महंत नरेंद्र गिरि की मौत मामले में आनंद गिरि हिरासत में, आरोपों से किया इनकार, लगाया हत्या का आरोप

मठ के कमरे से तलाशी में एक सुसाइड नोट बरामद हुआ था, जिसमें महंत नरेंद्र गिरि को मानसिक तौर पर परेशान करने का आरोप लगाते हुए कई लोगों के नाम बताए जा रहे हैं। इसी में एक नाम नरेंद्र गिरी के शिष्य आंनंद गिरी का भी था, जिसे हरिद्वार से हिरासत में लिया गया है।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

उत्तर प्रदेश के प्रयागराज में अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि की उनके ही मठ के कमरे में संदिग्ध परिस्थितयों में मौत के सिलसिले में पुलिस ने हरिद्वार से उनके शिष्य आनंद गिरी को गिरफ्तार किया है। पुलिस ने यह कार्रवाई नरेंद्र गिरी के कमरे से तलाशी के दौरान बरामद एक सुसाइड नोट के आधार पर की है। सुसाइड नोट में महंत नरेंद्र गिरि ने कथित तौर पर कई लोगों पर मानसिक तौर पर परेशान करने का आरोप लगाया है। इनमें ही एक नाम आनंद गिरि का बताया जा रहा है, जिसे हिरासत में लिया गया है।

वहीं महंत नरेंद्र गिरी की मौत के सिलसिले में हरिद्वार से हिरासत में लिए गए शिष्य आनंद गिरी ने आरोपों से इनकार किया है। उसने कहा कि यह उन लोगों की एक बड़ी साजिश है जो गुरुजी से पैसे ऐंठते थे और उन्होंने ही पत्र में मेरा नाम लिखा है। इसकी जांच होनी चाहिए क्योंकि गुरु जी ने अपने जीवन में एक पत्र नहीं लिखा और वह कभी आत्महत्या नहीं कर सकते हैं, उनकी लिखावट की जांच की जानी चाहिए।


आनंद गिरी ने आगे कहा कि मैंने अपना पूरा जीवन वहीं महंत नरेंद्र गिरी के मठ में बिताया है और कभी उनसे कोई पैसा नहीं लिया। मेरे और गुरु जी के बीच सब कुछ अच्छा था और इसलिए मैं सरकार से इस मामले की निष्पक्ष और पूरी जांच कराने का अनुरोध करता हूं।

बता दें कि सोमवार शाम को प्रयागराज में आखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि की संदिग्ध हालात में मौत से सनसनी फैल गई। उनका शव अल्लापुर में बाघंबरी मठ के एक कमरे में फंदे से लटका पाया गया था। शुरुआती जांच में पुलिस इसे आत्महत्या का ही मामला मान रही है। हालांकि, संदिग्ध परिस्थितियों को देखते हुए प्रशासन ने पोस्टमार्टम कराने का फैसला लिया। मठ पर फोरेंसिक टीम और डॉग स्क्वायड को भी बुलाया गया था।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia