राजधानी दिल्ली में ढाई हजार करोड़ रुपये की ड्रग्स बरामद, अंतरराष्ट्रीय रैकेट के 4 आरोपी गिरफ्तार

दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने एक बड़ी कार्रवाई करते हुए 350 किलोग्राम हेरोइन बरामद की है। अंतरराष्ट्रीय बाजार में हेरोइन की कीमत 2500 करोड़ से ज्यादा की बताई जा रही है। पुलिस ने ड्रग्स रैकेट से जुड़े 4 लोगों को गिरफ्तार भी किया है।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

राजधानी दिल्ली में ड्रग्स की बहुत बड़ी खेप की बरामदगी हुई है। दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने एक बड़े ड्रग्स रैकेट का भंडाफोड़ करते हुए 350 किलो हेरोइन जब्त की है। अंतरराष्ट्रीय बाजार में बरामद ड्रग्स की कीमत 2500 करोड़ रुपये से ज्यादा बताई जा रही है। यह दिल्ली पुलिस द्वारा पकड़ी गई अब तक की सबसे बड़ी ड्रग्स की खेप है।

इतना ही नहीं ड्रग्स रैकेट का भंडाफोड़ करते हुए दिल्ली पुलिस ने चार आरोपियों को भी गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार किए गए आरोपियों में से तीन हरियाणा से गिरफ्तार किए गए हैं, जबकि एक आरोपी दिल्ली से गिरफ्तार किया गया है। इनमें से एक अफगानी नागरिक भी है। स्पेशल सेल की टीम अब गिरफ्तार किये गए आरोपियों से पूछताछ और जांच में जुट गई है।


स्पेशल सेल के सीपी नीरज ठाकुर ने बताया कि यह ऑपरेशन महीनों से चल रहा था। फरीदाबाद मे ड्रग्स छुपाने के लिए किराए का मकान लिया गया था। हेरोइन की खेप कंटेनर्स में छुपाकर समंदर के रास्ते मुंबई से दिल्ली लाई गई थी। ड्रग्स को मध्य प्रदेश के शिवपुरी के फेक्ट्री में प्रोसेस कर फाइन क्वालिटी का बनाया जाना था। जिसके बाद यह ड्रग्स पंजाब भेजा जाना था।

पुलिस ने बताया कि आरोपी पहले भी ड्रग्स के मामले में गिरफ्तार हो चुके हैं। चार में से दो फरीदाबाद से गिरफ्तार किए गए हैं और कश्मीर का रहने वाला शख्स दिल्ली से गिरफ्तार किया गया है। पुलिस ने बताया कि कश्मीर (अनंतनाग) का रहने वाला शख्स ड्रग्स के लिए केमिकल मुहैया करवाता था जिससे हेरोइन को प्रोसेस किया जाता था और पंजाब के दोनों आरोपियों का काम पंजाब में यह ड्रग्स सप्लाई करना था।


दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल के अनुसार इस सिंडिकेट के तार पाकिस्तान से भी जुड़े होने का अंदेशा है, क्योंकि पाकिस्तान से भी पैसे आने के सुराग मिले हैं। इससे पहले अफगानिस्तान के नागरिकों को भी गिरफ्तार किया गया है। ऐसे में यह मामला नार्को टेररिज्म से भी जुड़ा हो सकता है। इसलिए नार्को टेररिज्म के एंगल की भी जांच जारी है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia