मॉडल दिव्या हत्याकांड में सरकार ने SIT का किया गठन, अब तक शव का नहीं लगा सुराग

डीसीपी सिंह ने बताया कि दिव्या की हत्या करने के बाद अभिजीत ने ओम प्रकाश और हेमराज की मदद से उसके शव को बीएमडब्ल्यू कार में रखा। फिर अभिजीत ने लगभग 1.5 किमी तक कार चलाई और कार की चाबियां अपने सहयोगियों बलराज और रवि को सौंप दीं।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

गुरुग्राम की मॉडल और मारे गए गैंगस्टर संदीप गाडोली की प्रेमिका दिव्या पाहुजा की हत्या की जांच के लिए एक विशेष जांच दल (एसआईटी) का गठन किया गया है। जिस होटल में वह ठहरी हुई थी, उसके मालिक ने कथित तौर पर उसकी गोली मारकर हत्या कर दी थी।

दिव्या (27) की 2 जनवरी को यहां होटल सिटी पॉइंट के मालिक अभिजीत सिंह ने कथित तौर पर हत्या कर दी थी। पुलिस के अनुसार, दिव्या और अभिजीत रिलेशनशिप में थे और हत्या उसी होटल के कमरा नंबर 111 में हुई थी।

पुलिस को अभी तक दिव्या का शव नहीं मिला है। आशंका जताई जा रही है कि शव को पंजाब में कहीं फेंक दिया गया है। गठित एसआईटी का नेतृत्व पुलिस उपायुक्त (अपराध) विजय प्रताप सिंह करेंगे। हत्या के सिलसिले में तीन लोगों - अभिजीत, ओम प्रकाश और हेमराज को गिरफ्तार किया गया है, जबकि पुलिस अभी भी दो अन्य आरोपियों बलराज और रवि बंगा की तलाश कर रही है।

पुलिस ने बताया कि दिव्या की हत्या 2 जनवरी की शाम करीब 5 बजे की गई थी और रात लगभग 11 बजे, अभिजीत ने उसके बेजान शरीर को ठिकाने लगाने के लिए ओम प्रकाश और हेमराज - जो उसके होटल में काम करते थे, की मदद मांगी। पूछताछ के दौरान अभिजीत ने पुलिस को बताया कि दिव्या के पास उसकी कुछ आपत्तिजनक तस्वीरें हैं और वह उसे ब्लैकमेल करने के साथ-साथ उससे पैसे भी वसूल रही थी।


उसने दिव्या से उन तस्वीरों को डिलीट करने के लिए कहा था और उसके सेल फोन का पासवर्ड मांगा था। हालाँकि, उसने ऐसा करने से इनकार कर दिया। आख़िरकार, दोनों में तीखी बहस हुई जिसके बाद अभिजीत ने उस पर गोली चला दी। गुरुवार को गुरुग्राम पुलिस को अभिजीत, ओम प्रकाश और हेमराज की पांच दिन की रिमांड मिल गई।

डीसीपी सिंह ने कहा, "दिव्या की हत्या करने के बाद अभिजीत ने ओम प्रकाश और हेमराज की मदद से उसके शव को बीएमडब्ल्यू कार में रखा। फिर अभिजीत ने लगभग 1.5 किमी तक कार चलाई और कार की चाबियां अपने सहयोगियों बलराज और रवि को सौंप दीं, जो शव को ठिकाने लगाने के लिए पंजाब की ओर गए।''

बाद में बरामद हुई बीएमडब्ल्यू कार से पुलिस को उसका शव नहीं मिला। पुलिस को शक है कि बलराज और रवि बीएमडब्ल्यू कार से हरियाणा के हिसार और सिरसा होते हुए पंजाब में दाखिल हुए. फिर शव को ठिकाने लगाया गया और फिर वे मनसा होते हुए पटियाला पहुंचे।

दोनों कार को पटियाला बस स्टैंड के पार्किंग एरिया में छोड़कर भाग गए। सूत्रों के मुताबिक, बलराज की आखिरी लोकेशन पटियाला में मिली थी। बलराज और रवि की तलाश में गुरुग्राम पुलिस की क्राइम ब्रांच टीम पंजाब, हिमाचल प्रदेश और हरियाणा में छापेमारी कर रही है।


डीसीपी सिंह ने कहा, "दिव्या के शव और आरोपी की तलाश में जगह-जगह छापेमारी की जा रही है। मामले की जांच में कई टीमें लगी हुई हैं। आरोपी जल्द ही पकड़े जाएंगे।"

दिव्या जेल में बंद गैंगस्टर बिंदर गुज्जर के जरिए अभिजीत के संपर्क में आई। गुज्जर ने जाहिर तौर पर अभिजीत से अपने बच्चों की शिक्षा में मदद करने के लिए कहा था और उसी दौरान अभिजीत दिव्या के संपर्क में आया।

बिंदर गुज्जर को 2016 में मुंबई में हुई गुरुग्राम पुलिस के साथ गैंगस्टर संदीप गाडोली की कथित "फर्जी मुठभेड़" का मुख्य साजिशकर्ता माना जाता है। दिव्या इस मामले में मुख्य आरोपी थीं। बाद में, उसे गैंगस्टर की हत्या के सिलसिले में गिरफ्तार कर लिया गया और उसने सात साल जेल में बिताए। उसे पिछले साल जून में बॉम्बे हाई कोर्ट ने जमानत दे दी थी।

दिव्या के परिवार का आरोप है कि उसकी हत्या की साजिश अभिजीत के साथ मिलकर संदीप गाडोली के परिवार वालों ने रची थी।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;