दिल्ली मेट्रो के सुपरवाइजर ने गूगल पर खोजा- फांसी कैसे लगाएं, फिर पत्नी और बेटी को मारकर की खुदकुशी

सुशील ने अपने 13 साल के बेटे को भी मारने की कोशिश की थी, लेकिन वह बच गया और फिलहाल उसका इलाज चल रहा है। पुलिस ने जब कंप्यूटर को खंगाला तो पता चला सुशील ने घटना से पहले गूगल पर फांसी कैसे लगाएं सर्च किया था।

दिल्ली मेट्रो के सुपरवाइजर ने पत्नी और बेटी को मारकर की खुदकुशी
दिल्ली मेट्रो के सुपरवाइजर ने पत्नी और बेटी को मारकर की खुदकुशी
user

नवजीवन डेस्क

राजधानी दिल्ली के शाहदरा इलाके में एक दर्दनाक घटना में एक शख्स ने अपनी पत्नी और 6 साल की बेटी की हत्या करने के बाद पंखे से लटककर अपनी भी जान दे दी। शख्स की पहचान दिल्ली मेट्रो में सुपरवाइजर के पद पर काम करने वाले 45 साल के सुशील के रूप में हुई है। पुलिस के मुताबिक सुशील ने अपने 13 साल के बेटे को भी मारने की कोशिश की थी, लेकिन वह बच गया और फिलहाल उसका इलाज अस्पताल में चल रहा है।

घटना की जानकारी मिलने पर पहुंची पुलिस को घर से एक चाकू बरामद हुआ है। पुलिस ने बताया कि दिल्ली मेट्रो में काम करने वाले सुशील ने पहले घर के अंदर 40 साल की अपनी पत्नी अनुराधा और 6 साल की बेटी अदिति की चाकू मारकर हत्या कर दी और फिर घर में पंखे से फांसी पर लटककर अपनी भी जान दे दी। उसने अपने 13 साल के बेटे को भी मारने की कोशिश की थी, लेकिन वह बच गया।


दिल्ली पुलिस ने जब घर में रखे कंप्यूटर को खंगाला, तो उससे पता चला कि सुशील ने घटना को अंजाम देने से पहले गूगल पर फांसी कैसे लगाएं सर्च किया था। कंप्यूटर पर फांसी की प्रक्रिया सर्च करने के बाद सुशील ने सुसाइड कर लिया। पुलिस अब इस बात की जांच कर रही है कि सुशील ने इस घटना को क्यों अंजाम दिया?

जानकारी के मुताबिक पीसीआर को दोपहर करीब 12 बजे एक कॉल आई, जिसमें फोन करने वाले ने बताया कि वह गली नंबर 8 ज्योति कॉलोनी, शाहदरा से बोल रहा है। उसने आगे बताया कि मेरे साथ सुशील कुमार मेट्रो में काम करता है। वह आज ऑफिस नहीं आया तो मैंने उसे कॉल किया तो वह रो रहा था और उसने कहा कि मैंने घर में सबको मार दिया लेकिन अब वह कॉल रिसीव नहीं कर रहा है।

पुलिस ने कॉल को तुरंत वैरिफाई किया और फौरन पुलिस अधिकारी मौके पर पहुंचे, जहां उन्हें तीन लोगों के शव मिले। पुलिस के मुताबिक, सुशील का शव फंदे से लटका मिला। उसकी पत्नी अनुराधा और बेटी के शरीर पर चाकू के जख्म मिले। उसने अपने बेटे को भी मारने की कोशिश की, लेकिन वह बच गया। अभी उसका अस्पताल में इलाज चल रहा है। प्रथमदृष्टया लग रहा था कि मृतक सुशील ने परिवार के सदस्यों की हत्या की, बाद में खुद फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली।

सुशील पूर्व विनोद नगर डिपो में डीएमआरसी में मेंटेनेंस सुपरवाइजर के पद पर कार्यरत था। फिलहाल पुलिस के आलाधिकारी और फॉरेंसिक की टीमें भी घटनास्थल का मुआयना कर रही हैं। फिलहाल पुलिस सभी एंगल से जांच कर रही है। पुलिस ने घर को सील कर सबूतों को जुटाना शुरू कर दिया है।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;