सिद्धू मूसेवाला को लगातार मिल रही थीं धमकियां, फिर भी AAP सरकार ने हटाई सुरक्षा, उठे गंभीर सवाल

सिद्धू मूसेवाला के पिता ने सीएम भगवंत मान को लिखे पत्र में मांग की है कि उनके बेटे की हत्या की जांच या तो हाईकोर्ट के किसी सिटिंग जज या फिर #NIA द्वारा कराई जाए। उनकी मांग पर सीएम मान ने आज हाईकोर्ट के सिटिंग जज से हत्याकांड की जांच कराने का आदेश दिया है।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

पंजाबी गायक सिद्धू मूसेवाला की हत्या मामले में उनके पिता बलकौर सिंह ने जो एफआईआर दर्ज कराई है उसमें कहा है कि उनके बेटे को गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नोई से लगातार धमकियां मिल रही थीं। इसके बावजूद आप की भगवंत मान सरकार ने मूसेवाला की सुरक्षा वापस ले ली थी, जिस पर गंभीर सवाल खड़े हो रहे हैं। गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नोई के साथी गोल्डी बराड़ ने सिद्धू मूसेवाला की हत्या की जिम्मेदारी ली है।

मूसेवाला के पिता बलकौर सिंह ने कहा कि उनके बेटे को गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नोई ने कई बार धमकियां दी थीं। लगातार मिल रही धमकियों की वजह से उन्होंने बुलेटप्रूफ कार खरीदी थी। लेकिन रविवार को सिद्धू जब अपने दो दोस्तों के साथ निकले तो बुलेटप्रूफ कार और गनमैन दोनों उनके साथ नहीं थे। वे एसयूवी थार ले कर गए थे।

सिद्धू मूसेवाला को लगातार मिल रही थीं धमकियां, फिर भी AAP सरकार ने हटाई सुरक्षा, उठे गंभीर सवाल

बलकौर सिंह ने कहा कि वह दूसरी गाड़ी से उसके पीछे गए थे। रास्ते में उन्होंने देखा कि एक कोरोला गाड़ी मूसेवाला का पीछा कर रही थी। उन्होंने बताया कि जब मूसेवाला जवाहरके गांव के पास पहुंचे, तो वहां पहले से खड़ी सफेद रंग की बोलेरो उनका इंतजार कर रही थी। उसमें चार युवक सवार थे।

पिता ने बताया कि अचानक उन्होंने मूसेवाला पर गोलीबारी शुरु कर दी। गोलीबारी के चंद मिनटों बाद बोलेरो और कोरोला सवार मौके से फरार हो गए। उन्होंने बताया कि वह वहां पहुंचे और अपने बेटे के साथ-साथ उसके दोनों दोस्तों को मनसा सिविल अस्पताल ले गए, लेकिन उसे बचा नहीं सके।

29 वर्षीय गायक के पिता ने मुख्यमंत्री भगवंत मान को लिखे पत्र में मांग की है कि उनके बेटे की हत्या की जांच या तो उच्च न्यायालय के किसी सिटिंग जज द्वारा हो या फिर राष्ट्रीय जांच एजेंसी द्वारा की जाए। उनकी इस मांग पर सीएम भगवंत मान ने आज हाईकोर्ट के सिटिंग जज से हत्याकांड की जांच कराने का आदेश दिया है। पंजाब पुलिस ने हत्या और आर्म्स एक्ट के तहत एफआईआर दर्ज की है।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;