विदिशा में सरकारी कार्यालय के बाहर RTI कार्यकर्ता की गोली मारकर हत्या, 'मध्य प्रदेश में काम करना खतरनाक'

भोपाल के एक आरटीआई कार्यकर्ता ने नाम जाहिर न करने की शर्त पर कहा, "आरटीआई कार्यकर्ताओं को दैनिक आधार पर धमकाया जा रहा है और मध्य प्रदेश में काम करना खतरनाक होता जा रहा है।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

मध्य प्रदेश के विदिशा जिले में गुरुवार को सूचना के अधिकार (आरटीआई) कार्यकर्ता की गोली मारकर हत्या कर दी गई। पुलिस ने यह जानकारी दी। भोपाल से लगभग 60 किलोमीटर दूर विदिशा में हुई घटना ने इलाके के निवासियों में दहशत पैदा कर दी, क्योंकि दिन के उजाले में एक सरकारी कार्यालय से बाहर निकलते ही रंजीत सोनी की गोली मारकर हत्या कर दी गई।

घटना की सूचना मिलते ही स्थानीय पुलिस मौके पर पहुंच गई।

विदिशा के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक समीर यादव ने पत्रकारों को बताया कि पीड़िता कुछ दस्तावेज लेने के लिए जनपद पंचायत कार्यालय गई थी।

पुलिस ने कहा कि जब वह कार्यालय से बाहर निकल रहा था और गेट पर पहुंचा, तो एक अज्ञात बंदूकधारी ने उसकी गोली मारकर हत्या कर दी।

पुलिस ने आरोपियों की पहचान के लिए सीसीटीवी फुटेज की जांच शुरू कर दी है। एएसपी ने कहा, "मामला दर्ज कर लिया गया है और आरोपियों की तलाश के लिए पुलिस टीमों को तैनात कर दिया गया है।"

इस साल फरवरी में मध्य प्रदेश के ग्वालियर जिले में एक दलित आरटीआई कार्यकर्ता को पीटा गया और पेशाब पीने के लिए मजबूर किया गया।


2017 में ग्वालियर के पड़ोसी मुरैना जिले में कुछ अज्ञात लोगों ने एक आरटीआई कार्यकर्ता का अपहरण कर लिया और पीट-पीट कर मार डाला।

भोपाल के एक आरटीआई कार्यकर्ता ने नाम जाहिर न करने की शर्त पर कहा, "आरटीआई कार्यकर्ताओं को दैनिक आधार पर धमकाया जा रहा है और मध्य प्रदेश में काम करना खतरनाक होता जा रहा है। हम आरटीआई कार्यकर्ताओं की रक्षा के लिए व्हिसलब्लोअर अधिनियम को लागू करने की मांग कर रहे हैं।"

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia