खेल की 5 बड़ी खबरें: न्यूजीलैंड के इस खिलाड़ी ने की संन्यास की घोषणा और गिरफ्तार हुआ श्रीलंकाई क्रिकेटर

अपने डेब्यू वनडे मैच में हैट्रिक लेने वाले श्रीलंका के क्रिकेटर शेहान मदुशनका को हेरोइन रखने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है और कैंटरबरी क्रिकेट और क्रिकेट वेलिंग्टन के अनुभवी खिलाड़ी स्टीफन मडरेक ने संन्यास लेने की घोषणा की है।

 फोटो : सोशल मीडिया
फोटो : सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

श्रीलंकाई क्रिकेटर का रद्द होगा कॉन्ट्रैक्ट! ये है वजह

अपने डेब्यू वनडे मैच में हैट्रिक लेने वाले श्रीलंका के क्रिकेटर शेहान मदुशनका को हेरोइन रखने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है, जिसके बाद श्रीलंका क्रिकेट (एसएलसी) उनके अनुबंध को खत्म करने की योजना बना रहा है। मध्यम गति के इस तेज गेंदबाज और उसके एक दोस्त को 23 मई को मादक पदर्थ रखने के आरोप में गिरफ्तार किया गया था। उत्तर-पश्चिमी प्रांत के कुलियापिटिया में मजिस्ट्रेट ने उन्हें 2 जून तक रिमांड पर रखने का आदेश दिया। एससीएल के मुख्य कार्यकारी अधिकारी एशले डिसिल्वा ने कहा, ‘हमें अभी तक इस बारे में आधिकारिक तौर पर सूचित नहीं किया गया है। वह एक अनुबंधित खिलाड़ी है। अगर उन पर लगा आरोप साबित होता है तो हम उसके अनुबंध को रद्द करने की कार्रवाई करेंगे।’

न्यूजीलैंड के इस अनुभवी खिलाड़ी ने संन्यास की घोषणा की

कैंटरबरी क्रिकेट और क्रिकेट वेलिंग्टन के अनुभवी खिलाड़ी स्टीफन मडरेक ने संन्यास लेने की घोषणा की है। इसके साथ ही उन्होंने 12 साल के पेशेवर करियर के बाद घरेलू क्रिकेट को अलविदा कह दिया। वेलिंगटन में पैदा हुए स्टीफन ने दोनों प्रांतों के लिए 87 प्रथम श्रेणी, 71 लिस्ट ए और 58 टी 20 मैच खेले हैं, जिसमें उन्होंने 18 शतकों के साथ 9000 से अधिक रन बनाए हैं। मडरेक ने एक बयान में कहा, " मैं भाग्यशाली रहा हूं कि अपने पूरे करियर में महान टीम के साथी, कोच और सहयोगी स्टाफ के साथ ड्रेसिंग रूम साझा कर पाया।" उन्होंने कहा, " मैंने अपनी स्कूल टीम, आयु समूह टीम और क्लब क्रिकेट से लेकर वेलिंगटन फायरबर्डस और कैंटरबरी पुरुषों की टीम में खेलते हुए शानदार यादें बटोरी हैं। मैं बहुत भाग्यशाली रहा कि मुझे दो बहुत ही प्रतिष्ठित एसोसिएशन प्रतिनिधित्व और कप्तानी करने का मौका मिला।"कैंटरबरी के लिए खेलने के दौरान मडरेक का प्रथम श्रेणी क्रिकेट में 46 और लिस्ट ए क्रिकेट में 40 का औसत रहा। उन्होंने 2018-19 सीजन के लिए बैट्समैन ऑफ द ईयर का खिताब भी जीता।

मिस्बाह बोले- गेंदबाजों को सलाइवा का उपयोग करने से रोकना है तो मास्क पहना दो

पाकिस्तान क्रिकेट टीम के मुख्य कोच मिस्बाह उल हक का मानना है कि गेंदबाजों के लिए सलाइवा बैन करने के नियम का पालन करना काफी मुश्किल होगा। कोविड-19 के बाद जब क्रिकेट शुरू होगी तो गेंदबाज गेंद को चमकाने के लिए सालइवा का इस्तेमाल नहीं कर सकेंगे। मिस्बाह ने कहा कि अगर गेंदबाजों को सलाइवा का इस्तेमाल करने से रोकना है तो उन्हें मास्क पहना देने चाहिए। मिस्बाह ने यूट्यूब चैनल क्रिकेटबाज पर कहा, "बिना सलाइवा के गेंदबाजी करना आसान नहीं रहेगा। यह वो आदत है जो खिलाड़ी काफी लंबे समय से पाले आ रहे हैं। अगर खिलाड़ी नए नियमों को ध्यान में भी रखता है तो भी एक-दो बार वह अपने-आप कोशिश करेगा।" उन्होंने कहा, "हमें इसे रोकने के लिए कुछ करना होगा। जैसे कि गेंदबाजों को मास्क पहना दो या कुछ और पाबंदी ताकि वो सलाइवा का उपयोग न करें।" आईसीसी की क्रिकेट समिति ने कोविड-19 के बाद खेल दोबारा शुरू होने पर सलाइवा बैन करने की सिफारिश की है ताकि कोविड-19 के संक्रमण को रोका जा सके।

फीफा ने 'हैती फुटबाल महासंघ' के प्रमुख पर लगाया प्रतिबंध

विश्व फुटबाल की नियामक संस्था-फीफा ने हैती फुटबाल महासंघ (एफएचएफ) के अध्यक्ष येवेस जीन बार्ट को फुटबाल की सभी गतिविधियों से अस्थायी रूप से निलंबित कर दिया है। फीफा की ओर से दी गई जानकारी के मुताबिक, बार्ट पर यह प्रतिबंध उनके खिलाफ जारी जांच से संबंधित मामले में लिया गया है। फीफा ने एक बयान में कहा, " फीफा आचार संहिता के अनुच्छेद 84 और 85 के अनुसार, स्वतंत्र आचार समिति के जांच विभाग ने हैती फुटबाल महासंघ (एफएचएफ) के अध्यक्ष येवेस जीन बार्ट को अस्थायी तौर पर निलंबित कर दिया गया है। वह 90 दिनों तक राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर फुटबाल से संबंधित किसी भी गतिविधियों में भाग नहीं ले सकते हैं।" फीफा ने कहा, " जीन को इस अधिसूचना से अवगत करा दिया गया है। यह अस्थायी प्रतिबंध तुरंत प्रभाव से लागू होगा।"

आईओए समिति दोबाना गठित करने को लेकर सहमति नहीं दी थी : महासचिव

भारतीय ओलम्पिक संघ (आईओए) के दो अधिकारियों के बीच में टकराव जारी है और संघ के महासचिव राजीव मेहता ने कहा है कि हाल ही में अध्यक्ष नरेंद्र बत्रा द्वारा गठित की गई समितियों को दोबारा गठित करने को लेकर उन्होंने अपनी मंजूरी नहीं दी थी। मेहता ने नोटिस में साफ तौर पर कहा है कि 19 मई को बत्रा ने जो आईओए की एथिक्स समिति को भंग किया था वो गैरकानूनी पाया गया है और कमिशन को दोबारा बहाल कर दिया गया है। मेहता ने कहा, "इस मामले पर आईओए के कानूनी समिति के चेयरमैन ने जांच शुरू कर दी है। समितियों के गठन का मुद्दा आईओए की अगली कार्यकारी परिषद की बैठक में चर्चा में लाया जाएगा।" मेहता और बत्रा के बीच तनाव की स्थिति तब शुरू हुई थी जब मेहता ने खिलाड़ियों की ट्रेनिंग शुरू करने को लेकर आपत्ति दर्ज कराई थी और कहा था कि इस समय कोरोनावायरस के मामले बढ़ रहे हैं इसलिए खिलाड़ियों की ट्रेनिंग शुरू करने को लेकर जल्दबाजी नहीं करनी चाहिए।

(आईएएनएस के इनपुट के साथ)

लोकप्रिय
next