ऑस्ट्रेल‍ियाई टीम के इस धाकड़ ऑलराउंडर को हुआ खतरनाक बीमारी, अभी स्टेज टू चल रही है...

ऑस्ट्रेल‍ियाई टीम के धाकड़ ऑलराउंडर कैमरन ग्रीन को लेकर एक बड़ी खबर सामने आई है। ग्रीन ने खुद बताया कि वो किडनी की बीमारी से ग्रस्त हैं। ग्रीन इसी वजह से पाकिस्तान के ख‍िलाफ टेस्ट सीरीज से बाहर हैं।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट टीम के धाकड़ ऑलराउंडर कैमरून ग्रीन मौजूदा समय में किसी परिचय के मोहताज नहीं हैं। ग्रीन आईपीएल के सबसे महंगे खिलाड़ियों में से एक हैं। लेकिन उनसे जुड़ी एक ऐसी बात सामने आई है, जिसने सबको चौंका दिया है। कैमरून ग्रीन ने खुलासा किया है कि वह क्रोनिक किडनी रोग के साथ पेशेवर क्रिकेट खेल रहे हैं। उन्होंने कहा कि उनके जन्म के समय ही उन्हें इस बीमारी का पता चल गया था। डॉक्टरों का कहना था कि उनकी जीवन उम्मीद सिर्फ 12 साल तक थी।

कैमरन ग्रीन ने कहा, "जब मैं पैदा हुआ तो मेरे माता-पिता को बताया गया कि मुझे क्रोनिक किडनी रोग है। मूल रूप से कोई लक्षण नहीं है, यह सिर्फ अल्ट्रासाउंड के माध्यम से पता चला था। क्रोनिक किडनी रोग मूल रूप से आपके गुर्दे के स्वास्थ्य कार्य की एक प्रगतिशील बीमारी है।

ग्रीन ने चैनल 7 से कहा, "दुर्भाग्य से, मेरी किडनी अन्य किडनी की तरह रक्त को फ़िल्टर नहीं करती है। वे इस समय लगभग 60% पर हैं जो चरण दो है। मैं खुद को बहुत भाग्यशाली मानता हूं कि मैं अन्य किडनी की तरह क्रोनिक किडनी रोग से शारीरिक रूप से प्रभावित नहीं हूं। जो लोग एक ही चीज़ से प्रभावित होते हैं।"


24 वर्षीय ग्रीन, पर्थ के ऑप्टस स्टेडियम में पाकिस्तान के खिलाफ अंतर्राष्ट्रीय पुरुष ग्रीष्मकालीन मैच के शुरुआती टेस्ट के लिए ऑस्ट्रेलिया की अंतिम एकादश में नहीं हैं, लेकिन वह सभी प्रारूपों में टीम में लगातार बने रहने में कामयाब रहे हैं।

उन्होंने कहा, "जब मैं छोटा था तो मेरे माता-पिता को बताया गया कि मैं बहुत छोटा रह सकता हूं। जिसे अब छह फीट और छह इंच की ऊंचाई पर खड़े होने के बाद पीछे मुड़कर देखना काफी मजेदार है। क्रोनिक किडनी रोग के पांच चरण होते हैं, पहला चरण सबसे कम गंभीर होता है और पांचवां चरण प्रत्यारोपण या डायलिसिस होता है।"

ग्रीन की मां बी ट्रेसी और उनके पिता ने कहा कि जब गर्भावस्था के दौरान पहली बार अल्ट्रासाउंड में समस्या देखी गई तो वह डर गईं। ग्रीन अब इस उम्मीद के साथ अपनी क्रोनिक किडनी की स्थिति के बारे में सार्वजनिक हुए हैं कि उनकी कहानी से इस बीमारी से पीड़ित अन्य लोगों और उनके परिवारों को मदद मिलेगी।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;