योगी राज में जेल बना अपराधियों के लिए अय्याशी का अड्डा, उन्नाव जेल में हथियार लहराते दिखा बदमाश, वीडियो वायरल

उन्नाव जेल का एक वीडियो वायरल हुआ है जिसमें दो शातिर अपराधी जेल में खुलेआम असलहा लहराते दिख रहे हैं। वीडियो में देखा जा सकता है कि जेल में लजीज खाने के साथ शराब की व्यवस्था भी है।

फोटो: सोशल मीडिया 
फोटो: सोशल मीडिया

नवजीवन डेस्क

योगीराज में अपराधियों के लिए जेल अय्याशी का अड्डा बन चुका है। ताजा मामला उन्नाव जेल का है। जहां एक वीडियो वायरल हुआ है जिसमें दो शातिर अपराधी जेल में खुलेआम असलहा लहराते हुए दिखाई दे रहे हैं। इतना ही नहीं वीडियो में जेल के अंदर लजीज खाने के साथ शराब की व्यवस्था भी दिखाई दे रही है।

वायरल वीडियो में अपराधी खुलेआम योगी सरकार को चुनौती दे रहे हैं। उन्होंने कहा कि मेरठ जेल हो या फिर उन्नाव, वे प्रदेश की किसी भी जेल को कार्यालय बना देंगे। वीडियो में एक कैदी कह रहा है कि जो बोलेगा मारा जाएगा। जेल के अपराधी के पास तमंचों के अलावा मोबाइल भी मौजूद है।

वीडियो वायरल होने के बाद यूपी पुलिस के हाथ-पांव फूल गए हैं। घटना सामने आने के बाद बुधवार शाम जिलाधिकारी देवेंद्र कुमार पांडेय, एसपी माधव प्रसाद वर्मा, एडीएम राकेश कुमार सिंह, एएसपी विनोद कुमार पांडेय, सीओ सिटी उमेश चंद्र त्यागी समेत आधा दर्जन अधिकारी जिला जेल पहुंच कर छानबीन की। यूपी प्रशासन ने हेड जेल वार्डर समेत चार कारागार कर्मियों के खिलाफ कार्रवाई की है। बता दें कि मामले पर हड़कंप मचते ही जिलाधिकारी ने जेल अधीक्षक को कड़ी फटकार लगाते हुए रिपोर्ट तलब की थी।

गृह विभाग के मुताबिक, शुरुआती जांच में उन्नाव जेल के हेड वार्डन माता प्रसाद, हेमराज, वार्डन अवधेश साहू व सलीम की संलिप्तता सामने आई है। चारों के खिलाफ विभागीय कार्यवाही के निर्देश दिए गए हैं।

यह कोई पहला मामला नहीं है जहां जेल प्रशासन पर सवाल उठे हो। इससे पहले योगीराज में जेल के अंदर अपराधियों सामांतर सरकार चलाते हुए दिखाई दे चुके हैं। जुलाई 2018 में बागपत जेल में माफिया डॉन मुन्ना बजरंगी की कुख्यात अपराधी सुनील राठी ने गोली मारकर हत्या कर दी थी। इस वारदात के बाद जेल प्रशासन से लेकर लखनऊ तक अधिकारियों में हड़कंप मच गया था।

इसके अलावा बीजेपी शासन के दावों की पोल खोलते हुए अतीक अहमद ने लखनऊ के एक कारोबारी को अगवा करवाकर देवरिया जेल बुलवा लिया था। आरोप था कि अतीक अहमद, उसके बेटे उमर और 20-25 लोगों ने इस कारोबारी से जेल के बैरक में जबरदस्त मारपीट की थी, उसके हाथों की उंगलियां तोड़ दी थी। बेरहमी से पिटाई के बाद इस कारोबारी से उसकी कंपनियों के मालिकाना हक अपने आदमियों के नाम लिखवाने के बाद अतीक अहमद ने उसकी फार्चुनर गाड़ी छीन ली थी और उसे जेल के बाहर फिंकवा दिया था।

इसे भी पढ़ें: उत्तर प्रदेश: योगी राज में बेकाबू माफिया अतीक, कारोबारी को अगवा कर जेल में पीटा, कंपनियां कब्जाई, जेल पर छापा

लोकप्रिय