यूपी में जंगलराज! लखनऊ में वकील की बेरहमी से हत्या, प्रियंका गांधी बोलीं- क्या प्रदेश अपराधियों के हाथ में है?

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में एक अधिवक्ता की पीट-पीटकर हत्या कर दी गई। बिगड़ती कानून व्यवस्था को लेकर विपक्ष ने योगी सरकार को घेरा है। वहीं प्रियंका गांधी ने इस हत्याकांड पर पूछा कि क्या प्रदेश पूरी तरह से अपराधियों के हाथ में है?

सोशल मीडिया
सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

योगीराज में अपराधियों के हौसलें बुलंद हैं। हालात यह है कि प्रदेश में कोई भी सुरक्षित नहीं है। रोज दिनदहाड़े हत्या, लूट और बलात्कार हो रहे हैं। प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ कानून व्यवस्था को सुधारने का लाख दावे करते हो लेकिन हकीकत यह है कि यूपी की पुलिस अपराधियों के आगे नतमस्तक है। ताजा मामला लखनऊ से है। जहां वकील शिशिर त्रिपाठी को बेरहमी से पीटा गया, उसके बाद चाकू घोंपकर हत्या कर दी गई। इस घटना से साथी वकीलों में आक्रोश है।

खबरों के मुताबिक, मंगलवार रात शिशिर त्रिपाठी बाइक से घर लौट रहा था। 5 बदमाशों ने दामोदर नगर चौराहे पर उसे रोक दिया। जिसके बाद किसी पुराने मामले को लेकर दोनों में बहस शुरु हो गई। इसके बाद पांचों आरोपी ने शिशिर पर हमला बोल दिया और ईंट-पत्थर, डंडे से बेरहमी से पीटा। इसके बाद चाकू मार दिया। इससे शिशिर की मौके पर ही मौत हो गई।

मृतक वकील के पिता का रो-रोकर बुरा हाल है। वहीं पुलिस हत्या की वजह पुरानी रंजिश मान रही है। पुलिस ने इस मामले में एक आरोपी को गिरफ्तार किया है। पुलिस का कहना है कि बाकी चारों आरोपी फरार और उनकी जल्द गिरफ्तारी की जाएगी।

यूपी में बिगड़ती कानून व्यवस्था को लेकर विपक्ष ने योगी सरकार को घेरा है। विपक्ष ने कहा कि यूपी में जंगलराज है। वहीं कांग्रेस महासचिव प्रियंका धी ने ट्वीट कर कहा, “सोरांव के विजयशंकर तिवारी और शामली के अजय पाठक की हत्या के बाद अब लखनऊ में अधिवक्ता शिशिर त्रिपाठी की नृशंस तरीके से हत्या कर दी गई। क्या प्रदेश पूरी तरह से अपराधियों के हाथ में है? बीजेपी सरकार कानून व्यवस्था के बारे में पूरी तरह फेल है।” उन्होंने आगे कहा कि मैं इन सभी परिवारों की न्याय की लड़ाई में इनके साथ खड़ी हूं।

अपने साथी की हत्या में वकील लगातार प्रदर्शन कर रहे हैं। वहीं उनके प्रदर्शन में प्रगतिशील समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव पहुंचे हुए हैं।

हालात यह है कि योगी राज में कोई भी महफूज नहीं है। एक तो यूपी पुलिस के नाक नीचे अपराध में हो रहा है तो दूसरी ओर पुलिस पर कार्रवाई नहीं करने का भी आरोप लग रहा है। बाराबंकी में एक गैंगरेप पीड़िता ने फांसी लगाकर जान दे दी है। पुलिस की ओर से कार्रवाई नहीं करने से पीड़िता परेशान थी। बताया जा रहा है कि जहांगीराबाद के एक गांव की रहने वाली एलएलबी छात्रा ने लेखपाल समेत दो लोगों पर गैंगरेप का आरोप लगाया था। इस मामले में 2 सितंबर को केस दर्ज किया गया था, लेकिन अभी तक पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की। इससे परेशान होकर गैंगरेप पीड़िता ने फांसी लगाकर जान दे दी।

लोकप्रिय