रोहित गोदारा ने ली राजपूत करणी सेना अध्यक्ष की हत्या की जिम्मेदारी, जानें कौन है और क्या है उसका इतिहास

बीकानेर का रहने वाला गोदारा 2022 में फर्जी नाम से पासपोर्ट बनवाकर देश से भाग गया था। वह कथित तौर पर 2019 में चूरू के सरदारशहर में भींवराज सारण की हत्या के मामले में भी मुख्य आरोपी था। गोदारा ने गैंगस्टर राजू ठेठ की हत्या की भी जिम्मेदारी ली थी।

कौन है राजपूत करणी सेना के अध्यक्ष की हत्या की जिम्मेदारी लेने वाला रोहित गोदारा
कौन है राजपूत करणी सेना के अध्यक्ष की हत्या की जिम्मेदारी लेने वाला रोहित गोदारा
user

नवजीवन डेस्क

लॉरेंस बिश्‍नोई गिरोह से जुड़े गैंगस्टर रोहित गोदारा ने मंगलवार को राजस्थान की राजधानी जयपुर में राष्ट्रीय राजपूत करणी सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष सुखदेव सिंह गोगामेड़ी की हत्या की जिम्मेदारी ली है। दरअसल गोदारा बिश्‍नोई का गुर्गा है और पुलिस ने उस पर 1 लाख रुपये का इनाम भी घोषित कर रखा है। हालांकि वह देश से फरार बताया जा रहा है।

हिंदी में एक फेसबुक पोस्ट में उसने कहा, "सभी भाइयों को राम राम, मैं रोहित गोदारा कपूरीसर, गोल्डी बराड़। भाइयों, आज सुखदेव गोगामेड़ी की हत्या कर दी गई। हम इसकी पूरी जिम्मेदारी लेते हैं। यह हत्या हमने कराई है। भाइयों, मैं आपको बताना चाहता हूं कि जो हमारे दुश्मनों मी मदद करते हैं और उन्हें मजबूती देते हैं, उन्हें अपने घर के दरवाजे पर अपनी अर्थी तैयार रखनी चाहिए और वे यह समझ लें कि जल्द ही उनसे मुलाकात भी होगी।"


गोगामेड़ी की हत्या की जिम्मेदारी लेने वाला गोदारा गैंगस्टर लॉरेंस बिश्‍नोई का गुर्गा है और पुलिस ने उस पर 1 लाख रुपये का इनाम घोषित कर रखा है। बीकानेर का रहने वाला गोदारा 2022 में फर्जी नाम से पासपोर्ट बनवाकर देश से भाग गया था। वह कथित तौर पर 2019 में चूरू के सरदारशहर में भींवराज सारण की हत्या के मामले में भी मुख्य आरोपी था। गोदारा ने गैंगस्टर राजू ठेठ की हत्या की भी जिम्मेदारी ली थी।

वहीं 2006 में लोकेंद्र सिंह कालवी द्वारा स्थापित किए जाने के बाद गोगामेड़ी लंबे समय तक श्री राजपूत करणी सेना से जुड़े रहे, 2008 में इसके विभाजन के बाद जब इसके अध्यक्ष अजीत सिंह मामडोली ने पार्टी छोड़ दी और अपनी श्री राष्ट्रीय राजपूत करणी सेना समिति का गठन किया, तब गोगामेड़ी को इसका अध्यक्ष बनाया गया। हालांकि, बाद में कालवी और गोगामेड़ी के बीच विवाद हो गया और कालवी को हटा दिया गया।


इसके बाद गोगामेड़ी ने श्री राष्ट्रीय राजपूत करणी सेना का गठन किया। स्थानीय लोगों ने बताया कि गोगामेड़ी को पहले भी कई बार धमकियां मिल चुकी थीं और उन्होंने पुलिस से शिकायत की थी कि उनकी जान को खतरा है। गोगामेड़ी की पत्‍नी जब कॉलोनी के मंदिर में पूजा करने जाती थीं तो उनके साथ निजी बंदूकधारी भी होते थे। लेकिन सुरक्षा के सारे इंतेजाम के बावजूद आज अपराधियों ने उनके घर में घुसकर उनकी हत्या कर दी और फरार हो गए।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;