पंजाब पुलिस ने बताया क्यों हुई सिद्धू मूसेवाला की हत्या, लॉरेंस बिश्नोई ने उगले कई गहरे राज

मशहूर पंजाबी गायक सिद्धू मूसेवाला की हत्या की जांच कर रहे विशेष जांच दल कहा कि मुख्य साजिशकर्ता जेल में बंद गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नोई ने कबूल किया कि विक्की मिद्दुखेड़ा की हत्या का बदला लेने के लिए पिछले साल अगस्त में मारने की योजना बनाई गई थी।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

आईएएनएस

मशहूर पंजाबी गायक सिद्धू मूसेवाला की सनसनीखेज हत्या की जांच कर रहे विशेष जांच दल (एसआईटी) ने गुरुवार को कहा कि मुख्य साजिशकर्ता जेल में बंद गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नोई ने कबूल किया कि विक्की मिद्दुखेड़ा की हत्या का बदला लेने के लिए पिछले साल अगस्त में मारने की योजना बनाई गई थी। एंटी गैंगस्टर टास्क फोर्स के प्रमुख प्रमोद बान ने यहां मीडिया को बताया कि इस मामले में अब तक 13 लोगों को गिरफ्तार किया गया है, पहली गिरफ्तारी 30 मई को हुई थी।

कनाडा स्थित गोल्डी बरार, (जो बिश्नोई गिरोह का सदस्य है) ने हत्या की जिम्मेदारी ली थी।
बान ने कहा कि शूटर 25 मई को अपराध स्थल मूसा गांव के पास मानसा पहुंचे थे। पंजाब पहुंचने पर उन्हें कुछ हथियार मुहैया कराए गए। उन्होंने बताया कि हत्या में एके सीरीज की राइफलों का इस्तेमाल किया गया।

बान ने कहा, "आज हमने बलदेव उर्फ निक्कू को गिरफ्तार किया है, जो अपराध की रेकी करने में केकड़ा (संदीप सिंह) के साथ था। अब तक 13 लोगों को गिरफ्तार किया गया है।"



निक्कू ने केकड़ा के साथ इलाके का मुआयना किया, मूसेवाला का पीछा किया और शूटरों को संकेत दिया, इसके अलावा गोल्डी बरार और सचिन बिश्नोई को फोन करके मारे गए गायक की गतिविधियों के बारे में रीयल-टाइम अपडेट देने के लिए कहा।

उन्होंने कहा कि बिश्नोई, (जिसे राज्य पुलिस पिछले सप्ताह दिल्ली से पूछताछ के लिए पंजाब लेकर आई थी) ने पूछताछ के दौरान खुलासा किया कि हत्या की योजना पिछले साल शुरू हुई थी।

"उसने बरार, सचिन बिश्नोई (थापन) और उसके छोटे भाई अनमोल के साथ साजिश रचने की बात कबूल की है। हत्या से पहले कम से कम तीन रेकी की गई थी। जनवरी में, शूटरों के एक अन्य समूह ने मूसेवाला के घर का दौरा किया था।"

उन्होंने कहा कि हत्या के पीछे का मकसद, (जैसा कि बिश्नोई ने स्वीकार किया है) मिद्दुखेड़ा की हत्या का बदला लेना था। हमारी जांच के अनुसार, मिद्दुखेड़ा की हत्या में मूसेवाला का हाथ सामने नहीं आया था। लॉरेंस गिरोह द्वारा उसकी हत्या में मूसेवाला की भूमिका के बारे में एक धारणा थी।

पंजाब बान के अतिरिक्त महानिदेशक ने कहा कि पुलिस को विभिन्न गतिविधियों में गिरोह की मदद करने वाले सहयोगियों, हथियार आपूर्तिकर्ताओं, फाइनेंसरों और अन्य लोगों का विवरण मिला है। "विभिन्न जिला पुलिस ने इस गिरोह से जुड़े 19 लोगों को गिरफ्तार किया है।"

उन्होंने कहा कि बिश्नोई ने अपने भाई अनमोल और अपने करीबी सहयोगी सचिन थापन को बचाने के लिए एक सुनियोजित साजिश में और खुद को एक आदर्श बहाना बनाया, ताकि वह और उसके सहयोगी अपराध से ना जुड़े।


एडीजीपी ने कहा, "इस योजना को अंजाम देने के लिए उसने अपने भाई अनमोल बिश्नोई और सचिन थापन के फर्जी विवरणों पर पासपोर्ट हासिल किया और इस हत्या को अंजाम देने से पहले उन्हें देश से भगा दिया।"

उसने उन्हें विदेश में बसाया जहां से वे इस अपराध को देखे बिना या दोषी ठहराए बिना समन्वय, सुविधा और सफलतापूर्वक निष्पादित कर सकते थे।

अनमोल बिश्नोई का आपराधिक इतिहास रहा है और उसके खिलाफ 18 आपराधिक मामले दर्ज हैं। वह जोधपुर जेल में था, जहां से उसे 7 अक्टूबर 2021 को जमानत पर रिहा कर दिया गया था। उसने फर्जी विवरण के तहत अपना पासपोर्ट हासिल किया था।

इसी तरह, लॉरेंस बिश्नोई के करीबी सहयोगी और 12 आपराधिक मामलों के साथ आपराधिक अतीत वाले सचिन थापन ने भी फर्जी विवरण के तहत आरपीओ दिल्ली द्वारा जारी पासपोर्ट प्राप्त करने में कामयाबी हासिल की।

पूछताछ के दौरान बिश्नोई द्वारा किए गए खुलासे के आधार पर 20 जून को बिश्नोई और उसके सहयोगियों के खिलाफ एक अलग मामला दर्ज किया गया था।

एडीजीपी बान ने कहा, "इस गठजोड़ में अधिकारियों की भूमिका का पता लगाने के लिए एक गहरी जांच की जाएगी, जिसमें आपराधिक पृष्ठभूमि वाले व्यक्ति आरपीओ दिल्ली से फर्जी विवरणों पर पासपोर्ट प्राप्त करने और देश से भागने का प्रबंधन करते हैं। हमने उनके प्रत्यर्पण के लिए कार्रवाई शुरू कर दी है।"

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia