PM Modi के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में एक ही परिवार के 4 लोगों ने की खुदकुशी, आर्थिक तंगी से थे परेशान

आर्थिक हालत बेहद खराब होने की वजह से परेशान किशन ने पहले अपने दोनों बच्चों को जहर दिया और बाद में उसने अपनी गर्भवती पत्नी के साथ फांसी लगा ली। एक ही परिवार के चार लोगों की मौत की खबर सुनकर पूरे इलाके में सन्नाटा पसरा हुआ है।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया

नवजीवन डेस्क

प्रधानमंत्री मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी से एक दिल दहला देने वाली खबर सामने आई है। हुकुलगंज इलाके में एक शख्स ने अपनी पत्नी और 2 मासूम बच्चों समेत फांसी लागाकर खुदकुशी कर ली। जानकारी के मुताबिक शख्स की पत्नी गर्भवती थी और वह आर्थिक तंगी से परेशान था। पुलिस ने मौके से सुसाइड नोट भी बरामद किया है।

दरअसल हुकुलगंज निवासी किशन गुप्ता शहर में मोमोज की दुकान चलाता था। आर्थिक हालत बेहद खराब होने की वजह से परेशान किशन ने पहले अपने दोनों बच्चों को जहर दिया और बाद में उसने अपनी गर्भवती पत्नी के साथ फांसी लगा ली। एक ही परिवार के चार लोगों की मौत की खबर सुनकर पूरे इलाके में सन्नाटा पसरा हुआ है। मौके से एक सुसाइड नोट बरामद हुआ है, जिसमें किशन ने बीवी-बच्चों समेत आत्महत्या की वजह लिखी है। नोट में लिखा है कि 'बीमारी से तंग आकर आत्महत्या कर रहा हूं'।

घटना की सूचना मिलते ही मौके पर पहंची पुलिस ने चारों शवों को कब्जे में लेकर जांच शुरू की। हालांकि पुलिस इस घटना को आत्महत्या के अन्‍य पहलुओं से जोड़कर भी पड़ताल कर रही है। दोनों बच्‍चों के शव बेड पर मिले हैं वहीं पति पत्‍नी का शव फंदे के सहारे लटकता मिला।

ये थी आत्महत्या की वजह

किशन के पिता और भाई के मुताबिक अपनी बहन की शादी में उसके ऊपर बहुत ज्यादा कर्ज हो गया था, जिसके चलते किशन काफी दिन से परेशान चल रहा था। हालांकि किशन के पिता ने बताया कि वह तीन भाई बहनों में सबसे बड़ा था और दुकान का किराया भी किशन ही लेता था। एक ही झटके में अपने बेटे के पूरे परिवार के खत्म हो जाने से किशन के घर में मातम छाया हुआ है।

परिजनों को ऐसे चला आत्महत्या का पता

किशन के परिवार ने बताया कि बुधवार की सुबह करीब 10 बजे किशन ने अपने मकान के ऊपर वाले कमरे से अपनी मां को फोन करके दाल चावल बनाने के लिए कहा था। इसके बाद दोपहर में करीब 12 बजे किशन का छोटा भाई प्रकाश उसे बुलाने के लिए उसके कमरे में गया। कमरे का हाल देख कर प्रकाश के होश उड़ गए और वह चिल्लाता हुआ बाहर की और भागा। कमरे में किशन (32) और उसकी पत्नी नीलम (28) फंदे के सहारे फांसी पर लटके हुए थे, जबकि किशन के दो बच्चे शिखा (5) और उज्जवल (6) बैड पर मृत पड़े थे।

लोकप्रिय