देश में महिलाओं के खिलाफ अपराधों में 4 फीसदी इजाफा, 2022 में 31,982 रेप, उत्तर प्रदेश में सबसे ज्‍यादा मामले

एनसीआरबी के अनुसार, 2022 में देश भर में लगभग 250 महिलाएं हत्या/दुष्‍कर्म/सामूहिक दुष्‍कर्म की शिकार हुईं। आंकड़ों में कहा गया है कि कुल 6,516 महिलाएं दहेज हत्या की शिकार हुईं, जबकि महिलाओं को आत्महत्या के लिए उकसाने की 4,963 घटनाएं दर्ज की गईं।

देश में महिलाओं के खिलाफ अपराधों में 4 फीसदी इजाफा, उत्तर प्रदेश में सबसे ज्‍यादा मामले
देश में महिलाओं के खिलाफ अपराधों में 4 फीसदी इजाफा, उत्तर प्रदेश में सबसे ज्‍यादा मामले
user

नवजीवन डेस्क

राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो (एनसीआरबी) ने देश में महिलाओं के खिलाफ अपराधों में उल्लेखनीय वृद्धि दर्ज की है। एनसीआरबी के आंकड़ों के अनुसार, 2022 में कुल 4,45,256 मामले दर्ज किए गए, जो पिछले वर्ष दर्ज किए गए 4,28,278 मामलों की तुलना में चार फीसदी ज्‍यादा हैं।

एनसीआरबी के अनुसार, 2022 में देशभर में लगभग 250 महिलाएं हत्या-सह-दुष्‍कर्म/सामूहिक दुष्‍कर्म की शिकार हुईं। आंकड़ों में कहा गया है, "कुल 6,516 महिलाएं दहेज हत्या की शिकार हुईं, जबकि महिलाओं को आत्महत्या के लिए उकसाने की 4,963 घटनाएं दर्ज की गईं।"

एनसीआरबी की रिपोर्ट के अनुसार, उत्तर प्रदेश में महिलाओं के खिलाफ सबसे ज्‍यादा 65,743 अपराध दर्ज किए गए, इसके बाद महाराष्ट्र (45,331), राजस्थान (45,058), पश्चिम बंगाल (34,738), और मध्य प्रदेश (32,765) का स्थान है। केंद्र शासित प्रदेशों में, दिल्ली में महिलाओं के खिलाफ अपराध की 14,247 घटनाएं दर्ज की गईं, इसके बाद जम्मू और कश्मीर (3,716) और चंडीगढ़ (325) का स्थान रहा।


देशभर में महिलाओं के अपहरण की 69,677 घटनाएं हुईं, जो पुलिस बलों के लिए एक चुनौती है। उत्तर प्रदेश में अपहरण की सबसे अधिक 14,887 घटनाएं दर्ज की गईं, इसके बाद बिहार (10,190), महाराष्ट्र (9,297), मध्य प्रदेश (7,960) और पश्चिम बंगाल (6596) का स्थान है।2022 में महिलाओं के अपहरण की 4,032 घटनाओं के साथ केंद्र शासित प्रदेशों में दिल्ली शीर्ष पर रही, जबकि नगालैंड में चार घटनाओं के साथ सबसे कम घटनाएं दर्ज की गईं।

एनसीआरबी के आंकड़ों से परेशान करने वाली तस्वीर सामने आई, क्योंकि 2022 में 31,982 महिलाओं के साथ दुष्‍कर्म हुआ। आंकड़ों में कहा गया है कि राजस्थान में दुष्‍कर्म के सबसे अधिक 5,399 मामले दर्ज किए गए, इसके बाद उत्तर प्रदेश (3,690), मध्य प्रदेश (3,029), महाराष्ट्र (2,904), और पांचवें स्‍थान पर हरियाणा ( 1,787) है। केंद्र शासित प्रदेशों में राष्ट्रीय राजधानी में दुष्‍कर्म के 1,212 मामले दर्ज किए गए, इसके बाद जम्मू और कश्मीर (287) और चंडीगढ़ (78) का स्थान रहा।


कुल 85,300 पीड़िताओं ने शीलभंग करने के इरादे से हमले किए जाने की सूचना पुलिस को दी। सबसे अधिक 11,512 घटनाएं महाराष्ट्र में दर्ज की गईं, इसके बाद उत्तर प्रदेश (10,548), राजस्थान (8,508), ओडिशा (7,327) और आंध्र प्रदेश (5,884) हैं। केंद्रशासित प्रदेशों में दिल्ली में शीलभंग करने के इरादे से महिलाओं पर 2,029 हमले दर्ज किए गए, इसके बाद जम्मू और कश्मीर (1,606), और चंडीगढ़ (42) का स्थान रहा।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;