नोएडा: अंतर्राज्यीय लग्जरी वाहन चोर गिरोह का पर्दाफाश, 3 अपराधी गिरफ्तार, 17 लग्जरी गाड़ियां बरामद

नोएडा पुलिस को एक बड़ी कामयाबी हासिल हुई है। एंटी ऑटो थेफ्ट टीम और थाना सेक्टर-58 पुलिस ने एक संयुक्त रूप से कार्यवाही की, जिसमें एक अंतर्राज्यीय लग्जरी चार पहिया वाहन चोर गैंग नगालैंड के बहुचर्चित केतु गैंग का पदार्फाश करते हुए 3 आरोपियों को गिरफ्तार किया है।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

नोएडा पुलिस को एक बड़ी कामयाबी हासिल हुई है। एंटी ऑटो थेफ्ट टीम और थाना सेक्टर-58 पुलिस ने एक संयुक्त रूप से कार्यवाही की, जिसमें एक अंतर्राज्यीय लग्जरी चार पहिया (टैम्पर वाहन चोर) नगालैंड के बहुचर्चित केतु गैंग का पदार्फाश करते हुए 3 आरोपियों को गिरफ्तार किया है। पुलिस ने इनके कब्जे से 17 लग्जरी गाड़ियां भी बरामद की हैं। वहीं आरोपियों को गिरफ्तार करने वाली नोएडा सेक्टर-58 पुलिस की टीम को पुलिस उपायुक्त नोएडा द्वारा 25000 रुपये से पुरस्कृत भी किया गया है।

नोएडा एडिशनल डीसीपी रणविजय सिंह ने बताया कि ऑटो लिफ्टिंग की घटनाओं को देखते हुए एक प्लान किया, जिसमें ऑटो लिफ्टिंग गैंग को पकड़ना उद्देश्य था। बीते 7 महीनों में पुलिस ने करीब 15 गैंग पकड़े हैं। इस बार एनसीआर क्षेत्र के मास्टरमाइंड को पकड़ा है।

उन्होंने कहा कि आरोपियों से पूछताछ में पता चला कि नेटवर्किंग के जरिये से इधर की गाड़ियों को दूर तक पहुंचाते थे, कुछ लोग गाड़ियों को उठाने का काम करते थे, कुछ ट्रांसपोर्ट करते थे, कुछ शेल्टर, कुछ कबाड़ियों को बेच देते थे और कुछ लोग इन गाड़ियों की डीटेल्स को टेंपर करके नए गाड़ी के रूप में बाहर भेज देते थे।

पुलिस द्वारा साझा की गई जानकारी के अनुसार, अधिक्तर गाड़ियां यहां से नॉर्थ ईस्ट जाया करती थी, इसके अलावा गुजरात, कश्मीर आदि जगहों पर भेजा जाता था। इन सभी पर काम करने वाले गैंग को नोएडा पुलिस ने पदार्फाश किया है।


फिलहाल पुलिस ने अभी 3 आरोपियों को गिरफ्तार किया है जो कि हरियाणा निवासी है। ये सभी आरोपी इंश्योरेंस कंपनी के सर्वेयर से टाइअप करके टोटल लॉस की गाडियो की डिटेल इंश्योरेंस कंपनी से लेते थे। उसके बाद ये लोग ऑटो लिफ्टर के संपर्क में आने के बाद ऑन डिमांड उसी तरह की गाड़ियां मंगाकर और पूरी तरह से डेटा को डालकर उस गाड़ी को यहां से बाहर भेज दिया करते थे।

आरोपियों का बहुत बड़ा गैरेज भी बनाया हुआ है, पुलिस ने इनके गैरेज से 17 लग्जरी गाड़ियां बरामद की हैं। आरोपी ऐसी प्रक्रिया अपना रहे थे, जिससे लगे कि ये सभी ऑथेंटिक हैं। फिलहाल पुलिस आरोपियों को गिरफ्तार कर पूछताछ कर रही है। यह गैंग कुछ अलग तरह की गतिविधियों में भी शामिल है, जिनका पता लगाया जा रहा है।

पुलिस द्वारा पकड़ा गया आरोपी अमित ने पहले भी चंडीगढ़, रोहतक से काफी मात्रा में लग्जरी कार बरामद करवाई थीं, जिसके संबंध में वह पहले भी जेल जा चुका है और नोएडा के थाना सेक्टर-20 की एक स्कार्पियो चोरी में भी जेल गया था। जेल से आते ही इस आरोपी ने अपने सहयोगी संदीप सिंह और अजमेर सिंह यादव के साथ मिलकर फिर से गाड़ियां चुराना शुरू कर दिया। उसे पुलिस ने अमित के साथ गिरफ्तार कर लिया है।

गिरफ्तार हुए तीनों आरोपियों में से अमित एथलीट व गोलाफेंक खिलाड़ी रहा है, आरोपी अजमेर यादव रेसलिंग का प्लेयर रहा है और आरोपी संदीप भी एथलीट व गोलाफेंक खिलाड़ी रहा है।

हालांकि पुलिस को इनके पास से एक डायरी बरामद हुई है, जिसमें लगभग काफी गाड़ियों का विवरण अंकित है, जिनका नंबर टैम्पर्ड कर गाड़ियां हरियाणा, दिल्ली, पंजाब, गाजियाबाद व मेरठ में चलाई जा रही हैं।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia