गुरुग्राम में अमेरिका, कनाडा के लोगों को ठगने वाले फर्जी कॉल सेंटर का भंडाफोड़, 17 लोग गिरफ्तार, कई उपकरण जब्त

पुलिस ने बताया कि पूछताछ में पता चला है कि कॉल सेंटर के कर्मचारी माइक्रोसॉफ्ट तकनीकी सहायता के अधिकारियों के रूप में अमेरिका और कनाडा के नागरिकों को कॉल करते थे और उनसे सेवा शुल्क के रूप में 500 से 1,000 डॉलर वसूल करते थे।

फोटोः IANS
फोटोः IANS
user

नवजीवन डेस्क

दिल्ली से सटे हरियाणा के गुरुग्राम में अमेरिका और कनाडा के नागरिकों को ठगने वाले एक फर्जी कॉल सेंटर का भंडाफोड़ हुआ है। इस सिलसिले में बुधवार और गुरुवार की दरमियानी रात को गुरुग्राम के उद्योग विहार से 17 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। इस दौरान भारी मात्रा में नकद और कॉल सेंटर के उपकरण जब्त किए गए हैं।

गुप्त सूचना पर फ्लाइंग स्क्वायड, उद्योग विहार थाना और साइबर क्राइम पुलिस की टीम ने सीएम फ्लाइंग विंग के डीएसपी इंद्रजीत सिंह यादव और एसीपी (उद्योग विहार) राजीव कुमार के नेतृत्व में कॉल सेंटर पर छापा मारा और 22.50 लाख रुपये नकद, 6 लैपटॉप, 3 डेस्कटॉप, 18 मोबाइल फोन और 64 जीबी पेन ड्राइव बरामद किये।

गुरुग्राम में अमेरिका, कनाडा के लोगों को ठगने वाले फर्जी कॉल सेंटर का भंडाफोड़, 17 लोग गिरफ्तार, कई उपकरण जब्त

पुलिस ने कहा कि कॉल सेंटर के कर्मचारी माइक्रोसॉफ्ट तकनीकी सहायता के अधिकारियों के रूप में अमेरिका और कनाडा के नागरिकों को कॉल करते थे और उनसे सेवा शुल्क के रूप में 500 से 1,000 डॉलर लेते थे। डीएसपी इंद्रजीत सिंह यादव ने कहा, "कॉल सेंटर बिना अनुमति के चलाया जा रहा था। इसके अलावा, उनके पास दूरसंचार विभाग (डीओटी) द्वारा जारी कोई लाइसेंस नहीं था।"

गुरुग्राम में अमेरिका, कनाडा के लोगों को ठगने वाले फर्जी कॉल सेंटर का भंडाफोड़, 17 लोग गिरफ्तार, कई उपकरण जब्त

पूछताछ के दौरान, आरोपियों ने कबूल किया कि वे अमेरिका और कनाडा के नागरिकों के साथ तकनीकी सहायता प्रदान करने, पॉप-अप भेजने और सेवा शुल्क के रूप में प्रति ग्राहक लगभग 500 से 1,000 डॉलर की मांग करते थे। पूछताछ में सामने आया कि अब तक बड़ी संख्या में विदेशी नागरिकों को ठगा जा चुका है।


डीएसपी ने बताया कि फर्जी कॉल सेंटर के कर्मचारियों ने खुलासा किया कि वेतन के अलावा, उन्हें एक कमीशन भी मिल रहा था। फर्जी कॉल सेंटर का मुख्य आरोपी फरार है। आगे की जांच के लिए उद्योग विहार पुलिस स्टेशन में आईटी अधिनियम सहित भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की संबंधित धाराओं के तहत प्राथमिकी दर्ज की गई है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia