दिल्ली: पैसे के लिए दोस्त का किया अपहरण, फिर हत्या करने के बाद मांगी दो लाख की फिरौती

19 सितंबर को सचिन ने नितिन को शाम को ड्रिंक के लिए बुलाया। डीसीपी ने कहा, “अरुण पहले से ही सचिन के साथ मौजूद था। दोनों के पास चाकू थे। वे करीबी दोस्त थे इसलिए नितिन को किसी पर शक नहीं हुआ।''

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

राजधानी दिल्ली में अपराधियों के हौसले इतने बुलंद हैं कि अपहरण और हत्या आम बात हो गई है! दिल्ली पुलिस की लाख कोशिशों के बाद भी अपराध में कमी होती नहीं दिख रही है। ताजा घटनाक्रम में राजधानी में 2 लाख रुपये की फिरौती के लिए एक व्यक्ति का अपहरण किया गया और रकम नहीं मिलने पर उसकी हत्या कर दी गई। हालांकि दिल्ली पुलिस ने आरोपी एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया है।

आरोपी की पहचान उत्तरपूर्वी दिल्ली के करावल नगर निवासी सचिन कुमार शर्मा (24) के रूप में हुई, जबकि फरार सह-आरोपी अरुण को पकड़ने के लिए तलाश जारी है। पुलिस ने बताया कि 20 सितंबर को करावल नगर निवासी शिकायतकर्ता गीता चौधरी ने रिपोर्ट दी कि शाम करीब 5.30 बजे उसका भाई नितिन (22) बिना कुछ बताए घर से चला गया।


पुलिस उपायुक्त (पूर्वोत्तर) जॉय टिर्की ने कहा, “20 सितंबर को सुबह 10.23 बजे, उसे एक व्हाट्सएप संदेश मिला जिसमें भेजने वाले ने सूचित किया कि उसके भाई का अपहरण कर लिया गया है और उसे 2 लाख रुपये का भुगतान करने के बाद ही रिहा किया जाएगा। फिरौती के लिए अपहरण का मामला तुरंत दर्ज किया गया और जांच शुरू की गई।

जांच के दौरान सचिन को राजस्थान के गंगानगर से गिरफ्तार किया गया और नितिन का शव गाजियाबाद के बेहटा हाजीपुर रेलवे स्टेशन के पास झाड़ियों में मिला। डीसीपी ने कहा, "सचिन ने वह जगह भी बताई जहां उसने और सह-आरोपी अरुण ने नितिन की चाकू मारकर हत्या की थी।"

पूछताछ में पता चला कि सचिन 2018 से नितिन को जानता था। डीसीपी ने कहा, “सचिन की मुलाकात अरुण (सह-आरोपी) से लगभग दो साल पहले हुई थी। उन्होंने अरुण के बड़े भाई की शादी कराने में मदद की। कुछ समय पहले उसने मोटरसाइकिल खरीदी थी, लेकिन किश्तें चुकाने में असमर्थ था। उन्होंने हाल ही में अपनी मोटरसाइकिल 40,000 रुपये में गिरवी रख दी थी। अपनी बेटी के जन्म के बाद, उन्हें बहुत वित्तीय कठिनाई का सामना करना पड़ रहा था।''

करीब 15 दिन पहले सचिन और अरुण ने नितिन का अपहरण कर फिरौती मांगने की योजना बनाई। डीसीपी ने कहा, “नितिन के नाम पर करावल नगर में एक घर था। उन्होंने सोचा कि उनका परिवार उन्हें आसानी से फिरौती की रकम दे सकता है और वे पैसे आपस में बांट लेंगे।''


19 सितंबर को सचिन ने नितिन को शाम को ड्रिंक के लिए बुलाया। डीसीपी ने कहा, “अरुण पहले से ही सचिन के साथ मौजूद था। दोनों के पास चाकू थे। वे करीबी दोस्त थे इसलिए नितिन को किसी पर शक नहीं हुआ।''

डीसीपी ने कहा, “नितिन 19 सितंबर की शाम करीब 6.15 बजे जौहरीपुर मेन रोड पर पहुंचे, जहां सचिन और अरुण उनका इंतजार कर रहे थे। वे तीनों बेहटा हाजीपुर स्टेशन पहुंचे। उन्होंने शराब खरीदी और पीने के लिए रेलवे पटरियों के पास बैठ गए।''

“लगभग 9 बजे, सचिन ने सुझाव दिया कि उन्हें घर लौट जाना चाहिए। रेलवे ट्रैक के पास एक सुनसान जगह पर, सचिन और अरुण दोनों ने नितिन को पकड़ लिया और चाकू मारकर उसकी हत्या कर दी। उन्होंने उसका मोबाइल फोन ले लिया। उन्होंने उसके शव को रेलवे ट्रैक के पास झाड़ियों में छिपा दिया और घर लौट आए।”

अगले दिन, वे लोनी, गाजियाबाद पहुंचे और नितिन की बहन को उसी के फोन से फिरौती के लिए कॉल किया। डीसीपी ने बताया, “हालांकि, जल्द ही सचिन और अरुण को एहसास हुआ कि पुलिस मामले की जांच कर रही है। वे घबरा गए और उन्होंने दिल्ली छोड़ने का फैसला किया।''

पुलिस ने बताया, ''सचिन अपनी पत्नी और बेटी को लेकर राजस्थान के गंगानगर पहुंचा, जहां उनकी पत्नी की करीबी दोस्त रहती थी। अरुण उत्तर प्रदेश के लभारी गांव का रहने वाला है। उसकी गिरफ्तारी के लिए कई टीमें गठित की गई हैं। सचिन को आज कोर्ट में पेश कर पुलिस रिमांड पर लिया जाएगा। नितिन के शव का आज पोस्टमार्टम कराया जाएगा।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;