रोहिणी कोर्ट शूटआउट मामले में चौंकाने वाले खुलासे, दिल्ली पुलिस ने दाखिल की 111 पन्नों की चार्जशीट

दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने 24 सितंबर के रोहिणी कोर्ट शूटआउट मामले में 111 पन्नों की चार्जशीट दाखिल की है। सूत्रों ने बुधवार को यह जानकारी दी। सूत्रों के मुताबिक चार्जशीट में कहा गया है कि शूटरों को एक आरोपी के घर पर 1 महीने की ट्रेनिंग दी गई थी।

फोटोः IANS
फोटोः IANS
user

नवजीवन डेस्क

दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने 24 सितंबर के रोहिणी कोर्ट शूटआउट मामले में 111 पन्नों की चार्जशीट दाखिल की है। सूत्रों ने बुधवार को यह जानकारी दी। सूत्रों के मुताबिक चार्जशीट में कहा गया है कि शूटरों को एक आरोपी के घर पर 1 महीने की ट्रेनिंग दी गई थी। यह भी पता चला है कि एक आरोपी पेशे से वकील है।

राष्ट्रीय राजधानी में रोहिणी कोर्ट पिछले दो महीनों से लगातार दो हमलों के बाद सुर्खियों में है, जिसने अदालत परिसर में सुरक्षा व्यवस्था पर कई सवाल उठाए हैं। 24 सितंबर को पहली घटना में दिल्ली के शीर्ष गैंगस्टर जितेंद्र सिंह मान उर्फ गोगी को प्रतिद्वंद्वी गुट टिल्लू ताजपुरिया गिरोह के वकीलों की पोशाक पहने दो हमलावरों ने कोर्ट रूम के अंदर गोली मार दी थी। जवाबी फायरिंग में हमलावर भी मारे गए थे।


गोगी की हत्या का मुख्य कारण दो प्रतिद्वंद्वी गिरोहों के बीच एक कड़ा संघर्ष था। सूत्रों ने कहा कि टिल्लू ने 23 अगस्त को जगदीश और राहुल के रूप में पहचाने गए निशानेबाजों को भेजा था। सूत्रों ने कहा, "वे गैंगस्टर गोगी की सुरक्षा व्यवस्था की जांच करने के लिए 13 सितंबर को पानीपत भी गए थे।"

उन्होंने कहा कि राकेश ताजपुरिया ने हरियाणा में बंदूकें मुहैया कराई थीं, जबकि गिरोह का सरगना टिल्लू ताजपुरिया व्हाट्सएप कॉल के जरिए लगातार उनके संपर्क में था। सूत्रों ने कहा, "दिल्ली में एम्स के पास किसी व्यक्ति ने हमलावरों को वकीलों की वर्दी मुहैया कराई थी।" उन्होंने बताया कि चार्जशीट के संबंध में अभी अधिक जानकारी उपलब्ध नहीं है।


विशेष रूप से, आरोप पत्र दूसरी घटना के 13 दिन बाद दायर किया गया है, जब 9 दिसंबर को रोहिणी अदालत परिसर के कोर्ट रूम नंबर 102 के अंदर एक कम तीव्रता वाला विस्फोट हुआ था, जिसमें विस्फोट के दायरे में मौजूद एक व्यक्ति घायल हो गया था। बाद में इस मामले में डीआरडीओ के एक वैज्ञानिक को गिरफ्तार किया गया था।

पुलिस ने कहा कि 47 वर्षीय आरोपी वैज्ञानिक भारत भूषण कटारिया ने आईईडी को ऐसी जगह पर लगाया था, जहां एक वकील के कोर्ट रूम के अंदर बैठने की संभावना थी, क्योंकि वह "लंबी कानूनी लड़ाई के कारण बहुत निराश था, जो उसके करियर में समस्याएं पैदा कर रहा था। साथ ही इसने उसे और उसके परिवार को कथित तौर पर लंबे समय तक मानसिक प्रताड़ना और आर्थिक नुकसान पहुंचाया।"

जांच में पता चला कि कटारिया और एडवोकेट वशिष्ठ करीब 3 साल पहले तक एक ही बिल्डिंग में रह रहे थे। उनका 10 साल से अधिक समय से विवाद चल रहा था और उन्होंने एक-दूसरे के खिलाफ एक दर्जन से अधिक दीवानी और आपराधिक मामले दर्ज कराए थे।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia