अपराध

जेट एयरवेज के कर्मचारी ने छत से कूदकर दी जान, वेतन न मिलने से था परेशान

जेट एयरवेज के सीनियर टेक्निशियन शैलेश सिंह ने पालघर के नालासोपारा ईस्ट इलाके में स्थित 4 मंजिला इमारत से कूदकर अपनी जान दे दी। जेट एयरवेज एयरलाइन के स्टाफ और एंप्लॉयी असोसिएशन के मुताबिक शैलेश सिंह आर्थिक संकट से गुजर रहे थे।

फोटो: सोशल मीडिया

नवजीवन डेस्क

कुछ दिनों से बंद एयरलाइन कंपनी जेट एयरवेज के सीनियर टेक्निशियन ने 4 मंजिला इमारत की छत से कूदकर जान दे दी। बताया जा रहा है कि वो कैंसर की बिमारी से जूुझ रहे थे। वेतन न मिलने से आर्थिक तंगी के चलते भी तनाव में थे। मृतक का नाम शैलेश सिंह बताया जा रहा है। उन्होंने पालघर के नालासोपारा ईस्ट इलाके में स्थित 4 मंजिला इमारत से कूदकर अपनी जान दे दी। जेट एयरवेज एयरलाइन के स्टाफ और एंप्लॉयी असोसिएशन के मुताबिक शैलेश सिंह आर्थिक संकट से गुजर रहे थे।

बता दें कि जेट एयरवेज के करीब 20,000 कर्मचारियों को कई महीनों से वेतन नहीं मिली है। इतना ही नहीं पैसे के अभाव में जेट एयरवेज ने उड़ान भरना बंद कर दिया है। जेट के सभी विमान जमीन पर हैं। एक पुलिस अधिकारी के मुताबिक, 'वह कैंसर से जूझ रहे थे और इन दिनों उनकी कीमोथेरेपी चल रही थी। प्रारंभिक जांच में यह बात सामने आई है कि उन्होंने बीमारी से डिप्रेशन के चलते अपनी जान दे दी।'

कंपनी के कर्मचारियों और उनके परिवार वालों ने दिल्ली के जंतर-मंतर पर उनके शोक में कैंडल मार्च भी निकाला। बता दें कि पिछले दिनों एंप्लॉयीज ने पीएम मोदी से भी दखल देने की मांग करते हुए 20,000 लोगों की नौकरियां बचाने की अपील की थी।

जेट एयरवेज के कर्मचारियों के मुताबिक यह पहला मामला है जब किसी कर्मचारी ने कंपनी के बंद होने के बाद अपनी जान दे दी। बताया जा रहा है कि मृतक शैलेश सिंह के पुत्र भी जेट एयरवेज में ही कार्यरत थे। इस वजह से दोनों को ही वेतन नहीं मिल रही थी। उनका बेटा कंपनी के ऑपरेशंस डिपार्टमेंट में काम करता था। शैलेश सिंह अपने पीछे पत्नी, दो बेटों और दो बेटियों को छोड़ गए हैं।

लोकप्रिय