुरमैन।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia