PMC बैंक के एक खाताधारक की हार्ट अटैक से मौत, बैंक में फंसे हैं 90 लाख रुपए

पंजाब एंड महाराष्ट्र को-आपरेटिव (PMC) बैंक घोटाले के शिकार हजारों लोग हुए हैं। इन्हीं में से एक थे संजय गुलाटी। सोमवार को संजय किल्ला कोर्ट के सामने प्रदर्शन में भी शामिल थे। लेकिन दोपहर को जब वह घर आए तो उन्हें दिल का दौरा पड़ गया। संजय गुलाटी का आज अंतिम संस्कार किया जाएगा।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया

नवजीवन डेस्क

पंजाब एंड महाराष्ट्र को-आपरेटिव (PMC) बैंक घोटाले के शिकार हजारों लोग हुए हैं। इन्हीं में से एक थे संजय गुलाटी। संजय का खाता भी पीएमसी बैंक में है। उनके परिवार का इस बैंक में 90 लाख रुपए फंसे हैं। वो इस सदमे को बर्दाश्त नहीं कर पाए और दिल का दौरा पड़ने से उनकी मौत हो गई। संजय की पहले जेट एयरवेज से नौकरी चली गई थी, और अब सभी जमा पूंजी फंस गई थी।बता दें कि सोमवार को संजय किल्ला कोर्ट के सामने प्रदर्शन में भी शामिल थे। लेकिन दोपहर को जब वह घर आए तो उन्हें दिल का दौरा पड़ गया। संजय गुलाटी का आज अंतिम संस्कार किया जाएगा।

बता दें कि, पंजाब एंड महाराष्ट्र को ऑपरेटिव बैंक में ग्राहकों का 11500 करोड़ रुपया जमा है, बैंक की ब्रांच पंजाब, महाराष्ट्र, दिल्ली और गोवा में भी हैं। पीएमसी बैंक की 137 शाखाएं हैं और यह देश के टॉप-10 को-ऑपरेटिव बैंकों में से एक है। आरोप के मुताबिक पीएमसी बैंक के मैनेजमेंट ने अपने नॉन परफॉर्मिंग एसेट और लोन वितरण के बारे में आरबीआई को गलत जानकारी दी है।जिसके बाद आरबीआई ने बैंक पर कई तरह की पाबंदी लगा दी। जिसके बाद पीएमसी बैंक के डूबने की खबरें फैलते ही लोग पैसे निकालने के लिए बैंक में उमड़ पड़े थे, जिससे अफरा-तफरी मच गई थी।

केंद्रीय बैंक ने 23 सितंबर को पीएमसी बैंक पर कई तरह की पाबंदियां लगाई थी। उसी समय प्रति ग्राहक छह माह में केवल 1,000 रुपये निकासी की सीमा तय की गई थी। बाद में इसे 25,000 रुपए कर दिया गया था। वहीं अब भारतीय रिजर्व बैंक ने घोटाले में घिरे पंजाब एंड महाराष्ट्र को-आपरेटिव (पीएमसी) बैंक के बचत खाताधारकों के लिए छह माह में निकासी की सीमा 25,000 रुपये से बढ़ाकर 40,000 रुपये कर दी है। यह तीसरी बार है जबकि रिजर्व बैंक ने पीएमसी के ग्राहकों के लिए प्रति खाता निकासी की सीमा बढ़ाई है।

लोकप्रिय