ये है योगी की पुलिस का असली चेहरा! चौकी के अंदर युवक को जमकर पीटा, हुई मौत, परिजनों ने लगाए गंभीर आरोप

लड़के के परिवार ने आरोप लगाया कि पुलिस मारपीट में सीधे तौर पर शामिल थी। लखीमपुर खीरी के एसएसपी संजीव सुमन ने कहा कि हम पुलिसकर्मियों के खिलाफ शिकायत की जांच कर रहे हैं और दोषी पाए जाने पर किसी को भी नहीं बख्शा जाएगा।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

विनय कुमार

उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी के एक अस्पताल में मोबाइल चोरी के संदेह में एक 17 वर्षीय लड़के को कथित रूप से उसके चाचा और तीन पुलिसकर्मियों ने एक पुलिस चौकी के अंदर बेरहमी से पीटा। जिसके बाद उसकी मौत हो गई। चौकी प्रभारी कार्यालय समेत तीन पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया गया है।

लड़के के परिवार ने आरोप लगाया कि पुलिस मारपीट में सीधे तौर पर शामिल थी। लखीमपुर खीरी के एसएसपी संजीव सुमन ने कहा कि हम पुलिसकर्मियों के खिलाफ शिकायत की जांच कर रहे हैं और दोषी पाए जाने पर किसी को भी नहीं बख्शा जाएगा।

सोशल मीडिया पर अब वायरल हो रहे एक वीडियो में लड़के के परिवार वाले एक वरिष्ठ पुलिसकर्मी को लड़के के शरीर पर बाहरी चोट के निशान दिखा रहे हैं। पलिया सर्कल ऑफिसर (सीओ), संजय नाथ तिवारी ने कहा कि पोस्टमॉर्टम सोमवार को किया जाएगा और रिपोर्ट हमें मौत के कारण का पता लगाने में मदद करेगी।

"लड़के के परिवार ने दो शिकायतें दर्ज की हैं और हमने उसके चाचा राम बहादुर और पड़ोसी राजवीर सिंह के खिलाफ आईपीसी की धारा 304 (गैर इरादतन हत्या) के तहत प्राथमिकी दर्ज की है। दूसरी शिकायत एक सब-इंस्पेक्टर और दो कांस्टेबल के खिलाफ है। हम मामले की विस्तार से जांच कर रहे हैं और इसके अनुसार संबंधित पुलिस वालों के खिलाफ कार्रवाई करेंगे।"

लड़के की बड़ी बहन ने आरोप लगाया कि उसकी मौत से एक दिन पहले उसके भाई ने उसे बताया कि उसे 'कबूलनामे' के लिए पुलिस ने पीटा था।

घटनाओं के क्रम के बारे में बताते हुए, उसने कहा, "पुलिस मेरे भाई के लिए हमारे घर आई थी। मेरी मां उसके साथ पास की पुलिस चौकी में गई और उसे घर वापस भेज दिया गया। कुछ घंटों के बाद, हमें अपने भाई को लेने के लिए फोन आया। लेकिन जब मेरे माता-पिता वहां पहुंचे, तो उन्होंने उसे बुरी तरह पीटा और दर्द से रो रहा था। उसने कहा कि उसे पुलिस और मेरे चाचा ने बेरहमी से पीटा था। वे उसे घर ले आए और जब उसकी हालत बिगड़ गई, तो उसे पलिया शहर के एक अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां उसे इलाज के दौरान दम तोड़ दिया।

लड़का किसान लक्ष्मी राम का इकलौता बेटा था और चार भाई-बहनों में सबसे छोटा था। 17 जनवरी को, उसके चचेरे भाई का मोबाइल फोन गायब हो गया था। जिसके बाद उसके चाचा राम बहादुर ने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई और पुलिस 19 जनवरी को लड़के के घर पहुंची और उसे खजुरिया पुलिस चौकी ले गई जहां घटना हुई थी।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia