बिहार में पंचायत चुनाव की सुगबुहाट होते ही हिंसा का खेल शुरू, मुखिया के बाद भाई की गोली मारकर हत्या

बिहार में कोरोना की दूसरी लहर को देखते हुए पंचायत चुनाव को स्थगित कर दिया गया था। अब दूसरी लहर के कमजोर पड़ने के साथ ही एक बार फिर पंचायत चुनाव को लेकर सुगबुगाहट तेज हो गई। ऐसे में मुखिया के भाई की हत्या को पंचायत चुनाव से जोड़कर भी देखा जा रहा है।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

बिहार के मुजफ्फरपुर के अहियापुर थाना क्षेत्र में बुधवार को शिवहर जिले के श्यामपुर भटहा निवासी नवल किशोर सिंह की अज्ञात लोगों ने गोली मारकर हत्या कर दी और फरार हो गए। मृतक नवल के भाई शिवनारायण सिंह मुखिया थे और पिछले साल विधानसभा चुनाव के दौरान उनकी भी हत्या कर दी गई थी।

पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि नवल किशोर सिंह सुबह अपने अहियापुर स्थित आवास से मोटरसाइकिल से कहीं जा रहे थे कि पहले से घात लगाए अपराधियों ने शहबाजपुर गांव के समीप उनपर अंधाधुंध गोलीबारी कर दी। गोली लगने से नवल किशोर सिंह की घटनास्थल पर ही मौत हो गई।


घटना की सूचना मिलने के बाद पुलिस ने घटनास्थल पर पहुंचकर शव को अपने कब्जे में कर पोस्टमार्टम के लिए अस्पताल भेज दिया है। मुजफ्फरपुर (नगर) के पुलिस उपाधीक्षक रामनरेश पासवान ने बताया कि हत्या के कारणों का फिलहाल पता नहीं चल पाया है। पुलिस पूरे मामले की छानबीन कर रही है। उन्होंने कहा कि मृतक के परिजन के बयान के बाद ही हत्या के कारणों का सही पता चल सकेगा।

गौरतलब है कि बिहार में इस साल पंचायत चुनाव भी होना है। पंचायत चुनवा अप्रैल-मई में ही होना था, लेकिन कोरोना महामारी की दूसरी लहर की विकरालता को देखते हुए चुनाव को स्थगित कर दिया गया था। अब महामारी की दूसरी लहर के कमजोर पड़ने के साथ ही एक बार फिर पंचायत चुनाव को लेकर सुगबुगाहट तेज हो गई। ऐसे में मुखिया के भाई की हत्या को पंचायत चुनाव से जोड़कर भी देखा जा रहा है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia