खालिस्तान समर्थक अमृतपाल अभी भी फरार, अवैध हथियार मामले में नई प्राथमिकी दर्ज

पिछले महीने अमृतसर के अजनाला इलाके में एक थाने का घेराव करने के आरोप में गिरफ्तार किए गए अमृतपाल के सात साथियों को रविवार को एक अदालत ने 23 मार्च तक पुलिस हिरासत में भेज दिया है। वहीं उसके चार सहयोगियों को सुरक्षा कारणों से असम के डिब्रूगढ़ ले जाया गया।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

पंजाब में कट्टरपंथी खालिस्तान समर्थक और 'वारिस पंजाब डे' के प्रमुख अमृतपाल सिंह को भगोड़ा घोषित किए जाने के बाद दूसरे दिन रविवार को भी सघन अभियान के बावजूद पुलिस के हाथ खाली रहे। इस बीच आज पुलिस ने अवैध हथियार मामले में अमृतपाल और उसके साथियों के खिलाफ एक नई प्राथमिकी दर्ज की गई है। इसके अलावा उसके सात गिरफ्तार साथियों को पुलिस ने आज ब्यास कोर्ट में पेश किया जहां से उन्हें 23 मार्च तक न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया।

पंजाब पुलिस ने अमृतपाल के सहयोगियों के कब्जे से भारी मात्रा में हथियार और गोला-बारूद बरामद किया है, जिन्हें शनिवार को गिरफ्तार किया गया था। पुलिस ने शनिवार को अमृतपाल के खिलाफ एक बड़ी कार्रवाई शुरू की थी और वारिस पंजाब डे के 78 सदस्यों को गिरफ्तार किया था, जिसमें कट्टरपंथी संगठन के 6 से 7 बंदूकधारी शामिल थे। खालिस्तानी विचारधारा के फाइनेंस को संभालने वाले दलजीत सिंह कलसी को गुरुग्राम से गिरफ्तार किया गया था।

पिछले महीने अमृतसर के अजनाला इलाके में एक थाने का घेराव करने के आरोप में गिरफ्तार किए गए अमृतपाल के सात साथियों को रविवार को एक अदालत ने 23 मार्च तक पुलिस हिरासत में भेज दिया है। फरार कट्टरपंथी नेता के चार सहयोगियों को सुरक्षा कारणों से असम के डिब्रूगढ़ ले जाया गया। खबरों के मुताबिक, गिरफ्तार किए गए लोगों से पंजाब और असम पुलिस की संयुक्त टीम पूछताछ कर सकती है।

पंजाब के मुख्यालय आईजी सुखचैन सिंह गिल ने कहा कि पंजाब पुलिस कानून के दायरे में काम कर रही है। अमृतपाल सिंह अभी फरार है। अफवाहों और झूठी खबरों पर विश्वास न करें। हम सभी नागरिकों से शांति और सद्भाव बनाए रखने और घबराने की अपील नहीं करते हैं। मामले से जुड़े सूत्रों ने बताया कि पंजाब पुलिस राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (एनएसए) के प्रावधानों के तहत अमृतपाल सिंह के खिलाफ मामला दर्ज करने की योजना बना रही है।


इस बीच अमृतपाल की गिरफ्तारी की स्थिति में किसी अप्रिय घटना को रोकने के लिए पुलिस ने रविवार को सीआरपीएफ जवानों के साथ पूरे पंजाब में फ्लैग मार्च किया। वहीं जनता की सुरक्षा के हित में, सरकार ने सोमवार दोपहर तक वॉयस कॉल को छोड़कर एसएमएस और मोबाइल इंटरनेट सेवाओं के निलंबन को बढ़ा दिया है।

अमृतसर के पुलिस उपायुक्त परमिंदर सिंह भंडाल ने बताया कि पुलिस ने अमृतसर और उसके बाहरी इलाकों में वाहनों की जांच के लिए 100 चेक प्वाइंट बनाए हैं। चेक प्वाइंट पर पुलिसकर्मियों के साथ सीआरपीएफ के जवान भी तैनात हैं। शांति भंग की आशंका को देखते हुए अमृतसर जिले में अमृतपाल सिंह के पैतृक गांव जल्लूपुर खैरा के बाहर अर्धसैनिक बल की एक बड़ी टुकड़ी को तैनात किया गया है।

पुलिस आयुक्त कुलदीप सिंह चहल ने बताया कि अमृतपाल के वाहन का 20-25 किलोमीटर तक पीछा किया गया। उसका वाहन सामने था। हालांकि, वह अपना वाहन बदलकर भागने में सफल रहा। उसे पकड़ने के लिए राज्य के कई जिलों में धारा 144 लागू कर दी गई है। पुलिस ने पूरे पंजाब में भी सुरक्षा बढ़ा दी है। साथ ही पंजाब-हरियाणा बॉर्डर पर सभी वाहनों की चेकिंग की जा रही है।

इस बीच अमृतपाल के पिता तरसेम सिंह ने मीडिया से कहा है कि पुलिस को अमृतपाल के घर से निकलने से पहले ही उसे गिरफ्तार कर लेना चाहिए था। हमें उसके ठिकाने के बारे में कोई जानकारी नहीं है। उन्होंने हमारे आवास पर 3-4 घंटे तक तलाशी ली, लेकिन कुछ भी अवैध नहीं मिला। उन्होंने कहा कि पुलिस अपराधियों और नशीले पदार्थो के कारोबार में शामिल लोगों के खिलाफ कार्रवाई क्यों नहीं कर रही है?

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;